Popads

Tuesday, 23 June 2015

Ghazal -E- Insult


💠मन्दिर श्रीलीलाकुंज (पागल बाबा)💠

🔹एक गरीब ब्राह्मण श्रीबांके बिहारी का परम भक्त था। एक बार उसने एक महाजन से कुछ रुपये उधार लिए।हर महीने उसे थोड़ा- थोड़ा करके वह चुकता करता था।
🔹जब अंतिम किश्त रह गई तब महाजन ने उसे अदालती नोटिस भिजवा दिया कि अभी तक उसने उधार चुकता नहीं किया है, इसलिए पूरी रकम व्याज सहित वापस करे।
🔹ब्राह्मण परेशान हो गया। महाजन के पास जा कर उसने बहुत सफाई दी, अनुनय-विनय किया, लेकिन महाजन अपने दावे से टस से मस नहीं हुआ। मामला कोर्ट में पहुंचा।कोर्ट में भी ब्राह्मण ने जज से वही बात कही,मैंने सारा पैसा चुका दिया है। महाजन झूठ बोल रहा है।
🔹जज ने पूछा, कोई गवाह है जिसके सामने तुम महाजन को पैसा देते थे।
🔹कुछ सोच कर उसने कहा-'हां, मेरी तरफ से गवाही बांके बिहारी देंगे।'
अदालत ने गवाह का पता पूछा तो ब्राह्मण ने बताया, बांके बिहारी, वल्द वासुदेव, बांके बिहारी मंदिर, वृंदावन।
उक्त पते पर सम्मन जारी कर दिया गया।
🔹पुजारी ने सम्मन को मूर्ति के सामने रख कर कहा,' भगवन, आप को गवाही देने कचहरी जाना है।'गवाही के दिन सचमुच एक बूढ़ा आदमी जज के सामने खड़ा हो कर बता गया कि पैसे देते समय मैं साथ होता था और फलां- फलां तारीख को रकम वापस की गई थी।
🔹जज ने सेठ का बही- खाता देखातो गवाही सच निकली। रकम दर्ज थी, नाम फर्जी डाला गया था। जज ने ब्राह्मण को निर्दोष करार दिया।
🔹लेकिन उसके मन में यह उथल पुथल मची रही कि आखिर वह गवाह था कौन। उसने ब्राह्मण से पूछा। ब्राह्मण ने बताया कि वह तो सर्वत्र रहता है, गरीबों की मदद के लिए अपने आप आता है।
🔹इस घटना ने जज को इतना उद्वेलित किया कि वह इस्तीफा देकर, घर-परिवार छोड़ कर फकीर बन गया।बहुत साल बाद वह वृंदावन लौट कर आया पागल बाबा के नाम से।
आज भी वहां पागल बाबा का बनवाया हुआ बिहारी जी का एक मंदिर है जिसमें श्रीश्रीराधा-गोविन्द, श्रीश्रीनिताई-गौर श्रीदुर्गा एवं श्रीमहादेव जी विराजमान हैं।
🔹पागल बाबा की दिनचर्या में एक अद्भुत चीज़ शामिल थी - उनकी भोजन पद्धति।
वो प्रतिदिन जो साधु संतो का भंडारा होता उसके बाहर जाते वहाँ पर उनकी जूठन बटोरते फिर उसका आधा प्रभु द्वारिकाधीश को अर्पित करते और आधा स्वयं खाते।
उनको लोग बड़ी हेय द्रष्टि से देखते थे पागल तो आखिर पागल।
🔹पर प्रभु तो प्रेम के भूखे है,
एक दिन सभी साधुओं ने फैसला किया आज देर से भोजन किया जायेगा और कुछ जूठन भी नहीं छोड़ी जाएगी। पागल बाबा भंडारे के बाहर बैठे इंतज़ार कर रहे थे की कब जूठे पत्तल फेंके जायें और वो भोजन करें। इसी क्रम में दोपहर हो गयी वो भूख से बिलखने लगे।
🔹दोपहर के बाद जब बाहर पत्तल फेंके गए तो उनमें कुछ भी जूठन नहीं थी ।उन्होंने बड़ी मुश्किल से एक एक पत्तल पोछ कर कुछ जूठन इकट्ठी की अब शाम हो चुकी थी। वो अत्यंत भूखे थे।
🔹उन्होंने वो जूठन उठाई और अपने मुह में डाल ली। पर मुँह में उसको डालते ही उनको याद आया कि अरे! आज तो बाँकेबिहारी को अर्पित किये बिना ही भोजन, ऐसा कत्तई नहीं होगा।
🔹अब उनके सामने बड़ी विषम स्थिति थी वो भोजन को अगर उगल देंगे तो अन्न का तिरस्कार और खा सकते नहीं क्योकि प्रभु को अर्पित नहीं किया। इसी कशमकश में वो मुख बंद कर के बैठे रहे और प्रभु का स्मरण करते रहे, वो निरंतर रोते जा रहे थे की प्रभु इस विपत्ति से कैसे छुटकारा पाया जाये।
🔹पर श्रीठाकुर तो सबकी लाज रखते हैं-
रात को बाल रूप में उनके पास आये और बोले क्यों रोज़ सबका जूठा खिलाते हो और आज अपना जूठा खिलाने में संकोच कर रहे हो।
🔹उनकी आँखों से निरंतर अश्रु निकलते जा रहे थे। प्रभु ने उनकी गोद में बैठ कर उनका मुख खोला और कुछ भाग निकाल कर बड़े प्रेम से उसको खाया।अब पागल बाबा को उनकी विपत्ति से छुटकारा मिला। ऐसे परम भगवद्भक्त थे श्रीलीलानन्द ठाकुर(पागल बाबा)।
💠।।श्रीराधारमणाय समर्पणम्।।💠....बोलो राधा रानी की जय......,....

