Tuesday, 27 May 2014

शराबी Jokes .............भगवान करे तेरी शादी इस शराबी से हो जाए .................

दारू जोक्स शराब चुटकुले 

शराबी कैसे -कैसे 
============
.
.

एक शराबी दारू पी पी कर मर गया 
लेकिन उसकी दारू के प्रति श्रद्धा तो देखो 
वो मर के भी यह कह गया 
शराब तो ठीक थी! पर मेरा लीवर ही कमज़ोर निकला
.
.
.
.

एक शराबी साधू से टकरा गया तो साधू बोला: अरे मूर्ख, मैं तुझे श्राप देता हूँ
शराबी: बाबाजी रुको, मुझे गिलास ले आने दो।
.
.
.
.

उपदेशक: अगर गधे को शराब और पानी दोनों पीने को दिये जाये तो गधा क्या पियेगा
शराबी: जाहिर है पानी पियेगा
उपदेशक: क्यों?
शराबी: क्योंकि वो गधा है।
.
.
.
.

शराबी को neat दारू पीता देख अमेरिकन बोला- पानी तो मिला लो।
शराबी- हम इंडियन हैं इतना पानी तो दारू देख के ही मुंह में आ जाता है।
.
.
.
.

पुलिस (शराबी से)- रात के 1 बजे तुम कहां जा रहे हो?
शराबी (पुलिस से)- मैं शराब पीने के दुष्परिणाम पर भाषण सुनने जा रहा हूं।
पुलिस (शराबी से)-इतनी रात मैं तुम्हे कौन भाषण देगा?
शराबी- मेरी बीवी।
.
.
.
.

एक शराबी एयरपोर्ट के बाहर खड़ा था। एक वर्दीधारी युवक उधर से गुजरा। शराबी ने उससे कहा एक टैक्सी ले आओ।
युवक - मैं पायलट हूं, टैक्सी ड्राइवर नही।
शराबी- नाराज क्यों होते हो भाई? तो एक हवाई जहाज ले आओ।
.
.
.
.

शराबी: गरम क्या है?
वेटर: चाउमीन.
शराबी: और गरम?
वेटर: सूप.
शराबी: और गरम?
वेटर: उबलता पानी.
शराबी: और गरम
वेटर: आग का गोला है साले.
शराबी: लेकर आओ, बीड़ी जलानी है.
.
.
.
.

पंजाबी शादी की पार्टी में डीजे ने पूछा- कब तक बजाना है?
मेजबान- 8-10 पैग तक बजा लो, उसके बाद तो ये सब जनरेटर की आवाज पर भी नाच लेंगें।
.
.
.
.

शराबी दरवाजे पे दस्तक देता है? उसकी बीवी दरवाजा खोलती है । शराबी -कौन हैं आप? बीवी- मुझे भूल गए। शराबी - नशा हर गम को भुला देता है।
.
.
.
.

3 पियक्कड़ों ने दारू पीके एक टैक्सी रोकी और कहा- चल।
टैक्सी चालक ने गाड़ी शूरू की और फिर बंद कर दी
बोला- ये लो साब हम पहुँच गए
पहले ने उसे पैसे दे दिए
दूसरे ने बोला... धन्यवाद
तीसरे ने एक थप्पड़ दिया और बोला- आराम से चलाया कर ...
मरवा देता आज.
.
.
.
.

एक शराबी लेट कर गाने गा रहा था .. 2-3 गाने गा कर वो उलटा लेटकर गाने लगा..
दूसरा शराबी: यार उलटा लेट कर गाने क्यूँ गाने लगा.
शराबी: Pehle साईड A थी अब B बी साईड है .
.
.
.
.

एक शराबी आँखें दान करने गया, काउंटर क्लर्क ने कहा, कुछ कहना चाहते हो? शराबी जिसे लगाओ उसे बता देना कि दो घूटँ बाद खुलती है .
.
.
.
एक शराबी तीसरी मंजिल से नीचे गिर गया, चारों तरफ भीड़ इकट्ठी हो गयी।
लोगों ने शराबी से पूछा- क्या हुआ?

