Friday, 5 February 2016

Hindi Jokes & Chutkule

 प्रोफेसर:- तुम यहां काॅलेज कैंपस...
में इस तरह दारु नहीं...
पी सकते...
:
:
:
छात्र:- मैं दलित हूं।
:
प्रोफेसर:- माफ कीजिएगा सर..
नमकीन भी भिजवाऊं..
क्या?
.

.
.
.
सीता से प्यार किया तो राम बन गये
राधा से प्यार किया तो श्याम बन गये
 जबरदस्ती प्यार किया तो आशाराम.......
.

.
.
.
 शराबियों की दावत!
एक शराबी ने दोस्तों की दावत
का प्रोग्राम बनाया, और अपने
ही घर से रात को बकरा चोरी किया।
रात को अपने दोस्तों के साथ खूब
दावत का मजा लिया और सुबह जब घर
पहुंचा तो बकरा घर में ही था।
यह देख उसने बीवी से पूछा, "ये
बकरा कहाँ से आया?"
बीवी बोली, "बकरे को मारो गोली,
ये बताओ रात को तुम चोरों की तरह
कुत्ते को कहाँ ले गए थे?".

.
.
.
.
लखनवी बच्चों की लड़ाई हो रही थी।
पहला:
देखिए अगर आप हमारी बात से इत्तेफ़ाक़ नहीं करेंगे तो हम आपकी वालिदा मोहतरमा की शान में गुस्ताख़ कलिमात पेश करेंगे।

दूसरा:
हज़ूर अगर आपने इस क़दर जलालत की जुर्रत की तो फ़िर हम भी आपके रुखसार मुबारक पे ऐसा तमाचा रसीद करेंगे कि गाल-ए-मुबारक बन्दर की तशरीफ़ की मानिंद सुर्ख हो उठेगा।

इसे कहते हैं तहजीब !!
.

.
.
.
मरीज: डॉक्टर साहब कब्ज़ होने की गोली दीजिये।
डॉक्टर: क्यों?
मरीज: डॉक्टर साहब दाल खायी है और इतनी महंगी दाल खाके निकालने का मन नही कर रहा।
डॉक्टर: रूक टाँके ही लगा देता हूँ।







No comments:

Post a Comment