Popads

Friday, 23 May 2014

देशी चुटकले................गुदगुदाते, चुटीले और मजेदार चुटकुले

एक बार एक व्यक्ति भैंस खरिदने के लिए उसके मालिक के घर गया।
हेमन्त: भाई साहब, इस भैस की किमत क्या है।
मालिक: तीन हज़ार रुपय।
हेमन्त: भैया, तीन हज़ार रुपये तो इस भैस के हिसाब से बहुत ज्यादा हैं
मालिक : वह कैसे?
हेमन्त: इस की एक आंख भी नही है।
मालिक: तुम्हे भैस दूध देने के लिए चाहिए या इससे कशिदाकारी करवानी है।
.
.
.
.
एक बे ताऊ गाम में वेद का काम करया करता पर जब ते शहर में बड़े बड़े अस्पताल खुले बेचारे का काम कती बंद हो ग्या ते किसे न कहि शिवजी की पूजा करया कर? ताऊ ने पूजा पाठ शुरु कर दिया अर एक दिन साची में ऐ शिवजी ने दर्शन दे दिए अर बोल्या -- ताऊ कीमे वरदान मांग ले ? 
ताऊ बोल्या --- हे भोलेनाथ मन्ने तू यो वरदान दे दे अक मन्ने मरीज़ का देखते ऐ बेरा पाट जा अक यो मरेगा अक जिवेगा ? शिवजी बोल्या -- ताऊ देख ज्ये मेरी परछाई बीमार के पैरो में दिखे ते समझ लिए मरीज जिवेगा अर ज्ये मै सिरहाने दिखू ते समझ लिए वो मरेगा ? 
भोले के वरदान ते ताऊ का थोड़े ऐ दिना में पूरा नाम होग्या अर ताऊ ने बहुत पैसे कमा लिए अर एक दिन ताऊ खाट पे लेटा लेटा सोचन लाग रह्या था -हे भोलेनाथ तेरा यो एहसान मै क्यू कर उतारू गा इतने में ताऊ न भोला आपने सिरहाने खड़ा दिखा अर ताऊ के ते सांप सा लड़ गया अर इतने में भोला बोल्या -चाल ताऊ तेरा टेम पूरा हो लिया से मै तन्ने लेन आया सु ? 
पर ताऊ कित हार मानन आला था ताऊ ने फट दे सी ने क्लाबाती खाई अर आपने पैर भोले की तरफ कर दिए , पर भोला भी इब उसकी सिराहने की और खड़ा हो गया ,ताऊ ने दुबारा फेर क्लाबाती खाई अर घनी ऐ देर तक न्यू ऐ चलता रह्या ,ताऊ न भोले के चकर कटवा दिए ?
थोड़ी हान में ताऊ के घर आले आ गे अर उन ने सोची अक बाबू पागल हो गया है? ते उन ने मिल के न ताऊ दाब लिया तो भोला बोल्या --इब बोल ताऊ के करेगा ,आ गया न उंट पहाड़ के निचे ?
ताऊ बोल्या -- हे भोलेनाथ मै ते घर आला ने ऐ मरवा दिया, ना मै तेरे तो के काबू में आऊ था
.
.
.
.
हर तरफ गोलमाल है साहब
आपका क्या खयाल है साहब
कल का भगुआ चुनाव जीता तो
आज भगवत दयाल है साहब
लोग मरते रहें तो अच्छा है
अपनी लकड़ी की टाल है साहब
आपसे भी अधिक फले फूले
देश की क्या मजाल है साहब
मुल्क मरता नहीं तो क्या करता
आपकी देखभाल है साहब
रिश्वतें खाके जी रहे हैं लोग
रोटियों का अकाल है साहब
इसको डेंगू, उसे चिकनगुनिया
घर मेरा अस्पताल है साहब
तो समझिए कि पात-पात हूं मैं
वो अगर डाल-डाल हैं साहब
गाल चांटे से लाल था अपना
लोग समझे गुलाल है साहब
मौत आई तो जिंदगी ने कहा-
'आपका ट्रंक कॉल है साहब'
.
.
.
.
एक बार गाँव के एक निजी स्कूल के संचालक ने कॉन्वेंट अच्छी अंग्रेजी जानने वाले टीचर को प्रिंसिपल के रूप में रख लिया टीचर ने आते ही बच्चों का अंग्रेजी ज्ञान जांचने के लिए बोर्ड पे future शब्द लिखा ओर पूंछा कि पढ़ के बताओ सबसे होशियार बच्चा खड़ा हुआ ओर बोला सर ' फूटूरे '
टीचर नाराज होकर संचालक से मिला ओर कहा कि वो नोकरी नहीं करेगा बच्चों को उच्चारण तक नहीं आता संचालक बोला साहब आप बुरा ना माने धीरे धीरे सीख जायेंगे इनका तो नटूरे (nature) ही ऐसा है यह सुन कर टीचर बेहोश हो गया.
.
.
.
.
गज्जू दोस्तों से ----- यार में कल जंगल केनी हो लिया इकल्ला ही भीतर ने बड के देख्या कि सामी शेर, अर्र भाई मेरे उठया छो, मै कती हे लाल हो ग्या गुस्से में ओर भाई शेर के दोनों गाल्याँ पे दो थपोडे मारे दोनों आँख्या में अँगली ते मारे घुस्से ओर पिछोंडे पे दो लात मारी.
दोस्त -- भाई वाह्ह रे तन्ने तो कमाल कर दिया दोस्त जीभ ने काढ के ह..ह .. ओर यार फेर के हुया बता बता ..........................................................................................................................................................................
गज्जू--- फेर के होना था मै लाल आंख करके शेर केने लखाया ओर कह्या कि रे शेर साले अगर तू जिन्दा होता ना तो तेरा इससे भी बुरा हाल करता हराम खोर
.
..
.
.
.
तू लड़की देख आया
संता- ओए तू लड़की देख आया? कैसी है?
बंता- रंग से काली है और कान से कम सुनती है..
संता- जरा इंग्लिश में बता..
बंता- ब्लैक-बैरी है..
.
.
.
.
मां (बेटे से): इतनी देर से आ रहा है! कहां गया था?
बेटा: फिल्म देखने।

