Saturday, 11 October 2014

Jokes................एक फिल्म थिएटर में लड़का-लड़की

एक फिल्म थिएटर में लड़का-लड़की लगभग आधे समय आपस में ही बातें करते रहे।
.
.
.
उनके पास बैठे दर्शकों को यह बहुत बुरा लग रहा था।
.
.
.
जब एक दर्शक से रहा ना गया तो बोल उठा, ‘क्या तोते की तरह टांय-टांय लगा रखी है, कभी चुप ही नहीं होते।
.
.
.
’इस पर लड़के ने बिगड़कर कहा, ‘क्या आप हमारे बारे में कह रहे हैं?’ दर्शक ने जवाब दिया, ‘जी नहीं, फिल्म वालों को कह रहा हूं।
.
.
.
शुरू से ही बकवास करे जा रहे हैं। आपकी बातों का एक भी शब्द सुनने नहीं दिया...!!’
.
.
.
.
अगर दीवाली से पहले किसी ने शराब या बीयर पीने की जुर्र्त की तो
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*
*कृप्या खाली बोतल मुझे दे देना मेरे पास रोकेट चलाने के लिये नही है
.
.
.
.
एक समय था जब मंत्र काम करते थे
फिर एक समय आया जिसमे तंत्र काम करते थे फिर समय आया जिसमे
यंत्र
काम करते थे...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
आज के समय में षड़यंत्र काम करते हैं..
.
.
.
.
पप्पू दवाई की दुकान गया और बोला भैया मेरी मदद करोगे
केमिस्ट- हाँ-हाँ बोलो???
पप्पू ने अपनी दवाई की बोतल से एक चम्मच निकाल कर केमिस्ट को पिलाकर पूछा- मीठी है क्या?
केमिस्ट- नहीं तो।
क्या है ये ???
.
.
.
.
.
.
पप्पू : बस येही पूछना था।
दरअसल डॉक्टर ने बोला था यूरिन टेस्ट करवाओ कि कंही यूरिन में शुगर तो नहीं है। .
.
.
.
.
नदी के किनारे पहुंचने के बाद मछली पकड़ने गये
आदमी को मालूम पड़ा कि वो मछलियों के लिए
चारा लाना तो भूल ही गया। तभी उसने एक छोटे से
सांप को वहां से गुजरते देखा जो अपने मुंह में एक
कीड़ा पकड़े हुआ था।
आदमी ने सांप को पकड़ा और उसके मुंह से वह कीड़ा छीन लिया। लेकिन यह सोचकर कि बेचारे
सांप के पास खाने को कुछ नहीं है उसे
थोड़ा बुरा लगा और उसने फिर से सांप को पकड़ा और
उसके मुंह में थोड़ी बीयर टपका दी। फिर
वो मछली पकड़ने में जुट गया।
करीब एक घण्टे बाद आदमी को लगा कि कोई उसका पैंट हल्के से खींच रहा है। नीचे देखने पर उसने
उसी सांप को पाया जो मुंह में तीन कीड़े पकड़े हुआ
था और बड़ी आशा से उसकी तरफ देख रहा था...
.
.
.
.
पहले 'राबड़ी' CM बनी, फिर 'चाय' वाला PM बना, अब
'पनीर'सेल्वम CM......
.
माँ सच कहती थी, "दूध" में बहुत शक्ति है ....
.
.
.
.
हा हा हा
शराबी गली मैं खडया हो के बोलया-- मेरे वोट दे दियो थारी तकदीर बदल दयुंगा ।
घरआली--कमीण पहलां आपणा पजामा तो बदल ले , रात की मेरी सलवार पहरै फिरै है ....

No comments:

Post a Comment