Popads

Thursday, 19 November 2015

Aishwarya Rai Bachchan's Most Ever Bold & Controversial Bikini Scenes

हिंदी मजेदार लव जोक्स & चुटकुले

हिंदी मजेदार लव जोक्स & चुटकुले 

कई दुकानदार अखबारों को काट कर लिफाफे बना लेते हैं. 
पर कई दफा जोड़ लगाते समय दो अखबारों की खबरें इस तरह जुड़ जाती हैं कि उनके मतलब कुछ और के और ही बन जाते हैं !
कुछ नमूनें देखें:
1. अमरीका के राष्ट्रपति....कानपुर के पास चोरी की भैंसों समेत गिरफ्तार !
2. अमरीकी फौजों द्वारा इराक की जेलों में....चमेली बाई के साथ भंगड़े की क्लासें 23 जुलाई से शुरू !
3. अफगानिस्तान की जेलों में छिपे लादिन को....पंजाब सरकार की ओर से बुढ़ापा पैन्शन देने का एलान !
4. मुख्यमंत्री के घर पर....भैंस ने छ: टाँगों वाले बच्चे को जन्म दिया !
5. अपने हरमन प्यारे नेता को वोट डालकर....मर्दाना ताकत हासिल करें !
6. अटल बिहारी वाजपाई ने ज़ोर देकर कहा....एक सुन्दर और सुशील कन्या की ज़रूरत !
7. तिहाड़ जेल से छ: कैदी फरार....भारत को ओलंपिक्स में सोने के तमगे की उम्मीद !
8. क्या आपकी नज़र कमज़ोर है? आज ही आऐं....ठेका देशी शराब !
9. बेऔलाद दंपत्ति परेशान न हों....7 तारीख को आ रहे हैं लालू प्रसाद आपके शहर में !!.
.
.
.
.
.
एक गांव में दो अफीमची रहते थे, नकारा होने के कारण लोग उन्हें हिकारत की नजरों से देखते थे।
आखिरकार उन्होंने कुछ करने का फैसला किया।
पहला : ये सामने वाली जमीन में गन्ना लगाते हैं।
दूसरा : तू इन गांव वालों को जानता नहीं है, सारे गन्ने ये चूस लेंगे।
पहला : तू सही कहता है, पहले इनका ही इलाज कर देते हैं।
दोनों ने गांव की झोपड़ियों में आग लगा दी।
सब चीखते-चिल्लाते हुए आग बुझाने में लगे थे।
और दोनों एक टीले
पर बैठ कर चिल्ला रहे थे, ‘और चूसो गन्ना...।’
.
.
.
.
लड़की: एक बात सुनो तुम मेरे लिए क्या कर
सकते हो?
.
लड़का: जो तुम कहो डार्लिंग। .
लड़की: क्या चाँद ला सकते हो? .
लड़का गया और कुछ चीज़ छिपा कर लाया और
लड़की से कहा आँखे बंद करो। और वो चीज़
लड़की के हाथो में दी। फिर लड़की से आँखे
खोलने को कहा।
.
.
.
.
.
.
.
.
लड़की की आँखों में आंसू थे। क्योकि उसकी
हाथो में एक आइना था जिसमे उस लड़की का
चेहरा नज़र आ रहा था।
लड़की: तुम मुझे चाँद सा समझते हो? लड़का
बोला, "नहीं मैं तो तुझे सिर्फ ये समझा रहा था
जिस मुँह से चाँद मांग रही हैं वो थोबड़ा कभी
आईने में भी देखा था या नहीं?" हंसों दोस्तों
अब।
.
.
.
.
.
 Ek ziddi murge ko uske maalik
ne pinjre main bandh kar diya.
.
Murga itna ziddi tha ki peeche
ke raaste se bahar aa gaya.
.
Maalik ne usko fir se pinjre
main bandh kar diya.
.
Lekin murga toh ziddi tha ,
Woh phir se peeche ke raaste se
bahar aa gaya.
.
Uske malik ko gussa aaya.
Woh murge ko kaat ke,
paka ke, kha gaya.
.
Lekin Murga to ziddi tha!
.
.
.
.
शादी के बाद पति-पत्नी में अंतर!

शादी के बाद पत्नी कैसे बदलती हैं:

पहले साल: मैंने कहा जी खाना खा लीजिए, आपने
काफी देर से कुछ खाया नहीं।

दूसरे साल: जी खाना तैयार है, लगा दूं?

तीसरे साल: खाना बन चुका है, जब खाना हो तब
बता देना।

चौथे साल: खाना बनाकर रख दिया है, मैं बाजार जा
रही हूँ, खुद ही निकाल कर खा लेना।

पाँचवे साल: मैं कहती हूँ आज मुझ से खाना नहीं
बनेगा, बाहर से ले आओ।

छठे साल: जब देखो खाना, खाना और खाना, अभी
सुबह ही तो खाया था।
.

