Popads

Wednesday, 30 April 2014

Jokes ............... रॉबर्ट वाड्रा .............राष्ट्रीय दामाद जी......!!

राष्ट्रीय दामाद जी......!!

रॉबर्ट वाड्रा जब पैदा हुए तो डॉक्टर के पैरों तले की ज़मीन खिसक गयी....!!

रॉबर्ट वाड्रा जब पाँच साल के हुए तो उन्हें क़ब्ज का रोग हुआ और जब बीस साल के हुए तो 'कब्ज़ा' का....!!

रॉबर्ट वाड्रा बचपन में कंचे खेलते और जीतने पर अगले की जमीन पर कब्ज़ा कर लेते....!!

रॉबर्ट वाड्रा किसी भी मैदान पर सिर्फ एक बार क्रिकेट खेलते, अगली बार कब्ज़ा-कब्ज़ा.....!!

रॉबर्ट वाड्रा सिर्फ दसवीं तक पढ़ सके क्योंकि उस साल के बाद उन्होंने स्कूल की ज़मीन पर कब्ज़ा कर लिया....!!

पृथ्वी का 70% हिस्सा इसीलिए जलमग्न है, ताकि उस पर रॉबर्ट वाड्रा कब्ज़ा न कर सकें....!!

रॉबर्ट वाड्रा को जितनी आसानी से हरियाणा-राजस्थान में ज़मीन मिल जाती है, उतनी आसानी से बाजार में पतली पिन वाला चार्जर भी नहीं मिलता.....!!

रॉबर्ट वाड्रा के अंदर उसी राक्षस के गुण सूत्र हैं, जिससे पृथ्वी को बचाने को भगवान ने वराह अवतार लिया था....!!

रॉबर्ट वाड्रा ने अपनी ज़िन्दगी में सिर्फ एक अच्छा काम किया, प्रियंका से शादी....!!

प्रियंका वाड्रा आज भी हर शाम रॉबर्ट से पूछती हैं, "रात के खाने में कितने एकड़ ज़मीन लेंगे....??"

सूर्यग्रहण और चन्द्रग्रहण के समय सूरज चंद्रमा कहीं नहीं जाते, रॉबर्ट वाड्रा के कब्ज़े में होते हैं.....!!

चाँद-तारे पृथ्वी से करोड़ों किलोमीटर दूर हैं, ताकि रॉबर्ट उन पर पहुँचकर उन पर कब्ज़ा न कर लें....!!

रॉबर्ट वाड्रा के पहले भारत में इतनी जल्दी इतना विकास सिर्फ हंसिका मोटवानी ने किया था....!!


इतनी खूबियों के बाद भी रॉबर्ट कभी ख़ुद को बड़ा आदमी नहीं मानते क्योंकि वो 'ज़मीन' से जुड़े हैं....!!

1 comment:

  1. फेकिंग न्यूज़ के सौजन्य से:
    "रॉबर्ट वाड्रा से बचने के लिए चीन अपनी दीवार ऊँची करने कि तैयारी में"
    भारत में चुनाव का मौसम है| देश के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के चुनाव पर पूरे दुनिया के मिडिया कि नजरें लगी है |
    भारत में इस वक्त नरेंद्र मोदी के बाद अगर किसी कि सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है तो वो हैं गांधी परिवार के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की|
    पूरे देश में रॉबर्ट वाड्रा का जमीन प्रेम जग जाहिर है भारत में लोग अपने जमीन को रॉबर्ट वाड्रा के बुरी नजर से बचाने के लिए अपनी ही जमीन पर “ये संपत्ति रॉबर्ट वाड्रा कि है” नाम कि तख्ती लगा रहे हैं ताकि रॉबर्ट वाड्रा उसे अपनी ही जमीन समझ कर उसपर कब्जा ना करें|
    रॉबर्ट वाड्रा रॉबर्ट वाड्रा के किस्से अब देश कि सरहदें लांघ कर विदेशों में पहुँचने लगी है|
    भारत के पडोसी देश नेपाल, पाकिस्तान, चीन, बांग्लादेश के सरकारों के रातों कि नींद उड़ गई है कि कैसे वो रॉबर्ट वाड्रा कि नजर अपनी जमीन पर पड़ने से बचा सकें|
    इधर दिल्ली में बढती गर्मी और BJP द्वारा अपने ऊपर हो रहे हमलों से परेशान होकर रॉबर्ट वाड्रा ने कुछ दिन अज्ञातवास में बिताने का फैसला किया जहाँ उन्हें सुकून के पल हासिल हो सकें|
    काफी सोंच विचार करने के बाद उन्होंने अरुणाचल प्रदेश में छुट्टी बिताने का फैसला किया|
    मिडिया के जरिये ये खबर जब चीन पहुंची तो वहां कि सरकार में हडकंप मच गया …. आपात मीटिंग बुलाई गई ये जानने के लिए कि क्या उपाय किया जाए कि रॉबर्ट वाड्रा कि नजर हमारी जमीन पर ना पड़े ? ….
    चीन में इमरजेंसी कि घोषणा कर दी गई .. जनता से sms के जरिये राय आमंत्रित किये गए |
    अंत में ये तय किया गया कि चीन अपनी पुरानी ऐतिहासिक चीन कि दीवार को और ऊँचा करेगा ..
    चूँकि पुरानी दीवार बहुत पुरानी है इसलिए उसमे कहीं कहीं छेद हो गए हैं ..
    रॉबर्ट वाड्रा उन दीवारों के छेद से दूरबीन के जरिये ना झाँक सके इसलिए चीन से लगती अरुणाचल कि सीमा पर एक और नयी दीवार बनायी जायेगी
    जो दुनिया कि सबसे ऊँची दीवार होगी और पुरानी दीवार से ज्यादा मोटी और मजबूत होगी|
    समाचार लिखे जाने तक दीवार बनाने काम शुरू हो चूका था …
    जब तक ये खबर छप कर आप तक पहुंचेगी तब तक निर्माण कार्य पूरा भी हो जाएगा|

    ReplyDelete