.
.
.
आम पन्ना बनाना सीखें
1 पहले बन संवर के अच्छा सा हेयर स्टाइल बना के सब्ज़ी मंडी जाएँ।
2 फिर बोलें "भैयाज़।कच्चे आम्बीज़ हैज़?"
फिर भैया को शॉक होने दें😳
फिर भैया को आधा किलो अम्बीज़ बड़ी नज़ाकत से छांट छांट कर दें।
फिर शराफत से और क़यामत की चाल चलते हुए घर आएं।
अब दुपट्टे को सोफे पर फेंकें।
रसोई की तरफ जांए और अपनी नाज़ुक कमर को ध्यान से झुकाते हुए कूकर निकालें।
अम्बीज़ को धो कर एक कप पानी डालें और उबलने चढ़ा दें।
शर्माएं नहीं।कुक्कर तो वैसे ही सीटी मार रहा है ,आपको देख कर नहीं।
धीरज धरें और आईने के सामने जा कर अपनी बची खुची ज़ुल्फ़ें संवारें।
अम्बीज़ को निकाल कर ठंड होने दें और तब तक अरिजीत के ताज़ा तरीन गाने सुनें जो उन्होंने आपको ध्यान में रखते हुए नहीं गाये हैं।
अब अम्बीज़ को छीलें और जिस जिस पर आपको गुस्सा आता है उसको ख्यालों में ला के उसका गूदा मसल मसल के निकालें।
मिक्सर निकालें। गूदा डालें और दिल में जितना प्यार हो उतनी चीनी डालें। मिक्सी चला दें ।अब थोडा ठंडा पानी डालें और फिर से 'मिले सुर मेरा तुम्हारा 'के अंदाज़ मे फिर मिलने दें।
एक जग में पलट के एक चुटकी काल नमक और आधा चम्मच भुना पिसा ज़ीरा डालें।
ज़िन्दगी में ठंडक रहे तो दो आइस cubes भी डालें।
आईने में फिर से दुनिया की सबसे खूबसूरत औरत को देखें और सोफे पर बैठ के ........
टीवी चला के .........
आराम से अपने आम पन्ने का स्वाद लें💃💃💃💃💃💃ं
 
.
.
.
.
 Ghazal -E- Insult😁
पत्नी  मायके जाती है और  मैसेज भेजती है:
"मेरी मोहब्ब्त को अपने दिल में ढूंढ लेना;
और हाँ, आटे को अच्छी तरह गूँथ लेना!
मिल जाए अगर प्यार तो खोना नहीं;
प्याज़ काटते वक्त बिलकुल रोना नहीं!
मुझसे रूठ जाने का बहाना अच्छा है;
थोड़ी देर और पकाओ आलू अभी कच्चा है!
मिलकर फिर खुशियों को बाँटना है;
टमाटर जरा बारीक़ ही काटना है!
लोग हमारी मोहब्ब्त से जल न जाएं;
चावल टाइम पे देख लेना कहीं गल न जाएं!
कैसी लगी हमारी ग़जल बता देना;
नमक कम लगे तो और मिला लेना!
पति का रिप्लाई:
तुम्हारी यही अदा तो दिल को भा गईं..
तुम्हारे जाते ही,  पड़ोसन खाना पकाने आ गई ..
 

No comments:

Post a Comment