Thursday, 6 November 2014

Jokes...............गर्लफ्रेँड :- क्या तुम मेरे अशिक हो..?

गर्लफ्रेँड :- क्या तुम मेरे अशिक
हो..?
.
ब्वायफ्रेँड :-हाँ
.
गर्लफ्रेँड :-तो तुम
अपनी सारा प्रोपटी मेरे नाम
कर दो और फिर मेरे लिए
अपनी जान दे दो ॥
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
ब्वायफ्रेँड :-मैं तेरा अशिक हूँ. .
आशिकी 2
का हीरो नही
.
.
.
.
जब तुम अकेला पन महसूस करो , तो परेशान मत होना - - -
अपनी आँखें बंद करना ओर खुदा से कहना - - ऐ मेरे मालिक आपने
मुझे इतना कीमती काहे बना दिया कि कोई हासिल ही नही कर
पाया ! !
.
.
.
.
टीचर: ऐसी कौन सी चीज़ है जिसे हम ना देख सकते हैं, ना महसूस कर सकते हैं फिर भी उसके बिना रह नहीं सकते?
बंटी: हवा।
टीचर: बहुत अच्छे।
पप्पू: नहीं टीचर इसके अलावा भी कुछ है।
टीचर: अच्छा तो तुम ही बता दो वो क्या है?
पप्पू: वाई फाई (WiFi) टीचर
.
.
.
.
एक कमरा था
जिसमें रहता था मैं
माँ-बाप के संग
फिर विकास का फैलाव आया
विकास उस कमरे में नहीं समा पाया
जो चादर पूरे परिवार के लिए बड़ी पड़ती थी
उस चादर से बड़े हो गए हमारे हर एक के पाँव
लोग झूठ कहते हैं कि दीवारों में दरारें पड़ती हैं
हक़ीक़त यह है कि जब दरारें पड़ती हैं
तब दीवारें बनती हैं!
पहले हम सब लोग दीवारों के बीच में रहते थे
अब हमारे बीच में दीवारें आ गईं
यह समृध्दि मुझे पता नहीं कहाँ पहुँचा गई
पहले मैं माँ-बाप के साथ रहता था
अब माँ-बाप मेरे साथ रहते हैं
फिर हमने भी बना लिया एक मकान
एक कमरा अपने लिए
एक-एक कमरा बच्चों के लिए
एक वो छोटा-सा ड्राइंगरूम
उन लोगों के लिए जो मेरे आगे हाथ जोड़ते थे
एक वो अन्दर बड़ा-सा ड्राइंगरूम
उन लोगों के लिए
जिनके आगे मैं हाथ जोड़ता हूँ
पहले मैं फुसफुसाता था
तो घर के लोग जाग जाते थे
मैं करवट भी बदलता था
तो घर के लोग सो नहीं पाते थे
और अब!
जिन दरारों की वजह से दीवारें बनी थीं
उन दीवारों में भी दरारें पड़ गई हैं।
अब मैं चीख़ता हूँ
तो बग़ल के कमरे से ठहाके की आवाज़ सुनाई देती है
और मैं सोच नहीं पाता हूँ कि मेरी चीख़ की वजह से वहाँ ठहाके लग रहे हैं
या उन ठहाकों की वजह से मैं चीख रहा हूँ!
आदमी पहुँच गया हैं चांद तक
पहुँचना चाहता है मंगल तक
पर नहीं पहुँच पाता सगे भाई के दरवाज़े तक
अब हमारा पता तो एक रहता है
पर हमें एक-दूसरे का पता नहीं रहता!
और आज मैं सोचता हूँ
जिस समृध्दि की ऊँचाई पर मैं बैठा हूँ
उसके लिए मैंने कितनी बड़ी खोदी हैं खाईयाँ
अब मुझे अपने बाप की बेटी से
अपनी बेटी अच्छी लगती है
अब मुझे अपने बाप के बेटे से
अपना बेटा अच्छा लगता है
पहले मैं माँ-बाप के साथ रहता था
अब माँ-बाप मेरे साथ रहते हैं
अब मेरा बेटा भी कमा रहा है
कल मुझे उसके साथ रहना पड़ेगा
हक़ीक़त यही है दोस्तों
तमाचा मैंने मारा है
तमाचा मुझे खाना भी पड़ेगा..!
*कवि का नाम अरविन्द दिल से है 
मगर जिस कवि ने यह मार्मिक हकीकत वाली कविता लिखी है, 
उसो मेरा शत-शत नमन।
.
.
.
.
जब लड़की भागने की धमकी दे तो
माँ बाप
को क्या करना चाहिए।
उसका मुण्डन
करवा दो
5_6-महीने तक भागना तो क्या
घर से
बाहर कदम भी नहीं रखेगी टकली .....
.
.
.
.
भुल कर भी मत आना इस मोहब्बत के जंगल मे.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
दोस्तों
.
.
.
.
.
.
.
यहाँ साँप नही,
इंसान डसा करते हैं!! 
.
.
.
.
On a train from London to Manchester, an American was telling off the Englishman sitting across from him in the compartment.
"You English are too stuffy. You set yourselves apart too much. Look at me... in me, I have Italian blood, French blood, a little Indian blood, and some Swedish blood. What do you say to that?"
The Englishman said, "Very sporting of your mother."
.
.
.
.
Son: can I go to my friend's house for party?
Dad: Don't ask me. Ask your mom
Mom: Don't ask me. Ask your dad
Son: bc, ghar h ya SBI ki branch?

No comments:

Post a Comment