Popads

Tuesday, 3 December 2013

आधुनिक हिंदी कविता में सबसे लोकप्रिय पंक्तियां .............अकाल और उसके बाद – नागार्जुन..............119613

कई दिनों तक चूल्हा रोया, चक्की रही उदास
कई दिनों तक कानी कुतिया सोई उनके पास
कई दिनों तक लगी भीत पर छिपकलियों की गश्त
कई दिनों तक चूहों की भी हालत रही शिकस्त।

दाने आए घर के अंदर कई दिनों के बाद
धुआँ उठा आँगन से ऊपर कई दिनों के बाद
चमक उठी घर भर की आँखें कई दिनों के बाद
कौए ने खुजलाई पाँखें कई दिनों के बाद।

रचनाकाल : 1952
.
.
.
.
.
.


 दोहा-छंद में लिखी जनकवि नागार्जुन की कविताअकाल और उसके बादअपने स्वभाव के अनुरूप नाविक के तीर की तरह हैदिखने में जितनी छोटी, अर्थ में उतनी ही सघन.


नागार्जुन भारतीय ग्राम जीवन के सबसे बड़े चितेरे हैं और ‘अकाल और उसके बाद’ में घर में रोते चूल्हे, उदास चक्की और अनाज के आने के चित्र हमारी सामुहिक स्मृति में हमेशा के लिए अंकित हो चुके हैं.


इस कविता को हम जब भी पढ़ते हैं, वह हमेशा ताज़ा लगती है. इस कविता की अंतर्निहित गतिमयता है जो उसे नया और प्रासंगिक बनाए रखती है. आधुनिक हिंदी कविता में सबसे लोकप्रिय पंक्तियां खोजी जाएं तो यही कविता सबसे पहले याद आएगी.
.
हरिशंकर परसाई के दो व्यंग्य................मुण्डन.....................प्रेमियों की वापसी........ 
 


No comments:

Post a Comment