शराबी- पता नही मैं भी अभी आया हूं।
.
.
.
.
एक शराबी एक पहुँचे हुए बाबा के आश्रम में गया.

शराबी – “महाराज, आपकी शरण में आया हूँ … मुझ पर कृपा कीजिये !”

बाबा – “क्या बात है बेटा ?”

शराबी – “महाराज मैं शराब की वजह से बहुत दुखी हूँ. कृपा करके मेरी शराब छुड़वा दीजिए !”

बाबा – “तुम बिलकुल सही जगह आए हो बच्चा ! ये समझो तुम्हारी शराब छूट गई !”


शराबी – “जय हो महाराज की ! मुझे विश्वास था कि  आप मेरी मदद जरूर करेंगे  ! ….. अब जल्दी से फोन कीजिये सिविल लाइन्स थाने के इंचार्ज को ! साले ने मेरी पूरी 12 बोतल व्हिस्की की जप्त कर ली हैं !!!”
.
.
.
.
एक शराबी की पत्नी उसे लेकर डॉक्टर के पास गई.

डॉक्टर – “कैसे आना हुआ ?”

पत्नी – “डॉक्टर साहब, इनकी तबीयत ठीक नहीं है …!”

डॉक्टर (शराबी से) – “शराब पीते हो ?”


शराबी – “पीता तो हूँ पर जैसा अभी मेरी बीवी ने आपको बताया, आज मेरी तबीयत कुछ ठीक नहीं है, इसलिए …. छोटा पैग ही बनाना !!!”
.
.
.
.
संता और बंता एक बार में बैठे शराब पी रहे थे.

संता – “ये तुम हर पैग के बाद जेब से क्या निकाल कर देखते हो ?”

बंता – “बीवी का फोटो !”

संता – “क्यों ?”


बंता – “इससे चेक कर लेता हूँ  कि दारु चढ़ी या नहीं ! … जब सुन्दर लगने लगेगी तो समझ लूँगा कि चढ़ गई है !!!”
.
.
.
.
एक शराबी की सोच -

वैसे तो हम ज्यादा पीते नहीं …


थोड़ी सी  ज्यादा हो भी जाए,

तो हमें नशा होता  नहीं …

और नशा हो  भी जाए,

तो हम नाले में गिरते नहीं …

अगर नाले में गिर भी जाएँ,

तो कुत्ते हमें चाटते नहीं …

और अगर कुत्ते चाट भी लें,

.

.

.


तो  हमें कौनसा पता लग जाता है यार !!!
.
.
.
.
.
.
.
एक शराबी झूमता हुआ घर की ओर जा रहा था कि अचानक ठिठक 
गया.


दरअसल उसके पीछे-पीछे दो लडकियां पता नहीं किस बात पर आपस
 में झगड़ते हुए चल रहीं थीं.

एक लड़की – “भगवान करे तेरी शादी इस शराबी से हो जाए … ”

दूसरी लड़की – “नहीं, भगवान  करे तेरी हो जाये … ”

.

.

.

शराबी  - “मैं रुकूं …. या जाऊं ?”

.

.

.

.
एक शराबी सड़क के किनारे बहुत ज्यादा पीने के कारण लगभग बेसुध 
सा 
पड़ा हुआ था. 

एक भले आदमी  ने उसके पास आकर पूछा – “आखिर इतनी ज्यादा पीने

 की क्या जरूरत थी ?”

शराबी – “मजबूरी थी … पीने के अलावा और कोई चारा ही नहीं था.. !”

भला आदमी – “आखिर ऐसी क्या मजबूरी हो गई थी ?”

शराबी – “बोतल का ढक्कन गुम हो गया था … !”
.
.
.
.
एक समाज सुधारक एक शराबी को समझाइश दे रहा था….