मां: कौन सी?
बेटा: मां की ममता।

मां: जा बेटा, ऊपर जा... नई फिल्म लगी है, वह भी देख ले!
बेटा: कौन सी?
.
.
.
.
मां: बाप का कहर!
.
.
.
.
संता: मेरी बीवी इतना मजाक करती हैं कि क्‍या बताऊं।
.
बंता: क्‍या मजाक करती है?
.
संता: कल में घर गया और उसकी आंखों पर हाथ रखा तो वो मजाक में बोली दूधवाला।
.
.
.
.
एक बार एक हाईकोर्ट के जज की कार देर रात शहर से बहुत दूर ख़राब हो गई वह जज पास ही एक फॉर्म हाऊस देखकर वहां कुछ मदद मिलेगी इस आशा से गया।
वहां एक सुंदर औरत रहती थी उस औरत ने कहा कि वह वहां अकेली रहती है इसलिए उसे गैराज खुलने का सुबह तक इंतजार करना पड़ेगा! तो ठीक है, इस हालात में मैं आपसे निवेदन करता हूँ कि मुझे यहां रातभर रहने के लिए स्थान दें, उस जज ने कहा।

लेकिन सर मैं यहां अकेली हूं उस स्त्री ने कहा डरने की कोई बात नही आखिर मैं हाईकोर्ट का जज हूँ, उस जज ने कहा। 
लेकिन सर यहां सिर्फ एक ही बेडरुम है उस स्त्री ने कहा।
डरने की कोई बात नही आखिर मैं हाईकोर्ट का जज हूँ, उस जज ने कहा। 
वे दोनों बेडरुम की तरफ गए और उस स्त्री ने कहा, लेकिन सर यहां तो सिर्फ एक ही बेड है डरने की कोई बात नही आखिर मैं हाईकोर्ट का जज हूँ उस जज ने कहा।
इसलिए वे रात को एक ही बेड पर एक दूसरे की तरफ पीठ कर एक ही बेड पर सो गए।
सुबह जागने के बाद जब जज ने उस स्त्री के साथ फॉर्म हाऊस के परिसर में एक चक्कर लगाया एक जगह उसे मुर्गों का एक काफिला दिखा लेकिन नजदीक जाकर देखने के बाद जज के ख्याल में आया कि उस काफिले में सिर्फ 20 मुर्गीयां है और लगभग 60 मुर्गे है, उसे वह थोड़ा अटपटा सा लगा इसलिए उसने उस स्‍त्री से पूछा 60 मुर्गे और सिर्फ 20 मुर्गियां थोड़ा अटपटा नही लगता।
इसमें अटपटा क्या है इन 60 मुर्गों में सिर्फ 10 मुर्गे ही काम के है और बाकि 50 जज ने पूछा?
बाकि 50 हाईकोर्ट के जज है, उस स्त्री ने जवाब दिया।
.
.
.
.
.
एक बीस बाईस साल छोरा भयंकर अंधड तूफान में दुकान पे पंहुचा ओर बोला ताऊ दही है के 
दुकानदार --- तेरा ब्याह हो ग्या के 
छोरा -- ओर तू के सोचे से मेरी माँ भेजेगी दही ल्यान इसे तूफान में.
.
.
.
.
एक नौजवान अपनी नई-नवेली दुल्हन के साथ कार से कहीं चला जा रहा था कि रास्ते में अचानक कार के नीचे (पहिये में) एक मुर्गी आ गई।
'यह तीस रुपए रख लो भाई, तुम्हारी मुर्गी की कीमत। नौजवान ने मुर्गी के मालिक को रुपए देते हुए कहा।
'पचास रुपए और दीजिए। मुर्गीवाले ने कहा।
'पचास रुपए वो किसलिए? हैरत से नौजवान ने पूछा।

'मुर्गे को जब यह पता चलेगा कि उसकी नई-नवेली दुल्हन दबकर मर गई है, तो वह भी खुदकुशी कर लेगा हुजूर। मुर्गीवाला बोला

No comments:

Post a Comment