Popads

Tuesday, 18 June 2013

Hindi Jokes......50 चुटकुला........शादी में दूल्हा घोड़ी की जगह गधे पर चढ़कर क्यों नहीं आता?.....64213

+पत्नी (पति से)- जब मैं मर जाऊंगी, तो तुम क्या करोगे?
पति (पत्नी से)- मैं भी मर जाऊंगा।
पत्नी (पति से)- क्यों?
पति (पत्नी से)- क्योंकि ज्यादा खुशी से आदमी मर जाता है।


.
.
.
.
.
.
.

एक वृद्ध महिला अपनी सहेली से बोली - मैंने अपने पति की दांतों से
नाखून काटने की आदत छुड़ा दी है।
सहेली ने पूछा- कैसे?
वृद्धा ने जवाब दिया-मैंने उनके दांत छुपाकर रख दिए है।
.
.
.
.
.
.

एक बेवकूफ पति ने अपनी पत्नी से पूछा- बताओ, शादी में दूल्हा घोड़ी की
जगह गधे पर चढ़कर क्यों नहीं आता?
पत्नी ने जवाब दिया- ताकि दुल्हन एक साथ दो गधो को देखकर बेहोश न
हो जाए।

.
.
.
.
.
.
पत्नी अपने पति के खर्चीले स्वभाव से बहुत परेशान थी।
पति ने अपनी पत्नी से पैसे मांगे तो पत्नी ने खीजकर कहा- तुमको मैंने
कितनी बार कहा है कि बजट से आगे जाकर खर्च मत किया करो। हर
महीने भीख मांगने की नौबत आ जाती है।
पति- वैसे भी तो हर महीने मैं तुमसे भीख ही मांगता हूं।
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- कल रात मैंने बहुत ही अच्छा सपना देखा।
पत्नी (पति से)- ऐसा क्या देख लिया तुमने?
पति (पत्नी से)- कल रात मैंने देखा कि मुझे भारत की ओर से अंतरिक्ष में
भेजा गया।
पत्नी (पति से)- हां-हां, तुम्हें तो भेजना ही चाहिए था क्योंकि अंतरिक्ष में
परीक्षण के लिए जानवरों को ही भेजा जाता है।

.
.
.
.
.
.
पत्नी ने पति से पूछा, ‘क्यों जी, इतनी देर तक आप कहां रहे?‘
‘देखो, समझदार पत्नी अपने पति से ऐसे प्रश्न नहीं पूछती।‘ पत्नी को
समझाते हुए पति ने कहा।
लेकिन पत्नी शांत नहीं हुई और बोली, ‘मगर, समझदार पुरुष भी तो अपनी
पत्नी से.....‘
‘बस रहने भी दो, समझदार पुरुष की पत्नी नहीं होती।‘ पत्नी की बात बीच
में ही काटकर पति ने कहा।

.
.
.
.
.
.
.
व्यवसायी पति एक सप्ताह के लिए शहर से बाहर जाने वाला था। उसने
पत्नी को समझाया, ‘देखो कल से जो भी चिट्‌ठी आए, तो उस पर लिख
देना, कि वह कब आई।‘
पत्नी ने कहा, ‘आप चिंता न करे।‘
जब पति लौटकर वापस आया और डाक देखने लगा, तो हर चिट्‌ठी के
कोने में लिखा था, ‘आज आई।‘

.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- समझ में नहीं आता, कि आखिर तुम कुत्ता ही क्यों
खरीदना चाहती हो?
पत्नी (पति से)- इसलिए कि आपके दफ्तर चले जाने के बाद मेरे
आगे-पीछे घूमने वाला कोई तो हो।