समाज सुधारक – “तुम शराब पीते हो ?”


शराबी – “हाँ.”

समाज सुधारक – “कब से पी रहे हो ?”

शराबी – “करीब 20 साल से … ”

समाज सुधारक – “रोज़ लगभग कितने की पीते हो ?”

शराबी – “यही कोई 500 रुपये की … ”

समाज सुधारक – “इसका मतलब एक महीने में 500×30= 15000 रुपये 
की पी जाते हो … ”

शराबी – “हाँ, लगभग …”

समाज सुधारक – “अगर साल भर की जोड़ें तो 15000×12=180,000 की 
हुई … और जैसा कि तुमने बताया कि 20 साल से पी रहे हो तो अब तक
 तुम लगभग 180,000×20=360,0000 की शराब पी चुके हो … ”

शराबी – “जी हाँ … ”

समाज सुधारक – “मूर्ख आदमी ! 36 लाख रुपये की अगर तुमने बचत 
की होती तो जानते हो आज तुम मर्सडीज में घूम रहे होते  ?”

शराबी – “आप शराब पीते हैं ?”

समाज सुधारक – “बिलकुल नहीं … ”

शराबी – “तो आपकी मर्सडीज कहां हैं …. ?”
.
.
.
एक शराबी दूसरे शहर में घूमने गया. शाम को तलब लगी तो एक दुकान 

पर जा पहुंचा.


शराबी – “एक बोतल व्हिस्की दो … ”

दुकानदार – “सॉरी, हमारे शहर में नशाबंदी है इसलिए हम आपको शराब 

नहीं दे सकते….”

शराबी – “मगर आपकी दुकान में तो शराब रखी है … ”

दुकानदार – “ये उन लोगों के लिए है जिन्हें सांप-बिच्छू काट ले … ”

शराबी – “अच्छा … तो फिर यहाँ सांप-बिच्छू किधर मिलेंगे ?”
.
.
.
Ek aadmi ne sharaab ke nashe mein apni saas par goli chalaa dee. Saas ne use giraftaar karwa diya.



Maamla adaalat mein pahuncha to judge ne us aadmi se kahaa – “tumne yeh harkat sharaab ke nashe mein kee hai, isi se tumhen sabak lena chahiye ki sharaab kitni buri cheez hai. 
Sharaab kee wajah se hi tumhare man mein chhupi apni saas ke prati nafrat kee bhavna bhadak uthi. 
Sharaab ke wajah se hi tum aape se baahar ho gaye aur tumne saas ko maarne kee neeyat se revolver khareedi. 
Sharab kee wajah se hi tumhara khud par kaabu nahi raha aur tumne saas kee or revolver taani aur ghoda dabaa diya…. aur sabse badi baat, sharaab kee wajah se tumhara nishaana chookaa … !”
.
.
.

एक शराबी ने अपने दोस्त को बड़े उदास स्वर में बताया – “मेरी बीबी ने मुझे नोटिस दिया है कि अगर मैंने शराब पीनी नहीं छोड़ी तो वह मुझे छोड़कर चली जायेगी.”


“ये तो सचमुच बहुत अफ़सोस की बात है.” – दोस्त ने हमदर्दी जताते हुए कहा.

“हाँ, भली औरत है …. बहुत याद आया करेगी उसकी … !”
.
.
.
.
.

संता – तुम्हारी टांग कैसे टूट गई ?


बंता – क्या बताऊँ यार ! दारू कम पी थी इसलिए !

संता – क्या  मतलब ? दारू कम पीने से टांग कैसे टूट सकती है ?

