Monday, 25 November 2013

Hasya .............टीवी पर सुना कि रुपया बासठ का हो गया ! हमने सोचा मोहल्ले में सबकी प्रतिक्रिया ली जाए !....................116513

यूँ ही !!

टीवी पर सुना कि रुपया बासठ का हो गया ! हमने सोचा मोहल्ले में सबकी प्रतिक्रिया ली जाए ! मोहल्ले में घूम-घूमकर हमने सबसे पूछा, जो अलग-अलग प्रतिक्रिया आई...आपके सामने प्रस्तुत है !


प्रश्न- सबसे एक ही सवाल था कि "रुपया डालर के मुकाबले बासठ का हो गया है, आप क्या कहेंगे" ??
कामवाली बाई- हमको तो अभी पचास ही मिलता है बाबूजी, बड़ी खुशी की बात है अगर बारह ओर बढ़ जाए तो....

मजदूर- यानी सस्ता हो गया आज ...मेरी मति मारी गई थी ..कल ही डालर की बनियान अस्सी में खरीदी है ,)

रामू कृषक- भैयाजी एक किलो प्याज में कितना आ जायेगा

वृद्ध सज्जन- मैं अस्सी का हूँ बेटा, अभी मेरे से १८ साल छोटा है

प्रायमरी का बच्चा- अंकल...जब मरेगा तब बता देना, एक दिन की छुट्टी मिलेगी

कालेज विद्यार्थी- हन्ड्रेड का होना चाहिए यार, चेन्ज में बहुत प्राब्लम होती है

क्रिकेटर- वेरी लकी...आई थिंक सेंचुरी मारेगा

शराबी- अपने को क्या फरक पड़ना है, अपुन तो पचास का पीते हैं रोज

चायवाला- यानी दो कप पानी ओर....

पहलवान- बासठ थप्पड़ दूँगा गिनकर...अगर दोबारा पूछा तो...

भिखारी- मतलब अब ओर दस मिनिट टाइम बर्बाद करना पड़ेगा

दुकानदार- धन्यवाद आपका ! ए लड़के (नौकर से) साठ की निकाल के पैंसठ की स्लीप लगा दे

सत्ताधारी पार्षद- अभी ऐसी कोई जानकारी मेरे पास नहीं हैं, आप बता रहे हैं तो बासठ का फिगर तो काफी अच्छा है

वार्ड विपक्ष का नेता- अभी कल ही सुना है कि देश को आजाद हुए सड़सठ साल हो गये, और रुपया अभी बासठ पर ही अटका है, धिक्कार ऐसी सरकार को जो एक रुपया साल भी नहीं बढ़ा सकी
(मोहन नागर)

.
.
मोहन कुमार नागर की कविताएँ...... 

No comments:

Post a Comment