.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- जानते हो संगीत में कितनी शक्ति होती है?
पति (पत्नी से)- कितनी?
पत्नी (पति से)- संगीत मे इतनी शक्ति है कि पानी गरम हो सकता है।
पति (पत्नी से)- अरे भई, जब तुम्हारा गाना सुन कर मेरा खून खौल
सकता है,तो पानी क्या चीज है।
.
.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- मुझे आज तक एक बात समझ नहीं आई।
पति (पत्नी से)- कौन सी बात?
पत्नी (पति से)- यही कि जब भी तुम अपने ससुराल जाते हो, बहुत सहमे
से रहते हो? जब शादी करने गए थे, उस दिन तो बहुत अकड़ रहे थे।
पति (पत्नी से)- उस दिन मैं अकेला नहीं था, पूरी बारात के साथ था।

.
.
.
.
.
.
एक महिला अपने पति से कार चलाना सीख रही थी।
पत्नी (पति से)- देखिए कार का शीशा ठीक से नहीं लगा हुआ है।
पति (पत्नी से)- क्यों, क्या गड़बड़ है?
पत्नी (पति से)- इसमे मैं पीछे से आ रहा ट्रैफिक तो देख पाती हूं पर
अपना चेहरा नहीं।

.
.
.
..
.
.
पति (पत्नी से)- देखो, कभी-कभी गुस्सा भी लाभदायक होता है।
पत्नी (पति से)- अरे नहीं, ये कैसे हो सकता है?
पति (पत्नी से)- देखो कल तुम गुस्से में थी और तुमने सारा गुस्सा कपड़ो
पर उतार दिया। मेरे सारे कपड़े कितने साफ और उजले हो गए।

.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- तुम इतनी अच्छी रोटियां नहीं बना सकतीं, जितनी अच्छी
मेरी मां बनाती थीं।
पत्नी (पति से)- और तुम भी उतना अच्छा आटा नहीं गूंथ सकते, जितना
अच्छा मेरे पिताजी गूंथते थे।

.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- तुम बहुत फिजूलखर्ची करते हो।
पति (पत्नी से)- तुम यह कैसे कह सकती हो?
पत्नी (पति से)- तुम जो आग बुझाने वाला यंत्र खरीदकर लाए हो, वह
अभी तक एक बार भी काम नहीं आया।
.
.
.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- क्या बात है, आप आधी रात को इस तरह पेरशान होकर
कमरे में क्यों टहल रहे हैं?
पति (पत्नी से)- अपने ससुरजी की बात याद कर रहा हूं।
पत्नी (पति से)- कौन सी बात?
पति (पत्नी से)- जब मैं तुम्हारे घर शादी का प्रस्ताव लेकर गया था, तब
उन्होंने मुझसे कहा था कि यदि मैंने तुमसे शादी करने की हिम्मत की तो
वह मुझे उम्रकैद करा देगे।
पत्नी (पति से)- हां, पर अब इस बात का क्या लेना देना?
पति (पत्नी से)- अरे अब जाकर ही तो समझ में आया कि उम्रकैद ज्यादा
बेहतर थी?

.
.
.
.
.
.
.
एक दिन पत्नी ने पति से बड़े शिकायती लहजे में कहा - अब मुझे पक्का
यकीन हो रहा है कि आपको मुझसे पहले जैसी मोहब्बत नहीं रही।
पति (पत्नी से)- तुम्हें यह गलतफहमी कैसे हुई?
पत्नी (पति से)- गलतफहमी नहीं, असलियत है। पहले जब आप खाना
खाने बैठते थे, तो खुद कम खाते थे और मुझे ज्यादा खिलाते थे।
पति (पत्नी से)- अरे....अरे। बात दरअसल, यह है कि अब तुम पहले जैसा
बेस्वाद खाना नहीं बनाती।

.
.
.
.
.
.
.
पति-पत्नी आपस में बात कर रहे थे, तभी पत्नी ने पति से पूछा- क्या तुम
मुझसे सच में प्यार करते हो।
पति (पत्नी से)- यह भी कोई पूछने की बात है।
पत्नी (पति से)- वायदा करो कि मेरी मौत के बाद तुम हर रोज मेरी कब्र
पर आया करोगे।
पति (पत्नी से)- हां-हां, निश्चिंत रहो। कब्रिस्तान मेरे दफ्तर के रास्ते में ही
पड़ता है।

