Popads

Wednesday, 4 September 2013

श्रीकृष्ण के 12 स्वरूप.............................. 94513


श्रीकृष्ण के 12 स्वरूप इस प्रकार हैं:-

1- पहला स्वरूप- "लड्डू गोपाल"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो एक बालक कृष्ण हैं, जिनके हाथों में लड्डू है.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

2- दूसरा स्वरुप- "बंसी बजइया" -
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो एक बालक कृष्ण हैं, हाथों में बंसी लिए हुए हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

3- तीसरा स्वरुप- "कालिया मर्दक"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो कालिया नाग के सर पर नृत्य मुद्रा में स्थित हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

4- चौथा स्वरुप- "बाल गोपाल"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो एक पालने में झूलते शिशु कृष्ण हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

5- पांचवां स्वरुप- "माखन चोर"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरूप, जिसमें वो माता यशोदा के सामने ये कहते हुए दीखते हैं कि मैंने माखन नहीं खाया.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

6- छठा स्वरुप- "गोपाल कृष्ण"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो बन में सखाओं सहित गैय्या चराते हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

7- सातवां स्वरुप- "गोवर्धनधारी"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो एक छोटी अंगुली से गोवर्धन पर्वत उठाये हुये दीखते हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

8- आठवां स्वरुप- "राधानाथ"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो राधा और कृष्ण जी का प्रेममय झांकी स्वरुप दीखता है.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

9- नौवां स्वरुप- "रक्षा गोपाल"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो द्रोपदी के चीर हरण पर उनकी साड़ी के वस्त्र को बढ़ते हुये दीखते हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

10- दसवां स्वरुप- "भक्त वत्सल"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो सखा भक्त सुदामा के चरण पखारते हैं या युद्ध में रथ का पहिया हाथों में उठाये क्रोधित कृष्ण.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

11- ग्यारहवां स्वरूप- "योगीश्वर कृष्ण"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो एक रथ पर अर्जुन को गीता का उपदेश करते हैं.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

12- बारहवां स्वरुप- "विराट कृष्ण"-
भगवान श्री कृष्ण जी का ऐसा स्वरुप जिसमें वो युद्ध के दौरान अर्जुन को विराट दर्शन देते हैं.
जिसे संजय सहित वेदव्यास व देवताओं नें देखा.!
ऐसे स्वरुप का ध्यान करें.

No comments:

Post a Comment