बंता – सीधी सी बात है, अगर मैंने छक कर पी होती तो मैं ठेके पर ही लुढक गया होता. अब चूंकि कम पी थी इसलिए घर की ओर चल पड़ा और रास्ते में एक गड्ढे में गिर गया …. !
.
.
.
.
एक शराबी ने एक रात बहुत ज्यादा पी ली. इतनी ज्यादा कि उसे होश ही नहीं रहा कि वह कहाँ है. सुबह जब वह जागा तो उसने पाया कि वह अपने घर में ही है. लेकिन साथ ही उसे डर भी सताने लगा कि आज तो पत्नी जबरदस्त हंगामा करेगी.


जैसे-तैसे डरते-डरते उसने आँखें खोलीं तो देखा कि घर में बिजली नहीं है और उसकी पत्नी बड़े प्यार से उसे पंखा झल रही है. उसके जागते ही पत्नी प्यार से बोली – “जाग गए आप ? बैठिये, मैं आपके लिए अभी चाय लेकर आती हूँ.”

शराबी ने चुपचाप चाय पी ली. इसके बाद पत्नी बोली – “मैं ज़रा सामान लेने बाज़ार जा रही हूँ  तब तक आप फ्रेश होकर नाश्ता कर लीजिए. गरमागरम नाश्ता किचन में तैयार रखा है. वापस आकर आपका मनपसंद खाना बनाऊँगी.”

शराबी सन्न था. उसे पत्नी के इस बदले व्यवहार की  वजह समझ में नहीं आ रही थी. पत्नी के जाते ही उसने अपने बेटे को बुलाया और पूछा – “बेटा , रात को क्या हुआ था ?”

बेटे ने बताया – “रात को 3 बजे आपके दोस्त आपको घर पर लेकर आये थे. आपको बिलकुल भी होश नहीं था. आते ही आप टेबल पर गिर पड़े जिससे टेबल का कांच टूट गया. आपने फर्श पर उलटी भी की थी.”

शराबी – “फिर तो तुम्हारी माँ को बहुत नाराज़ होना चाहिए था पर ऐसा लग नहीं रहा, क्यों ?”

बेटा – “वो तो आपने नशे की हालत में एक ऐसी बात कह दी कि उनका दिल ही  जीत लिया बस !”

शराबी – “क्या ? ऐसा क्या कहा मैंने ?”

बेटा – “आपको बिस्तर पर लिटाकर जब वो आपकी गन्दी पैंट  उतारने की कोशिश कर  रहीं थीं तो आप चिल्लाये  - ‘भगवान के लिए ऐसा मत करो ….. मैं शादीशुदा हूँ .. !!!’”
.
.
.
.
संता अपने लिए लड़की देखने गया.

लड़की के बाप ने पूछा – “बेटा, शराब पीते हो ?”

संता – “शराब फिर कभी सही … अभी तो सिर्फ चाय चलेगी !!!”
.
.
.
.
संता - अंग्रेजों ने चाँद पर पानी और बरफ की खोज कर ली है !

.

.

.

बंता - अच्छा ! इसका मतलब अब हमें सिर्फ दारू और नमकीन लेके जाना है … !
.
.
.
.
शराबी पति पीकर घर आया तो पत्नी की डांट से बचने के लिए एक किताब खोलकर पढ़ने का नाटक करने लगा.

पत्नी – “आज फिर पीकर आये हो ?”

पति – “न..नहीं तो !”

पत्नी – “तो फिर ये सूटकेस खोलकर क्या कर रहे हो …?”
.
.
.
.
.
एक शराबी अपना एक पैर फुटपाथ पर और एक सड़क पर रखकर टेढ़ा-मेढ़ा चल रहा था. एक पुलिसवाला यह देखकर बोला – “इतनी शराब क्यों पी जो ऐसे चल रहे हो ?”

