Monday, 13 October 2014

Jokes ..................... बहुत साल पहले मेरी बीवी एक पुलिसवाले के साथ भाग गयी थी।



एक बै ताऊ बदलू आपणे छोरे सुंडू के ब्याह खातर बैंड-बाजा करण चला गया,,
ताऊ बोल्या :- "बैंड मास्टर के रेट है थारा…??"
मास्टर बोल्या :- "ताऊ ड्रेस मै ले जावेगा तो 500RS अर जै सिविल ड्रेस मै ले जावैगा तो 300 रुपये"
ताऊ नै काडे गोज मै तै 50 रुपये अर बोल्या :- " कच्छे-कच्छे में आ जाइयो""
.
.
.
.
टीचर ~ देश के सबसे ईमानदार पुलिस
वाले कहाँ पर पाए
जाते है ?
-
-
-
-
-
-
-
-
-
-
पप्पू ~सावधान इंडिया और क्राइम
पेट्रोल में...
.
.
.
.
लड़की अपने रूम में जोर-जोर से रो रही थी
.
.
.
.
.
माँ ने देखा तो उसके पास आई और बोली- क्या हुआ बेटी ??
.
मुझे बता मैं तेरी दोस्त हूँ,
.
.
.
.
.
लड़की बोली- क्या बताऊं यार मैं अपने वाले से मिलने गई थी....
.
तेरे वाले ने देख लिया तो मुझे बहुत मारा...
.
.
.
.
"PURANA BADLA"
1 khargosh🐇 Bomb le kar zoo me ghus gaya,
or awaz lagai ki
" Tum sab ke paas 1⌚ minute ka time hai, yaha se
nikalne ke liye..!!",
Kachuwa🐢 :
"Waah...!! kutte kamine jaahil neech...!!,
Seedha Bol na ki meri hi aisi taisi karne aaya hai...".
.
.
.
.
.
एक एक्स्ट्रा ओडनरी आदमी था..... (जैसा की हर मोहल्ले में एक होता है )
वो रोज घर से बाहर निकल कर बाहर खेल रहे बच्चों से सवाल पूछा करता था---
.
आदमी -एफिल टावर कहाँ है पता है ??
.
बच्चे ---नहीं अंकल....
.
आदमी - हा हा हा हा जब देखो यहीं पड़े रहते हो....
कभी घर से बाहर निकलो तो पता चले.....
.
दुसरे दिन फिर से...
.
आदमी - अच्छा ये बताओ क़ुतुब मीनार कहाँ है....
.
बच्चे - नहीं पता अंकल...
.
आदमी ---हा हा हा हा जब देखो यहीं पड़े रहते हो....
कभी घर से बाहर निकलो तो पता चले.....
.
रोज रोज के उसके ऐसे सवालों से बच्चे बड़ा जलील महसूस करते थे और तंग आ गए...
बच्चों ने उसे सबक सिखाने की सोची...
.
अगले दिन जब वो आदमी घर से निकला तो इससे पहले वो बच्चों से सवाल पूछता ,
बच्चों ने उससे सवाल पूछा ---- अंकल आपको पता है कि ये ""रामलाल"" कौन है...
.
आदमी--- नहीं मुझे नहीं पता......
.
बच्चे ------ जब देखो बाहर पड़े रहते हो....
कभी घर पर भी रहो तो पता पड़े.. ..
.
.
.
.
एक सीनियर सिटिजन अपनी नई कार 100 की स्पीड में चला रहे थे।
रियर व्यु मिरर में उन्होंने देखा कि पुलिस की एक गाडी उनके पीछे लगी हुई है।
उन्होंने कार की स्पीड और बढ़ा दी। 140 फिर 150 और फिर 170..........
अचानक उन्हें याद आया कि इन हरकतों के लिहाज से वे बहुत बूढ़े हो चुके हैं और ऐंसी हरकतें उन्हें शोभा नहीं देतीं।
उन्होंने सड़क के किनारे कार रोक दी और पुलिस का इन्तजार करने लगे।
पुलिस की गाडी करीब आकर रुकी और उसमे से इंस्पेक्टर निकलकर बुजुर्ग महाशय के पास आया। 
उसने अपनी घडी में समय देखा और बुजुर्ग से बोला---" सर, मेरी शिफ्ट ख़त्म होने में मात्र 10 मिनिट बाकी हैं। आज शुक्रवार है और शनिवार, रविवार मेरा अवकाश है। इतनी स्पीड से कार चलाने का अगर आप मूझे कोइ ऐंसा कारण बता सके जो मैंने आज तक नहीं सुना हो तो मैं आप को छोड़ दूंगा। "
बुजुर्ग ने बहुत गंभीर होकर इन्स्पेक्टर की तरफ देखा और कहा---" बहुत साल पहले मेरी बीवी एक पुलिसवाले के साथ भाग गयी थी। मैंने सोचा कि तुम उसे लौटाने आ रहे हो इसलिए..................."
इन्स्पेक्टर वहाँ से जाते हुए बोला---" हेव ए गुड डे, सर। "
.
.
.
.
.
.
.
पति-इस जीवन से मैं तंग आ गया हूं! हे प्रभु मुझे उठा ले।
पत्‍‌नी- नहीं भगवान, मेरे पति से पहले मुझे उठा ले।
पति- हे प्रभु, मैं अब अपनी मर्जी को वापिस लेता हूं, तू इसकी ही सुन ले।
.
.
.
.
Tau: kutta aaya he taai.....Roti LA..
Tai: Roti to nahi he... khatm ho gayi 
Tau: Acha.. Khatm ho gayi...
To aisa kar ...
LATHI Le Aa.....
Khaali ....to isne main b nahi jaane dun...
.
.
.
.
.
लोगों को पता नहीं कैसे सच्चा प्यार मिल
जाता है...
.
.
हमें तो सुबह पलंग के नीचे उतारी चप्पल
नहीं मिलती।
.
.
.
.
एक आदमी की शादी को बीस साल हो गये थे। उसने कभी पत्नी के हाथों बने खाने की तारीफ नहीं की। निर्मल बाबा ने उसको सलाह दी पत्नी के खाने की तारीफ करो,कृपा होगी। बाबा की सलाह असर कर गयी। 
घर आते ही उसने खाना खा कर पराठों की जम कर तारीफ की। पत्नी ने बेलन उठाया और उसको जी भर कर ठोंका और बोली " बीस साल मे कभी मेरे हाथों बने खाने की तारीफ नहीं की, आज पडोसन ने पराठे भेज दिये तो तुम्हें जिंदगी का मजा आ गया।"
हो गयी बाबा की कृपा।


No comments:

Post a Comment