Popads

Wednesday, 9 April 2014

Wife Hindi Hasya Poem


कभी तो मायके जाओ ना बीवी,
सुख का आभास कराओ ना बीवी।

साथ रह-रह कर अब पक चुके हैं,
बाते सुन-सुन कर अब थक चुके हैं

पार्टियों मे जाने का दिल करता है,
ठंडे शावर मे नहाने का दिल करता है।

कभी तो मायके जाओ ना बीवी,
सुख का आभास कराओ ना बीवी।

सिगरेट-विगरेट और दो पैग लगाने का दिल करता है,
पुरानी कोई गर्लफ्रेंड से मिलने मिलाने का दिल करता है

कभी तो कुछ तरस खाओ ना बीवी ...
कभी तो मायके जाओ ना बीवी …


मेरे सपने सारे सुला दिये हैं,
मेरे अपने सारे भुला दिये हैं।

पुराने यार सज्जन सब छुड़ा दिये हैं,
कि रिश्ते-नाते सब तुड़ा दिये हैं।

मेरे ससुराल से भी रिश्ता मेरा तुडवाओ ना बीवी ...
कभी तो मायके जाओ ना बीवी,
कभी तो मायके जाओ ना बीवी ...


... All husbands waiting for summer vacations.



No comments:

Post a Comment