Saturday, 11 October 2014

करवा चौथ विशेष : व्रत के पहले और बाद में क्या खाएं ?

करवा चौथ विशेष : व्रत के पहले और बाद में क्या खाएं ?


चंद्रोदय के बाद

व्रत खोलते वक्त चाय या कॉफी जैसी कैफीन युक्त चीजें न लें। चूंकि पेट खाली होने से पहले ही एसिटिडी होती है। इन चीजों से एसिडिटी और बढ़ सकती है।

चूंकि आपने पूरे दिन से कुछ नहीं खाया है, इसलिए व्रत खोलते समय प्रोटीन से भरपूर चीजें ही खाएं।

खाली पेट तैलीय चीजें न खाएं। तेल एसिडिटी कर सकता है और आपको बेचैनी हो सकती है।

खाने में दही लें। इसमें ऎसे एन्जाइम होते हैं, जो खाना पचाने में मदद करते हैं।

पूरा दिन भूखा रहने से खून में शर्करा कम हो जाती है, इसलिए मेवे खाएं।

चावल खाने में न लें। ये देर से पचते हैं।

खाना खाने के बाद लैमोनेड पीएं।

डीहाइड्रेशन और कमजोरी को दूर करने के लिए पानी पीएं। आप नारियल पानी और फलों का रस भी ले सकती हैं। नारियल पानी में भरपूर मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं। इससे आपको तुरंत ऊर्जा मिलेगी।

व्रत का धार्मिक महत्व तो है ही, इसका वैज्ञानिक महत्व भी है जो स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी लाभदायक है।  


व्रत के दौरान कैसा हो खान-पान?


उपवास में डाइट ऐसी हो, जो तुरंत ऊर्जा दे और कैलोरी भी कंट्रोल में रखे।  


लोग व्रत में कम खाने और शरीर को डीटॉक्स करने यानी विषैले तत्वों से मुक्त करने के बजाय इसका उल्टा करते हैं। भले ही वे एक वक्त खाते हैं, लेकिन आहार जरूरत से ज्यादा कैलोरी युक्त होता है। यह शरीर में तत्काल ऊर्जा में नहीं बदलता, बल्कि शरीर में चर्बी के रूप में जमता चला जाता है।




क्या न खाएं

यदि कोई व्यक्ति डायबिटीज का रोगी है, तो उसे अधिक मीठे फल, आलू, मिठाइयां आदि खाने से परहेज करना चाहिए। दरअसल, इन सभी चीजों में शूगर की मात्रा अधिक होती हैं। वे भूखे भी न रहें क्योंकि शरीर में ग्लूकोज की मात्रा घटने से भी परेशानियां पैदा होने लगती हैं। उन्हें दिन में कई बार थोड़ी मात्रा में हल्की डाइट लेनी चाहिए।  

आमतौर पर लोगो में यह धारणा है कि व्रत के दिनों में बहुत ऊर्जा की जरूरत होती है, इसलिए वे बहुत तले हुए व्यंजन और मीठा खाती हैं। जबकि व्रत के दौरान घी-तेल में तली-भुनी चीजें, जैसे-आलू की टिक्कियां, कुट्टू या साबूदाने के पकौड़े आदि खाने से शरीर में फैट बढ़ती है। इसलिए तले भोजन पर टूटने से पहले दूसरे सेहतमंद विकल्प तलाश लें। व्रत के दौरान चाय, काफी का सेवन काफी बढ़ जाता है। इस पर नियंत्रण रखें।

ड्राई फ्रूट्स इंस्टैंट एनर्जी के लिए लाभदायक होते हैं। बादाम और अखरोट इंस्टैंट एनर्जी व अच्छे कोलैस्ट्रॉल के लिए उत्तम
माने जाते हैं।

इन बातों का भी रखें ध्यान

- बीमार लोगों को डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही उपवास रखना चाहिए विशेष तौर पर डायबिटीज और गैस्ट्रिक के मरीज को। गर्भवती महिलाओं को उपवास के दौरान अपेक्षाकृत अधिक सावधानियां बरतनी चाहिएं। अगर सेहतमंद तरीके से व्रत रखेंगे तो ऐसे मरीजों को व्रत के दौरान व व्रत के बाद तकलीफ नहीं होगी।


- व्रत की शुरूआत में भूख काफी लगती है ऐसे में नींबू- पानी पिया जा सकता है। इससे भूख को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। कच्चे नारियल का पानी भी उपवास की दृष्टि से फायदेमंद है।

- ज्यादातर लोगों को उपवास में कब्ज की शिकायत हो जाती है इसलिए व्रत रखने से पहले त्रिफला, आंवला, पालक का सूप या करेले के रस इत्यादि का सेवन करें। इससे पेट साफ रहता है।

- व्रत के दौरान अधिक बातचीत न करें। अधिक समय मौन धारण करें।

No comments:

Post a Comment