Wednesday, 28 January 2015

क्योंकि फिर भी Hindi Poem by विनोद पट्टोजी

     
     


           खिलते खिलखिलाते फ़ूलों की जुबाँ ,
            कब  समझेगा तू  ,ए नादान  इंसाँ ,
            ख़ूबसूरत हैं,महकते हैं ,बेजुबाँ हैं ,
            फ़िर भी दिल की बात कह जाते हैं I 

             हौले हवा के झोंके हमें सहलाते हैं ,
             कभी आँधी औ कभी तूफाँ डराते  हैं ,
           जख़्म देती है ओलावृष्टि, कभी सूखा,
            पर हम हैं, फिर भी मुस्कराते हैं I.... फिर भी  

            जरिया दोस्ती का,तुमनें हमे बनाया,
            पैग़ाम ए मुहौब्बत भी हमने पहुँचाया ,
            शायद जुबाँ ही  मुसीबत की जड़ है ,
             शुक्रिया ए खुदा,हम बेजुबाँ ही खुश हैं I.... क्योंकि फिर भी
        विनोद पट्टोजी   

No comments:

Post a Comment