Popads

Friday, 4 September 2015

शुभ कृष्ण जन्म अष्टमी‏

प्रिय भाईओ,बहनो और मित्रो 

 कृष्ण  जन्म अष्टमी का पावन पर्व पर  ,आप सभी को मेरी ओर से हार्दिक शुभ कामनायें I सदा की तरह सज़ा बतौर पेश हैं चंद पंक्तियाँ ,लुत्फ़ उठाइये I 





                 
                  तनु ओठों पे धरे मेरो श्याम रे ,
                  प्यारी छोटी मुरलिया I 
                  नन्हे २ हाथ बाके बाँकी नज़रिया ,
                  मन में बसौ है मेरो श्याम रे I 

                 मोर मुकुट माँथ ,कटि खोंसे लकुटिया ,
                 ग्वाल बाल संग साथ हैं गैयां ,
                 तीर कालिन्दी तरु कदंब की छैयां ,
                 घनन घनन  घन छायौ रे I ………… मन में ,

                 श्याम है नीर अरु घन भी श्यामा ,
                 सँवारी सूरत बाकी धेनु भी श्यामा ,
                 कल २ श्यामल श्याम तरंगिनि 
                तीर, खड़ौ है घनश्याम रे I .......... ..... मन में ,

                मुरली की धुन सुन नाचें खग मृग वृंद,
                कानन के बीच छायौ आनंद ही आनंद,
                उर उछाह पट्टो मन छायौ ,
                सारौ जग श्याममय हुआ रे I ........... मन में ,

विनोद पट्टो जी 

No comments:

Post a Comment