शादी के बाद पति कैसे बदलते हैं:

पहले साल: संभलकर उधर गड्ढा है।

दूसरे साल: अरे यार देख के उधर गड्ढा है।

तीसरे साल: दिखता नहीं उधर गड्ढा है।

चौथे साल: अंधी है क्या गड्ढा नहीं दिखता?

पाँचवे साल: अरे उधर -किधर मरने जा रही है
गड्ढा तो इधर है।
.
.
.
लड़का- मैं कल तुम्हारे घर गया,
लगता है हमारी शादी होना
बहुत मुश्किल है..
लड़की- क्यूँ, डार्लिंग, क्या
हुआ?? पापा से मिले??
लड़का- नहीं तुम्हारी बहन से
मिला..
.
.
solid लगती है यार
.
.
.
.
.
गर्लफ्रेंड और ब्वायफ्रेंड फोन पे लड़ रहे थे .
लड़की -: मैं जानती हूँ तुम मुझसे प्यार नहीं
करते ...
.
.
तुम आज कल किसी और लड़की के चक्कर में
हो ...
.
.
.
लड़का -: और मैं भी जनता हूँ के तुम भी मुझसे
प्यार नहीं करती हो ..!! .
लड़की -: मैं तुम्हे अभी इसी वक्त छोड़ रही हूँ ..
अब जाओ उसी के पास ...
.
(लड़की फोन काट देती है ... अब लड़का उसे
फोन करता है
ठीक उसी समय लड़की
भी उसे फोन लगाती है )
.
.
.
.
( आप जिससे बात करना चाहते हैं वो अभी
व्यस्त
है )
.
.
.
.
आखिर लड़की का फोन लग जाता है ..लड़का
उठाता है
.
लड़की -: कौन थी वो कुतिया जिसे तुम अभी
फोन कर रहे थे .. ? :
.
.
.
.
लड़का -: मैं तो तुम्हे फोन कर रहा था
.
.
.
.
.
एक सुन्दर युवती
एक दवाईयों की
दुकान के सामने
काफी देर तक खडी थी।
भीड़ छटने का
इंतज़ार कर रही थी।
दुकान का मालिक
उसे शक की नजर से
घूर रहा था।
बहुत देर बाद
जब दुकान मे
कोई ग्राहक नही बचा,
तो
वह लड़की दुकान मे आयी।
एक सेल्समन को
धीरे से
एक किनारे बुलाया।
दुकान मालिक
अब और भी ज्यादा
चौकन्ना हो गया।
लड़की ने
धीरे से
एक कागज़
सेल्समन की ओर बढाया।
धीरे से फुसफुसायी,
“भैया,
मेरी
एक डॉक्टर के साथ
शादी तय हो गयी है।
गलत मत सोचो
आज “उनकी”
पहली चिठ्ठी आयी है।
थोडा पढ़कर
सुनायेंगे क्या ?
राइटिंग
समझ मे नहीं आ रही है.

Debut book of Abhaidev - Maybe this or Maybe that






"More than telling the capability of an individual, the B-School  which one is branded with, rather tells us how much the individual is willing to compromise"

“Yes we can even sell rotten eggs, if not to people as food since it is unethical, then to the shampoo companies”

"If you are a person who utterly despises Saas Bahu Indian TV soaps, if you hate the way the female characters in these TV soaps are hatching conspiracies against each other, and their serious and crooked faces being zoomed in with a flashing effect, well think again, probably we all are doing the same at our workplaces too."

With Insightful as well as witty words like these the author Abhaidev in his debut book- Maybe This or Maybe That, has tried to present MBA through the spectacles of humor and satire. The book is a quick read and shatters common misconceptions people have about an MBA degree.

This book Maybe This or Maybe That is not only for those of us who either have or aspire to have a business degree but also for those who are curious about it, in some way or the other. The language is almost un-MBA type, thus making the book worth read for even those who are slightly related to the world of MBA or otherwise. The book contains short stories, anecdotes, case studies and funny incidents which holds the book together and give it a smooth flow. The author is successful in trying a new style of writing.

Abhaidev in his debut book-“Maybe this or maybe that – 37 things we didn’t learn in B-Schools” has tried articulating what many MBA graduates have thought of but couldn’t. Worth read for those who have “been there, done that” and also for those who aspire to join the MBA brethren in the near future.

The author Abhaidev is the pen name of Mayank Chandna, an MDI Gurgaon alumnus. He quit his boring investment banking career to venture into the ‘exciting’ world of writing, something he had always dreamt of as a child. 

You can buy book from here