Sunday, 10 January 2016

Sunny Leone' joke .......... Sunny Leone and Glass ka doodh ..........

Sunny Leone's mom: Beti glass ka
doodh pee lo... :
.
.
Sunny: No mumma,
mujhe nahi peena.
. .
Maa: Beti agar doodh
nahi piyogi to badi
kaise hogi?
.
.
.
Sunny: maa aapko bhi toh doodh
pasand
nahi,
.
phir
bhi aap badi ho gayi,
.
Main bhi nahi piyungi
to
badi
ho jaungi.
. .
.
.
Maa: Achi bachiyan zid nahi karti, Agar
meri achi
beti ho to doodh pee lo, warna main
tum se
naraaz ho jaungi.
.
.
.
Sunny: OK mama, aap kehti hain toh
main doodh
pee leti hoon..gut....gut...gut... .
.
.
Aur is tarah Sunny ne doodh pee liya..
.
.
Sunny Leone ka naam sunte hi
message end tak
kitne gaur se padh
rahe the
.
.
.
Bas karo darindo... . /
.
Soch Badlo...
.
.
Toh Desh Badlega.. .
.
.
.
Akela MAIN or MODI kya-kya karenge

संक्रान्ती के लिए आवश्यक सामग्री ....पतंग के संस्कार ........

संक्रान्ती के लिए आवश्यक सामग्री
.
.
.

बेनडेड --धागे से हाथ कटे तो

सेलो टेप --पतंग फटने पर

दो चश्में --एक भरी दोपहर में डार्क वाला और एक ढलते सूरज की लाईट में

गरबे का डंडा -- धागा के कोण में चकरी बनाने में

टोपी /मास्क/रूमाल --धुप से बचने के लिए 
( केवल वरिष्ठ पतंग बाजों के लिए)

एक पेन ड्राइव -- गाने बजा के माहोल गरम करने के लिए और हो सके तो शाम के लिए पटाखें ।


अतिरिक्त पॉइंट्स :--

🏽काले पतंग शाम में उड़ाने के लिए

🏽स्पोर्ट्स शूज पहनें पर सोल की ग्रीप कंगूरेदार न हो --ताकि एक दुसरे की धागा पाँव में न उलझे ।

 2 इंच लम्बी एक तीली -- तंग बाँधने के लिए

🏽तंग बाँधने के लिए अपनी पतंग के अनुरूप डबल धागे जॉइंट करके एक पोलिथिन में रख लें ताकि धागा नापनें में समय बचे ।

🏽सुबह हल्का और एनर्जेटिक आहार लें ताकि खींचने में हाथ अच्छे चल सके ।

🏽जेब में चोकलेट रखें लंच के लिए टाइम न मिल पाए तो एनर्जी मेंटेन रहे ।

🏽एक दिन पहले रात को दूध जरूर पियें 
( फुर्ती के लिए )

🏽भोजन में सलाद में गाजर और एप्पल जारूर खाएं ताकि शार्प आँखों से धागा देख सकें।

सभी वरिष्ठ पतंग बाज आगे आने वाली जनरेशन को पतंग के संस्कार अवश्य दें....।।

🏽जो छत की शान के रूप में जानें जाते हे ऐसे सम्माननीय बन्धु अगर जिम जाते हों तो जिम में चिनिंग और डम्बल्स पर ध्यान दें ताकि कंधे के जॉइंट्स फ्री चलें और हाथों के पंजे टाईट हो ताकि खींच में पेच लड़ाते वक्त धागन पर कांफिडेंस बना रहेG
.
.

।। इति पतंग बाजी महात्म्य सम्पूर्णम ।।

  मकर संक्रांति की अग्रीम बधाई