Saturday, 26 December 2015

दर्द भरा हास्य । वैवाहिक जीवन का पहला पड़ाव-

 एक बड़े जिले के डीएम साहब के बैडरूम की खिड़की
सड़क की ओर खुलती थी।
रोज़ाना हज़ारों आदमी और वाहन उस सड़क से
गुज़रते थे।
डीएम साहब इस बहाने जनता की परेशानी और
दुःख-दर्द को निकट से जान लेते।
एक सुबह डीएम साहब ने खिड़की का परदा
हटाया।
भयंकर सर्दी, आसमान से गिरती ओस, और भयंकर
शीतलहर।
अचानक उन्हें दिखा कि बेंच पर एक आदमी बैठा है।
ठंड से सिकुड़ कर गठरी सा होता।

डीएम साहब ने पीए को कहा- उस आदमी के बारे
में जानकारी लो और उसकी ज़रूरत पूछो !!!
दो घंटे बाद। पीए ने डीएम साहब को बताया-
सर, वो एक भिखारी है। उसे ठंड से बचने के लिए एक
अदद कंबल की ज़रूरत है।

डीएम साहब ने कहा- ठीक है, उसे कंबल दे दो।
अगली सुबह डीएम साहब ने खिड़की से पर्दा
हटाया। उन्हें घोर हैरानी हुई। वो भिखारी अभी भी
वहां जमा है। उसके पास ओढ़ने का कंबल अभी तक
नहीं है। डीएम साहब गुस्सा हुए और पीए पूछा- यह क्या है???

उस भिखारी को अभी तक कंबल क्यों नहीं
दिया गया???

पीए ने कहा- मैंने आपका आदेश तहसीलदार
महोदय को बढ़ा दिया था।
मैं अभी देखता हूं कि आदेश का पालन क्यों नहीं
हुआ।।।

थोड़ी देर बाद तहसीलदार साहब डीएम साहब के
सामने पेश हुए और सफाई देते हुए बोले- सर, हमारे
शहर में हज़ारों भिखारी हैं। अगर एक भिखारी
को कंबल दिया तो शहर के बाकी भिखारियों
को भी देना पड़ेगा। और शायद पूरे जिले में भी।
अगर न दिया तो आम आदमी और मीडिया हम
पर भेदभाव का इल्ज़ाम लगायेगा।।।

डीएम साहब को गुस्सा आया- तो फिर ऐसा
क्या होना चाहिए कि उस ज़रूरतमंद भिखारी
को कंबल मिल जाए???
तहसीलदार साहब ने सुझाव दिया- सर, ज़रूरतमंद
तो हर भिखारी है।।।

प्रशासन की तरफ से एक 'कंबल ओढ़ाओ, भिखारी
बचाओ' योजना शुरू की जाये।
उसके अंतर्गत जिले के सारे भिखारियों को कंबल
बांट दिया जाए।।।

डीएम साहब खुश हुए।।।
अगली सुबह डीएम साहब ने खिड़की से परदा
हटाया तो देखा कि वो भिखारी अभी तक बेंच
पर बैठा है।

डीएम साहब आग-बबूला हुए।
तहसीलदार साहब तलब हुए।
उन्होंने स्पष्टीकरण दिया- सर, भिखारियों की
गिनती की जा रही है ताकि उतने ही कंबल की
खरीद हो सके।

डीएम साहब दांत पीस कर रह गए।
अगली सुबह डीएम साहब को फिर वही
भिखारी दिखा वहां।।।

डीएम साहब खून का घूंट पीकर रहे गए।।।
तहसीलदार साहब की फ़ौरन पेशी हुई।
विनम्र तहसीलदार साहब ने बताया- सर, बाद में
ऑडिट ऑब्जेक्शन ना हो इसके लिए कंबल ख़रीद
का शार्ट-टर्म कोटेशन डाला गया है।
आज शाम तक कंबल ख़रीद हो जायेगी और रात में
बांट भी दिए जाएंगे।।।

डीएम साहब ने कहा- यह आख़िरी चेतावनी
है।।।

अगली सुबह डीएम साहब ने खिड़की पर से परदा
हटाया तो देखा बेंच के इर्द-गिर्द भीड़ जमा
है।।।

डीएम साहब ने पीए को भेज कर पता लगाया।।।।
पीए ने लौट कर बताया- सर कंबल नहीं होने के
कारण उस भिखारी की ठंड से मौत हो गयी है।।।
गुस्से से लाल-पीले डीएम साहब ने फौरन से
पेश्तर तहसीलदार साहब को तलब किया।
तहसीलदार साहब ने बड़े अदब से सफाई दी- सर,
खरीद की कार्यवाही पूरी हो गई थी। आनन-
फानन हमने सारे कंबल बांट भी दिए, मगर
अफ़सोस कंबल कम पड़ गये।।।

डीएम साहब ने पैर पटके- आख़िर क्यों???
मुझे अभी जवाब चाहिये।।।

तहसीलदार साहब ने नज़रें झुका कर कहा- सर,
भेदभाव के इल्ज़ाम से बचने के लिए हमने
अल्फाबेटिकल आर्डर(वर्णमाला) से कंबल बांटे।
बीच में कुछ फ़र्ज़ी भिखारी आ गए।
आख़िर में जब उस भिखारी नंबर आया तो कंबल
ख़त्म हो गए।।।।

