Popads

Saturday, 27 July 2013

Jokes...............वो पापा के साथ कौन सी वाली बुआ बैठी है...??................80513

A woodcutter goes to a jungle, suddenly all the birds started following him..
Why.?.?.?
.
.
.
.
.
.
.
"THE AXE EFFECT
.
.
.
.
..
..
 
 .
.
.
.
.
..
..

Q.Jab Ladki Bhaag Jane Ki Dhamki De To Ma Baap Ko Kya Karna Chahiye?
.
.
A.Uska Mundan Karwa Do 5-6 Mahine Tak Bhagna Kya, Ghar Se Bahar Kadam Bhi Nhi Rakhegi TAKALI..
.
.
.
.
..
..
 
I understand Raj Babbar's problem.
Cong. leaders are so used to their Swiss Bank accts, that they are confusing Euro' s as Rupees!
.
.
.
.
..
..
These lines from woman side....................

Woman has Man in it;

Mrs. has Mr. in it;

Female has Male in it;

She has He in it;

Madam has Adam in it;

Okay, Okay, it all makes sense now...

I never looked at it this way before:

Ever notice how all of women's problems start with MEN ?

MENtal illness

MENstrual cramps

MENtal breakdown

MENopause

GUYnecologist

AND

When we have REAL trouble, it's a.. HIS terectomy

Remember You Don't Stop Laughing Because You Grow Old, You Grow Old Because You Stop Laughing..................
.
.
.
.
.
..
..
Wife: तुम हर हफ्ते फिसिंग के लिए जाते हो ना?.......
.
.
Husband: हाँ हाँ तो?.......
.
.
Wife: हरामजादी आज वो मछली आयी थी, कह रही थी कि वो माँ बनने वाली है ........
.
.
.
.
..
..
 भगवान को निमन्त्रण ....................

भगवान पता लिख लो मेरा, मैं मेन रोड में रहता हूँ
जब फुर्सत हो तो आ जाना, मालुम है कब से कहता हूँ

यह बात प्रमाणित है भगवन, तुमको बुलाओ तो आते हो
तुम ही हो वह जो तुलसी से, अपना मानस लिखवाते हो

तुमने कबीर के दोहों में क्या अपना अंश नहीं डाला
वो कौन कि जिसने जाकर के, मीरा का बदला था प्याला

तुम पन्त,निराला में उतरे, तुम प्रेमचंद जी पर प्रसन्न,
साहित्य तुम्हारी ही सत्ता, तुम से कैसे रहता अभिन्न

बस इसीलिए आशाओं से, परिपूर्ण मेरी अभिलाषा है
तुम मेरी बात समझ लेना, क्योंकि अपनी एक भाषा है

तुम अपनी मर्जी से आओ, या मेरी मर्जी से आओ
जैसे भी आना है आओ, जब भी आना है तो आओ

भगवान तुम्हें तकलीफ न हो, मैं व्याकुल हूँ, बेरहम नहीं
तुम नहीं आओगे मेरे घर, मेरे मन में यह वहम नहीं

तुम आज आओ या कल परसों, या न आओ बरसों-बरसों
मुझको इसकी परवाह नहीं, जन्मों-जन्मों या कुछ बरसों

मैं कर लूँगा प्रभु इंतजार, जब आएगा मेरा नंबर
मैं तो यह सोच बहुत खुश हूँ, द्वारे आएंगे पैगम्बर

भगवान मेरे दरवाजे पर, मैंने टांगी है कॉल बेल
धीरे से उसे बजा देना, पर डर है हो बिजली न फेल

मैं स्वागत मैं तैयार रहूँ, तुम सुबह आओ या देर रात
भगवान परांठा आलू का, खाओगे या फिर दाल भात

भगवान तुम्हारे मीनू को, क्या पहले से पढ़ सकता हूँ
कोई दुर्लभ व्यंजन प्यारा है, तो कोशिश कर गढ़ सकता हूँ

वैसे ये सभी चोचले हैं, मैं कह सकता हूँ, दावे से
तुमने कच्चे चांवल खाए थे, अपने मित्र सुदामा से

जब आये थे तुम कुटिया में, शबरी के जूठे बेर चखे
आ जाओ मेरे भी घर आँगन, हे मेरे प्रिय भगवान सखे

--मनोज जैन"मुजाहिद"
.
.
.
.
..
..
 पत्नी पति से फोन पर -: सुनो जी कहाँ हो कुछ पूछना था

पति -: जल्दी बोलो दफ्तर में हूँ और काम कर रहा हूँ तुम कहाँ और क्या पूछना है..??

पत्नी : मैं बच्चो के साथ के.एफ.सी. में तुम्हारे पीछे वाली टेबल पर चिकन बर्गर खा रही हूँ..
और बच्चे पूछ रहे है .. कि वो पापा के साथ कौन सी वाली बुआ बैठी है...??
.
.
.
.
..
..
..
 एक मारवाड़ी ने शादी में दामाद को CHESS Board Gift दिया ......

दामाद बोला : ये क्या? ....

ससुर ने कहा : तमन्ना थी बेटी को शादी में
हाथी
घोड़े
ऊंट
नौकर-चाकर दूँ
आज मेरी इच्छा पूरी गई .......
.
.
.
.
..
..
..
 
बेटा (मां से): मां, मैं आपको कैसे मिला?
मां: बेटा, मैंने एक बर्तन में मिट्टी डाल कर रख दी थी और फिर कुछ दिनों बाद देखा तो उसमें से मुझे तुम मिले।

बच्चे ने भी ऐसा ही किया।
...लेकिन कुछ दिनों बाद जब उसने बर्तन से मिट्टी निकाली, तो उसे एक छोटा-सा मेंढक मिला।

बच्चा (गुस्से से): दिल तो करता है कि तेरा गला दबा दूं, पर क्या करूं, तू मेरी औलाद जो है!

No comments:

Post a Comment