Wednesday, 22 October 2014

Jokes.................टीचर: प्रजनन के बारे में आप क्या जानते हैं?

टीचर: प्रजनन के बारे में आप क्या जानते हैं?
पूरी क्लास में केवल एक छात्र हाथ उठाता है।
टीचर: शाबास, तुम्हारा नाम क्या है?
स्टूडेंट: निसार।
टीचर: अच्छा, बताओ क्या जानते हो?
निसार: सर, बाकियों का तो नहीं मालूम, लेकिन मुझे यह पता है कि मैं कैसे पैदा हुआ।
टीचर: कैसे?
निसारः जवानी जानेमन, हसीन दिलरुबा, मिले जो दिल जवां, निसार हो गया...
.
.
.
.
BULLET wala
SCOOTY wali se :-
kabhi bullet chalayi hai ??
.
.
.
.
girl aage nikal jaati hai
.
.
boy baraabar me aakr :- kabhi bullet chalayi hai??
.
.
.
.
girl slow ho jati hai !
.
.
.
kuchh duri par boy ka accident ho jata hai
.
.
girl :- or chala le bullet !
.
.
.
.
.
boy :-kamini itni der se yahi to puchh rha ki bullet chalayi hai
.
.
to bta deti break kaise lagaate hain..??
.
.
.
.
तन्हा रहता है 'दिन' भर,
रोता रहता है 'रात' भर.......!!
.
.
'कुत्ता' भी मेरी 'गली' का,
'मोहब्बत' का 'मरीज' लगता है.......!
.
.
.
.
संजय दत्त को 30 दिन की पैरोल मिलने की खबर पढ़कर मां ने जब मुझसे यह पूछा तो मेरी आंखों से आंसू बह निकले....
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"यह देखो आजकल जेल से भी छुट्टी मिल जाती है, पता नहीं बेटा तुम कौन-सी कम्पनी में काम करते हो..??"
.
.
.
.
.
डीयर नीतू ,
तुमने डेढ़ बरस तक जो मुझसे प्यार किया, उसका शुक्रिया. आशा है, पत्र मिलने तक तुमने नया प्रेमी पकड़ लिया होगा. उसके साथ अब डेटिंग पर भी जा रही होगी.
हर प्रेमी को बहुत स्ट्रगल करना पड़ता है. मैं भी स्ट्रगल कर रहा हूं. प्यार के ढाई आखर कमबख्त बड़े मुश्किल से पकड़ में आते हैं. मैंने भी तुम्हे मिस करने के बाद मुहल्ले की ही पूजा पर लंगर डालना शुरु कर दिया है.
प्रेम का मेरा यह चौथा प्रयास है. लेकिन इन प्रयासों ने मुझे एक सीख दी है. नीतू, तुम तो जानती हो कि प्रेम शुरु करते ही कमबख्त लव लेटर लिखने पड़ते हैं. पता है न, मैने तुम्हे कितने पत्र लिखे?
पहले के दो प्रेम-प्रकरणों में भी लेटरबाजी करनी पड़ी. बड़ा झंझट है प्रेम मार्ग में. इसीलिए तुम मेरे समस्त प्रेम पत्र लौटा देना. तुम्हें लिखे उन प्रेम पत्रों पर सफ़ेदा पोतकर नीतू की जगह पूजा लिख दूंगा. इससे मेरी मेहनत बच जाएगी. प्लीज़, मेरे प्रेम पत्र लौटा देना, क्योंकि उनकी फोटो कॉपी भी मेरे पास नही है.
नीतू , तुम मेरी वह फोटो भी वापस कर देना. तुम तो जानती हो कि वही एकमात्र फोटो ऐसी है, जिसमें मै ठीक-ठाक दिखता हूं. वह मेरे पहले प्यार वाले दिनों की फोटो है. बड़ी कीमती है. मेरे प्रेम पत्रों के साथ मेरी वह फोटी भी भेज देना, ताकि पूजा को भेज सकूं.
और हां, अपने प्यार कांड में डेढ़ वर्ष के दौरान मेरे द्वारा किए गए खर्च का हिसाब भेज रहा हूं. आशा है,:तुम शीघ्र ही इस खर्च का भुगतान कर भरपाई करा दोगी, ताकि तुम्हें भी नए प्यार के लिए मेरी ओर से एनओसी जारी हो सके और मैं भी नए प्यार पर खर्च करना शुरु कर दूं.
हिसाब इस प्रकार है:
चाट पकौड़ी 896 रुपए,
कोल्ड ड्रिंक्स 2938 रुपए,
स्नेक्स 5645 रुपए,
जूस 3845 रुपए, 
फ़िल्म 1235 रुपए,
चैटिंग 1499 रुपए,
मोबाईल फोन वार्ता 2546 रुपए, 
पेट्रोल खर्च 4255 रुपए, 
गिफ़्ट 7850 रुपए. 
सकल योग 30,708 रुपए
(अक्षर में : तीस हजार सात सौ आठ रुपए मात्र).
कृपया, ये रुपए मुझे शीघ्र भेजने की कृपा करना, ताकि मै अपनी पूजा के प्यार में इन रुपयों को कुरबान कर सकूं. और हां, यदि तुम्हारे पास मेरे द्वारा दिए गए गिफ़्ट पड़े हों तो मै उन्हें आधी कीमत पर खरीदने को तैयार हूं. तुम उनका हिसाब बनाकर मेरी मूल रकम
में से काटकर पुराने गिफ़्टों को भी भेज देना.
इस पत्र के साथ तुम्हारे पूरे चार किलो तीन सौ ग्राम के वज़न के प्रेम पत्रों का पुलिंदा संलग्न है, ताकि तुम्हे भी प्रेम पत्र लिखने में परेशानी न उठानी पड़े. तुम्हारी वह सुंदर फोटो भी मैं भेज रहा हूं,जो तुम अपने नए प्रेमी झाड़ूराम को दे सकती हो.
तुम अपना हिसाब भी बता देना. वैसे तुम्हारा खर्च तो कुछ भी नही आया होगा. तुम हमेशा अपना पर्स तो भूल जाती थी. कमबख्त प्यार मे लड़कों की ही जेब ढीली होती है.
खैर, बीते प्रेम पर कैसा अफ़सोस, जब नया भी पधार चुका है? आशा है, तुम मेरा हिसाब जल्दी से जल्दी साफ़ करके मुझे नए प्यार में कूदने में मदद दोगी.
तुम्हे सातवां प्रेम मुबारक हो.
तुम्हारा छठा पूर्व प्रेमी
पप्पू

No comments:

Post a Comment