Thursday, 24 November 2016

Modi & नोटबंदी पर मजेदार चुटकुले

नोटबंदी पर मजेदार चुटकुले 

 Recent advances in Medicine for management of Acute Retention of Urine,and Constipation:-
No need for hot/cold compressions or catheterisation.or,any laxative
Just play the audio/video of N.M. saying-
"मेरे प्यारे भाइयों और बहनों "....
Immediate relief.
😨😨😨😱😱😱
.
.
.
.
 🙏🏼💶🙏🏼🎅🏻
"मोदी देश के ऐसे
      पहले पी.एम. बने है...✍👍
जिनके कार्यकाल में आप
डेबिट और क्रेडिट कार्ड के अलावा
शादी के कार्ड से भी
पैसे निकाल सकते हैं🙆🏻😜" 😂
😜😜😜😜😜😜😜😜😜😜
.
.
.
.
.
 *एक ने पूछा की क्या आप नोट बँद होने के फैसले के बाद भी मोदी को वोट दोगे ?*
*मैने कहा - ऐसे फैसले लेने के लिये ही तो पहले वोट दिया था उनको ।*
.
.
.
.
Me: My wife takes care of me like a Rs 2000/- note
friend: Wow. That's really very respectful..!
Me: mmm. She shouts at me "I can neither change you nor throw you"..!!
.
.
.
.
.
सुना था
शरीर चला जायेगा,,,
माया यहीं रह जायेगी
लेकिन
शरीर रह गया
और माया चली गई,,,,,😜
.
.
.
.
 एक बुड्ढा आदमी को नोट बदलने बॆंक की लम्बी लाइन मे लाठी के सहारे खड़ा देख कर मीडिया का एक रिपोर्टर बुड्ढे के पास जाकर कहा कितने साल के हो बाबा बुड्ढे ने बताया 84 साल।
रिपोर्टर--  नोट बदलने बेटों को भेज दिया होता।
बुड्ढा -- मेरी ऒलाद नही हॆ।
रिपोर्टर---ओ हो तो इस बुढापे मे मोदी जी की वजह से अाप को कष्ट झेलने पड़ रहे हॆ।
बुड्ढा --- नही बेटा मॆ नोट बदलने नही मॆ देश बदलने के लिए लाइन मे खड़ा है।
रिपोर्टर---बाबा अगर अगर देश बदल भी गया तो आप कितने  दिन ऒर जियोगे ऒर अाप के बच्चे  भी नही। फिर किसके लिए।
बुड्ढा --- मॆने इस देश मे बचपन जवानी, बुढ़ापा बिताया  क्या मेरी कोई भी  जिम्मेवारी नही बनती  कि हम देश की चिन्ता करे ।अब मोदी के कॊन बाल बच्चे हॆ जो उसने इतना बड़ा खतरा मोल ले लिया।
                                  । जय हिन्द ।
.
.
.
.
 *हज़ार-पाँच सौ के दोहे:*
(Forwarding some1 else post.)
*'छुट्टे' कहें 'हज़ार' से, काहे अकड़ दिखाय।*
*क्या जाने कब फेंकना, रद्दी में पड़ जाय।।*
घरवाला क्या जान सके, घरवाली की पीर ।
रात रायता हो गई, दिन-दिन जोड़ी खीर ।।
*रातों-रात बदल गयी, बस्ती की तस्वीर।*
*साहब ठन-ठन हो गए, धनपति हुए फ़क़ीर।।*
सौ, हज़ार दोऊ पड़े, काको लियूँ उठाय।
क़ीमत सौ के नोट की, मोदी दियो बताय।।
*लंबी लाइन में खड़े, कितनों के अरमान।*
*सकल बैंक तीरथ हुए, एटीएम भगवान।।*
काले धन को रोकने,सभी लगाएँ ज़ोर ।
डाल-डाल कानून है, पात-पात पर चोर।।
*लाख टके के प्रश्न पर, हर कोई है मौन।*
*दो हज़ार के नोट की, रिश्वत रोके कौन?*
थैलसीमिया-सा करे, काला-धन व्यवहार।
'ख़ून' बदलना है फ़क़त, अस्थायी उपचार।।
*मोदी जी सुन लीजिये, 'ठाकुर' की अरदास।*
*जल्दी नोट छपाइये, बचा न कुछ भी पास।।*
🙏🏻✨🙏🏻✨🙏🏻✨🙏🏻✨🙏🏻✨🙏🏻
.
.
.
.
.
एक advocate अपनी शादी का कार्ड लेकर बैंक पंहुचा,
तब मैनेजर ने नियमानुसार उसे 2.5 लाख उसके खाते से निकाल दिए..
सात दिन बाद वही व्यक्ति फिर शादी का कार्ड लेकर पंहुचा तो मैनेजर ने पूछा अरे "वकील साहब अब किसकी किसकी शादी है?"
Advocate बोला--अबे किसकी क्या मेरी शादी ही है !
हैरत से मैनेजर बोला "वो हफ्ते भर पहले किसकी शादी थी?"
Advocate बोला -"वो मेरी ही शादी ही थी"
मैनेजर बोला -ऐसे कैसे.....?
Advocate बोला--"बावले पहली शादी से तलाक़ हो गया,ले तलाक़ के पेपर।
मैनेजर आश्चर्य से बोला- लेकिन इस बार भी लड़की उसी नाम की है,
Advocate बोला--अबे..उसी नाम की नहीं,वही है,उसी को तलाक़ देकर उसी से शादी कर रहा हूँ" क्यों तुझे कोई दिक्कत है ?"
Advocate को पैसे देने के बाद मेनेजर बेहोश हो गया.....

No comments:

Post a Comment