Tuesday, 25 June 2013

Hindi Poem..........................नहीं वो दाऊद इब्राहीम नहीं था.................67313

नहीं वो दाऊद इब्राहीम नहीं था
वो पावन नगरी का आदमी था
जिसने मुझसे एक लाख रूपए मेरे बच्चे को पानी पिलाने के लिए मांगे थे
बेबसी में पैसों की कोई फ़िक्र नहीं थी
किसी तरह बेटा बच जाता
परन्तु वो भला आदमी पैसे लेकर भाग गया
मेरा बेटा प्यास से मर गया
नहीं वो दाऊद इब्राहीम नहीं था
वो पावन नगरी का आदमी था
.
.
.
.


नहीं वो टाटा अम्बानी बिड़ला पोस्को जिंदल एस्सार जैसे लुटेरे नहीं थे
वे पावन नगरी के बनिए थे
जिन्होंने मुझसे बिस्कुट के एक पैकेट के लिए दो हज़ार रूपए मांगे थे
भूखमरी में दस हज़ार भी मांगते तो दे देता
मैं दो दो हज़ार रुपयों के बिस्कुट खाकर जिंदा हूँ
.
.
.
.
.


पानी हर तरफ था मगर उसी पानी में लाशें भी सड़ रही थीं
इसलिए मैंने एक हज़ार रूपए में एक लीटर पानी खरीद कर प्यास बुझाई
.
.
.
.
.
.

जो जिंदा इंसानों को लूट रहे थे
वो लाशों को कैसे छोड़ देते
मेरी नज़रों के सामने लाशों को लूटा जा रहा था
लाशों की तलाशी हो रही थी, पैसे, मोबाइल, ज़ेवर नॊच कर
ये वहशी दूसरी लाशों को अपना शिकार बना रहे थे
.
.
.
.
.


मैंने भी एक महापाप किया है
एक लाश की पॉकेट से मोबाइल निकाल कर फ़ोन करने की कोशिश की
पाप कर के भी नेटवर्क नहीं मिला पाया
कैसे घरवालों को बताऊँ कि गुड्डा मर गया केवल मैं जिंदा हूँ
.
.
.
.
.
..


मैंने सरकार को गालियाँ दी हैं जीवन भर
मगर जब मुसीबतों में देशवासियों का लुटेरा रूप देखा
तो अब गालियाँ किस को दूं?
वोट देने वालों में लुटेरे भी हैं कातिल भी
नहीं वो दाऊद इब्राहीम नहीं हैं
वो पावन नगरी के आदमी हैं
.
.
.
.


मुसीबतों का पहाड़ टूटता है तो
इंसानों का असली चेहरा नज़र आता है
लुटेरों और कातिलों के चेहरे से मुखौटा हट जाता है
और आम लोगों के बीच भगवान् भी नज़र आ जाता है
मैंने उन्हें भी देखा जो स्वयं भूखे रह कर
अनजान लोगों की मदद कर रहे थे
मैंने उन्हें भी देखा जो अपनी जान की बाज़ी लगा कर
बेसहारा लोगों को बचा रहे थे
नहीं वे साधू संतों जैसे नहीं दिख रहे थे
वे पावन नगरी के आम आदमी हैं
अज्ञात .........
-->

No comments:

Post a Comment