डीएम साहब चिंघाड़े- आखिर में ही क्यों???
तहसीलदार साहब ने बड़े भोलेपन से कहा-
क्योंकि सर, उस भिखारी का नाम 'ज्ञ' से शुरू
होता था।।।

ऐसे हो गए हैं हम और ये है आज का सिस्टम.
यदि साहब खुद ही जा कर एक कम्बल चुपके से उस भिखारि को ओड़ा देते तो एक जान तो बच सकती थी
दोस्तों सेवा करनी है तो खुद आगे बड़ो किसी को आर्डर या किसी का इंतजार मत करो आपसे खुद से जितना हो सके सेवा करते चले

.
.
.
.
मेरे एक दोस्त को बेटा हुआ
4 महीने बाद उसका बेटा बीमार हो गया तो वो उसको उसी हॉस्पिटल मे ले गया जहा वो पैदा हुआ था।।

डॉक्टर को दिखाने के बाद , डॉ ने उससे अपनी फीस मांगी तो
दोस्त बोला:- काहे की फीस अभी तो इसको यही से लिए हुए 4 महीने हुए है ।।अभी तो ये वारण्टी मे है
हर चीज की 1 साल की सर्विस वारंटी होती है।।।
डॉ बेहोश
.

.
.
.
An Engineering student attended a Medical exam by mistake.
See his answers...
the last one is ultimate
.


1. Antibody - One who hates his body .
2. Artery - Study of Fine Paintings .
3. Bacteria - Back door of a Cafeteria .
4. Coma - Punctuation Mark .
5. Gall Bladder - Bladder of a Girl .
6. Genes - Blue Denim.
7. Labour Pain - Hurt at Work .

8. Liposuction - A French Kiss .

9. Ultrasound - Radical Sound .
10. Cardiology - Advanced Study of Playing Cards .....
11. dyspepsia : difficulty in drinking pepsi.
12.Chicken Pox- A dish
13.CT Scan: Test for identifying person's
city

14.Radiology- the study of how Radio works
15.Parotitis : inflammation of parrot

ULTIMATE-------!!!!!!

16. Urology: the study of european people

.

.
.
.
Teacher in final OBGY exam to student -
"why we don't give oxytocin IM for active 2nd stage of labour before delivery of anterior shoulder?"
Student -
"if shoulder is not out where will we find deltoid muscle for IM inj.
Teacher died
.

.
.
.
दर्द भरा हास्य ।
वैवाहिक जीवन का पहला पड़ाव-
नयी-नयी शादी हुई है,
"पतिदेव" प्रात: शेविंग कर रहे हैं तभी उनको ब्लैड लग जाता है।
आहs की हल्की आवाज उनके मुंह से निकली, और पत्नीजी किचिन से भागी हुई आयी!
'डार्लिंग' ब्लैड लग गया ! पति ने पत्नी से 'नार्मल' होते हुए कहा !
(पत्नी जल्दी से 'डिटाल' लाती है।)
अरे ! कितना सारा ब्लड निकल गया, आज आप आफिस मत जाइये, घर पर ही रेस्ट कीजिए ,फेसबुक चलाइये या व्हाट्सऎप दौड़ाइए ! हाय राम , दर्द हो रहा होगा न ? पत्नी दुःखी स्वर में 'डिटाल' लगाती हुई बोली!

वैवाहिक जीवन का दूसरा पड़ाव-
अब बच्चे हो जाते हैं,
"पति महोदय" रोज की तरह शेविंग कर रहे है, उनको ब्लैड लग जाता है।
उफ!! मीनूsss.....ब्लैड लग गया, 'पति महोदय' होने वाले 'दर्द' से भी 'तेज' चिल्लाये।
आप भी ना!!, इतने साल आपको सेविंग करते हुए हो गये, पर अभी तक आपको सेविंग करनी नहीं आयी, ये लो 'फिटकरी' लगा लो, मैं आपका और बच्चों का लन्च तैयार कर रहीं हूँ। पत्नी झल्लाती हुई 'फिटकरी' पटकते हुए वहां से चली गयी।

वैवाहिक जीवन का तीसरा पड़ाव-
बच्चों का विवाह हो चुका है। "पति जी" शेविंग कर रहे हैं और उनको ब्लैड लग जाता है!
हायsssss मर गया!!!
अरे 'पप्पू' की 'अम्मा' कहां है 'तू'?
''क्यों चिल्ला रहे हो, इतना गला फाड कर, ब्लैड ही लगा है, कोई तलवार तो नहीं लगी ? कितनी बार कहा है, अब अपने आप 'दाढ़ी ' मत बनाया करो, नाई से बनवा लिया करो, पर तुम्हे तो बुढ़ापे में जवान बनने की लगी है ना ? '
वृद्ध पत्नी बिस्तर में लेटे-लेटे चिल्लाई।
अलमारी में 'डिटाल' या 'फिटकरी' रखी होगी लगा लो!
ये कहकर पत्नीजी ने चादर मुंह तक तान ली!

किसी ने ठीक कहा है-
प्यार में हम ज्यों ज्यों आगे बढ़ते गये,
'आप' से 'तुम' फिर तुम से 'तू' होते गए ।
कुछ समझे " आप " ??









































No comments:

Post a Comment