Wednesday, 12 June 2013

Jokes................लड़की के बाप से "पूरी लड़की" माँगा करो ............62813

.पेश है एक कंप्यूटर से प्रेरित शायरी ....

* दिमाग में अगर Printer होता
तो ख्यालों के Print out निकल लेते ......

* मन में अगर Blue tooth होता
तो भावनाओं को Transfer कर देते ....

* दिल अगर CPU होता
तो सबकी यादों को Save कर लेते ....

* धडकन अगर Pen-drive होती
तो ज़िंदगी का Backup ले लेते...

काश ...............

* ज़िंदगी एक Computer होती
तो बचपन Restart कर लेते .....

.
.
.
.
.
.
..
..
..

Two software engineers happened to be very close friends.
One day, while sitting in a restaurant and having coffee,
one friend asked the other..
"howz your relationship with that new G/f going"?
The other guy "i forgot to mention, yesterday she came to my house".
Friend: WOW!!! What happened then.. tell me the full story...
Man: Well.. i played her favorite music and we danced.
Friend: Then what happened..??
Man: Well.. as we were dancing together.. we kissed...
Friend: then what... keep going...
Man: Well.. i picked her up in my arms and placed her on the table.. next to my new laptop..
Friend: You got a New Lapotop.... When...???
Man: Just last week... my parents gifted me one...
Friend: Wow!! What configuration... ??
Man: 500GB harddisk, 8 GB ram.. 4.3GH processor... ........
Friend: Does it have an HDMI port?
Man: Yes
Friend: A blu-ray burner?
Man: Yes
Friend: AWESOME DUDE..!!!

कर दिया न रोमांटिक घटना का सत्यानाश .....

.
.
.
.
.
.
..
..
..
 
आजकल की शायरियों का चलन कुछ ऐसा होता जा रहा है ................

* आदमी को " फेमस " होना चाहिए ...........

बदनाम तो " मुन्नी " भी होती हैं

* लड़की को kiss करना चाहिए ......

Hug तो हम toilet में भी देते हैं .......

* लड़की के बाप से "पूरी लड़की" माँगा करो ........

वरना हाथ तो गब्बर भी मांगता है ............

,
.
.
.
.
.
.
.
 
सच्ची बात है की नई .............................

सुना है रुपया गिर गया
.
किस कोने मे गिर गया
काला था या सफेद
एक का था या दस का
क्या इसको गिराने मे आर एस एस का हाथ है
स्विस खाते मे तो नही गिरा
जीजा जी ने DLF को नेग मेँ तो नही दिया
आउल बाबा ने दिहाड़ी समझ कर जेब मेँ रख लिया
ए राजा ने छोटा टाप अप तो नही गिरा दिया
सोनिया ने सिगड़ी के लिये कोयला तो नही खरीद लिया
इस रूपये को गिराने मे साप्रदायिँक शक्तियो का तो हाथ नही
क्या उस रुपये का उपयोग मोदी जी ने गुजरात दंगे मेँ उपयोग किया
क्या उस रुपये से से लगड़े खुर्शीद को भीख समझ कर बैसाखी खरीदने के लिये कटोरे मे डाल दिया
या उस रुपये का टिकट खरीद कर आडवाणी जी ने इस्तिफा पोस्ट किया था
या उस रुपये को मीडिया ने बंदरबाँट कर लिया
.
.
मनमौन सिँह या तो जबाब दे
या कुर्सी मोदी जी को दे
अब वो ही गिरे रुपये को खोज कर लायेँगे..................

.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
न मिलता गम तो बर्बादी के अफसाने कहां जाते,
अगर दुनिया चमन होती तो वीराने कहां जाते,

चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई गैर तो निकला
सब होते अगर अपने तो बेगाने कहां जाते,

तुम्हीं ने गम की दौलत दी ...बड़ा अहसान फरमाया
वरना हम ये अपने हाथ फ़ैलाने कहां जाते ......

.
.
.
.
..
..
..
 
पप्पू अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में लिखता है ......

वो इश्क तो करती है, पर जुनून नहीं करती …
वो कत्ल तो करती है, पर खून नहीं करती ...
इतनी कंजूस है मेरी चाहने वाली .....
वो मिस काल तो करती है, पर फोन नहीं करती ....

.
.
.
.
.
.
..
..
 
पहले जमीन बांटी फिर घर भी बट गया
इन्सान अपने आप में कितना सिमट गया

अब क्या हुआ कि खुद को मैं पहचानता नही
मुद्दत हुई कि रिश्ते का कुहरा भी छट गया

हम मुंतजिर थे शाम से सूरज के दोस्तों
लेकिन वो आया सर पे तो कद अपना घट गया

गांवों को छोड़ कर तो चले आये शहर में
जायें किधर कि शहर से भी जी उचट गया

किससे पनाह मांगे, कहां जायें, क्या करें
फिर आफताब रात का घूंघट उलट गया

सैलाबे-नूर में जो रहा मुझ से दूर-दूर
वो शख्स फिर अंधेरे में मुझसे लिपट गया

शीन काफ़ निज़ाम

.
.
.
.
.
.
..
..
 *****
आज का दोहा .…………

धन  चाहे  मत दीजिये जग  के पालन हार
पर इतना तो कीजिये कि मिलता रहे उधार ........

.
.
.
.
.
.
..
..
 
फ़ेसबुक में POKE का बडा महत्व है.. अगर फ़ेसबुक में POKE का मतलब प्यार होता तो फ़िलहाल गाने शायद कुछ ऐसे.......... होते ..

-> पर भर के लिये कोई मुझे पोक कर दे ...झूठा ही सही

-> इक पोक का नगमा हैं इनबाक्स की जबानी है ..
फ़ेसबुक और कुछ नहीं तेरी मेरी कहानी है

-> तुझे पोक करते करते मेरी उम्र बीत जाये ..
नोटिफ़िकेशन में बस तेरा ही नाम आये

-> हर दिल जो पोक करेगा वो गाना गायेगा ..
दीवाना सैकडों में पहचाना जायेगा

-> तू पोक है किसी और का तुझसे चैटता कोई और है ..

-> जिस प्रोफ़ाईल में बसा था पोक तेरा उस को कभी डिलीट किया ,
बदनाम न होनें देंगे तुझे . फ़ेसबुक use करना छोड दिया

-> जो पोक तूने मुझको दिया था वो पोक तुझको लौटा रहा हूं ,
अब कोई शिकवा न होगा तेरी लिस्ट से चला जा रहा हूं

-> सोचा पोक हम न करेंगे प्रोफ़ाईल पिक पे यार हम न मरेंगे ..
फ़िर भी किसी पे दिल आ गया ..

-> वो तेरे पोक का गम .. इक बहाना था सनम ..
अपनी किस्मत ही कुछ ऐसी थी कि डाटा प्लान खत्म हो गया

-> हमें तुमसे पोक कितना .. ये हम नहीं जानते ..
मगर जी नहीं सकते चैटे बिना

-> पोक करने वाले कभी डरते नहीं ..
जो डरते हैं वो पोक करते नहीं ..

.
.
All contributions by Rajendra Swami from Cologne, Germany
-->

No comments:

Post a Comment