शराबी जल्दी से सीधा होकर बोला – धन्यवाद, जो आपने बता दिया कि मैंने पी रखी है, वरना मैं तो समझ रहा था कि मैं लंगड़ा हो गया हूँ.”
.
.
.
.
एक शराबी की पीने की लत से तंग आकर उसकी पत्नी ने उसे तलाक दे दिया और बच्चों को लेकर मायके चली गई. बॉस ने भी नौकरी से निकाल दिया.
हैरान-परेशान वह अपने घर में अकेला बैठा था कि तभी उसकी नज़र अलमारी में लगी शराब की बोतलों पर पड़ गई. गुस्से में वह उठा और एक खाली बोतल उठाकर दीवार में दे मारी – “कमबख्त, तेरी वजह से मेरी बीवी मुझे छोड़कर चली गई.”
फिर उसने दूसरी बोतल उठाई और उसे भी तोड़ दिया – “हरामजादी, तेरी वजह से मेरे बच्चे मुझसे दूर हो गए.”
तीसरी बोतल का भी यही हश्र किया और चिल्लाया – “तेरी वजह से मेरी नौकरी चली गई.”

जैसे ही उसने चौथी बोतल उठाई, तो वह भरी हुई थी, उसे संभालकर दूसरी अलमारी में रखते हुए बोला – “मेरे दोस्त, तुम ज़रा एक तरफ हो जाओ, मुझे मालूम है इस सब में तुम्हारा कोई हाथ नहीं है…….” !!!
.
.
.
संता शराबी – भाईसाहब, टाइम क्या हुआ ?

राहगीर – सात बजकर पच्चीस मिनट ।

संता शराबी – स्साला …. सुबह से पूछ रहा हूं, हर कोई अलग-अलग टाइम बता रहा है …..
.
.
.
.
बंता – महिलाएं शराब से इतनी नफरत क्यों करती हैं ?

प्रीतो – क्योंकि इसको पीने के बाद उनके चूहे जैसे पति शेरों जैसा बर्ताव करने लगते हैं …………… ।
.
.
.
.
एक शराबी और उसकी बीबी रात को सो रहे थे। आधी रात को अचानक पति की चीख सुनकर पत्नी की आंख खुल गई। उसने पति से पूछा – क्या बात है ?

पति बोला – कुछ नहीं, मेरी कमीज नीचे गिर गई थी।

खीझ कर पत्नी बोली – तो इतनी जोर से क्यों चीखे ?

पति बोला – उस कमीज के अन्दर मैं भी था ।
.
.
.
.
एक शराबी ने एक दिन कुछ ज्यादा ही पी ली। लडखड़ाते कदमों से किसी तरह घर के दरवाजे तक पहुंचा और जेब से चाभी निकालकर ताला खोलने की कोशिश करने लगा।

नशा ज्यादा होने की वजह से वह चाभी को ताले में डाल ही नहीं पा रहा था। चाभी कभी इधर हो जाती कभी उधर । उसे परेशान होते देख पास ही खड़े एक व्यक्ति ने उसकी मदद करनी चाही ।

पास आकर बोला – लाओ चाभी, ताला मैं खोल देता हूं।

शराबी बोला – नहीं, नहीं, ताला तो मैं खोल लूंगा। तुम तो बस जरा दरवाजे को पकड़ के रखो।
.
.
.
.
एक शराबी (दूसरे शराबी से) – यार, मरने के बाद हम स्वर्ग जाएंगे या नरक ?

दूसरा – तुम्हें जहां अच्छा लगे चले जाना । पीने के बाद मुझसे तो कहीं आया – जाया नहीं जाता।
.
.
.
.
एक आदमी को एक बढ़िया किस्म की शराब की बोतल उपहार स्वरूप मिली। वह उसे लेकर लपकता हुआ घर की ओर जा रहा था। बोतल मिलने की खुशी में वह इतना मगन था कि सड़क पर आती हुई मोटरकार से बचकर निकल न सका। लिथड़ गया। उठकर लंगड़ाता हुआ सड़क पार कर रहा था कि कुछ पतली गर्म चीज टांग पर से बहती हुई मालूम हुई।
”हे प्रभु” वह दुआ करने लगा।
”यह खून हो।”
.
.
.
.









No comments:

Post a Comment