Popads

Tuesday, 27 October 2015

Famous दाल जोक्स ................. Enjoy ...............

दाल जोक्स 


सहवाग रिटायर हो चुके हैं,
.
.
.
अब तिहरे शतक की उम्मीदें
.
.
.
.
सिर्फ दाल से बची हैं..
.
.
.
 The economic impact of sky rocketing Dal prices...
Recently an oldman died hearing Dal prices have hit 200 per kg..the doctor in the death certificate wrote the reason for demise as..."HIGH PULSE RATE"!
.
.
.
.

लड़के वाले :
क्या आप की बेटी..
दाल बना सकती है..?
लड़की वाले :
क्या आप का बेटा...
दाल खरीद सकता है..?
.
.
.
.
कुछ मशहूर फिल्मो के डायलॉग -~:

एक किलो दाल की क़ीमत तुम क्या जानो मोदी बाबु,......~:

मेरे करन अर्जुन आयेंगे , एक किलो अरहर दाल लायेंगे ।~:

मेरे पास गाड़ी है बंगला है बैंक बैलेंस है तुम्हारे पास क्या है ?"मेरे पास दाल है"~:

ये दाल हमको दे ठाकुर~:

जॉनी जिनके घर डिनर मे दाल होती है वो दरवाज़ा बन्द कर के खाते है ।~:

जा सिमरन जा खा ले अपने हिस्से की दाल~:

दाल को खाना मुश्किल ही नहीँ नामुमकिन है ।~:

ना तलवार की धार से , ना गोलियो की बौछार से , बन्दा डरता है तो सिर्फ़ दाल के दाम से~:

प्यार से दाल खिला रहे है खा लो , वरना थप्पड़मार के भी खिला सकते है ।~:

अरे ओ साम्भा ! कितने किलो दाल थी ।सरदार 220 ₹ किलो~:

सरदार मैने आपकी दाल खाई है ~:

पीटर तुम लोग मुझे वहाँ ढुंढ रहे हो और मै यहाँ दाल खा रहा हूँ ।~:

कुत्ते मै तेरी पुरी दाल पी जाउंगा ।~:

ये मज़दूर की दाल है कात्या ~:

दालवाले दुल्हनिया ले जायेंगे .....
.
.
.
.
पहले मैं हमेशा दुखी रहता था
अच्छा खाना नहीं खा पाता था
और नॉन वेज तो जैसे देखना ही नसीब नहीं था....
लेकिन फिर एक अच्छे दिनों वाली सरकार आई
और उन्होंने ऐसी जादू की छड़ी घुमाई कि
जिस रेट पर मैं दाल लाता था उसी रेट पर अब पूरे 2 किलो चिकन आ जाता है....
अब मैं हमेशा चिकन खाता हूँ और मेरे घर की 2 मुर्गी भी दाल बराबर हो गई है
थैंक्यू ‪#‎अच्छे दिन‬
हर हर मुर्गा .....
घर घर मुर्गा..
.
.
.
सदमें से मर गया उसी वक़्त एक मरीज़,
डॉक्टर ने जब कहा कि दाल का पानी पिया करो ।
.
.
.
.
सुबह से 50-60 लड़कियों के फोन आ चूके,
सभी I Love You बोल रही है,
पता ना किस साले ये अफवाह फैला दी है कि मेरे घर 1 बोरी अरहर की दाल है!
.
.
.
.
रिपोर्टर -मोदी जी आपने कभी 200 रुपये किलो दाल खाई है।
मोदी - मैंने कहा था ना जो काम कांग्रेस 60 सालों में नहीं कर पाई वो मैंने एक साल में करके दिखा दिया।
कहा था ना 
न खाऊंगा ना खाने दूंगा । 
. .
.
तू अपने ग़रीब होने का दावा न कर, ऐ दोस्त,
हमने देखा है तुझे बाज़ार में "अरहर की दाल" खरीदते हुए...


No comments:

Post a Comment