.
.
.
.
.
.
एक व्यक्ति घर में बैठकर गाना गा रहा था यह देखकर उसकी पत्नी ने
कहा-
पत्नी (पति से)- मेरे पिता जी जब गाते थे तो उड़ते हुए पंछी गिर जाया
करते थे।
पति (पत्नी से)- क्या तुम्हारे पिता जी मुंह में कारतूस भर कर गाते थे।
.
.
.
.
.
.
शराब के नशे में डूबे हुए पति से पत्नी ने कहा - क्या कहा, तुम मुझे
पहचान नहीं रहे हो, मैं तुम्हारी बीवी हूं।
इस पर पति ने लड़खड़ाती जुबान में कहा - जानम, शराब पीकर हम सभी
गम भूल जाते है।

.
.
.
.
.
.
पत्नी (व्यापारी पति से)- हमारी बेटी अब शादी लायक हो गई है। उसके
लिए लड़का देखना शुरू कर दीजिए।
पति (पत्नी से)- कितने साल का लड़का देखूं?
पत्नी (पति से)- हमारी बेटी 18 साल की है, तो लड़का कम से कम 20
साल का तो होना ही चाहिए।
पति (पत्नी से)- अगर 20 साल का सही लड़का न मिले तो क्या दस-दस
साल के दो लड़के ले आऊं?

.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- मैंने दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला को देखा, उस पर
वो कपड़े खूब फब रहे थे।
पति (पत्नी से)- अच्छा, फिर?
पत्नी (पति से)- फिर क्या? मैं आईने के सामने से हट गई।
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- आज आप बहुत देर से घर आए।
पति (पत्नी से)- और तुम इतनी रात तक जाग कर क्या कर रही हो।
पत्नी (पति से)- मैं पांच घंटे से आपके इंतजार में जाग रही थी।
पति (पत्नी से)- और मैं पांच घंटे से इसी इंतजार में बाहर खड़ा था कि
तुम सो जाओ तो मैं अंदर आऊं।

.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- आज किसी ने मेरी जेब काट ली।
पत्नी (पति से)- तो पुलिस में रिपोर्ट की?
पति (पत्नी से)- नहीं, मैंने गलती कर दी।
पत्नी (पति से)- वह क्या?
पति (पत्नी से)- जेब कटने के तुरंत बाद मैंने उसे दर्जी से सिलवा लिया।
.
.
.
.
.
.

पति (पत्नी से) - चलो आज किसी होटल में चलकर खाना खाते है।
पत्नी (पति से) - क्यों, क्या मेरे हाथ के बने खाने से बोर हो गए हो?
पति (पत्नी से)- नहीं। दरअसल, आज बर्तन साफ करने का मन नहीं कर
रहा।

.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- क्यों जी आज तुमने मेरा कोट नहीं झाड़ा?
पत्नी (पति से)- झाड़ा तो था, क्यों क्या हुआ?
पति (पत्नी से)- बात कोई विशेष नहीं है। मेरे कोट की जेब में सौ का नोट
रखा हुआ था और वह अब भी है।

.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- आज मैंने दस रुपए बचाए।
पत्नी (पति से)- वो कैसे?
पति (पत्नी से)- मैं दफ्तर से घर बस के पीछे-पीछे दौड़ते हुए आया हूं।
पत्नी (पति से)- तभी तो कहती हूं कि तुम मूर्ख हो, टैक्सी के पीछे दौड़ते
तो पच्चीस रुपए बचते।

.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- जब भी मैं पिताजी की तलवार देखता हूं तो मेरा लड़ाई
पर जाने का दिल करता है।
पत्नी (पति से)- तो चले क्यों नहीं जाते?
पति (पत्नी से)- क्या करूं, इसके बाद तुरंत उनकी नकली टांग की याद
आ जाती है। 
.
.
.
.
.
.
.
पति-पत्नी फिल्म देखने गए, तो पति ने एक पान पत्नी के लिए खरीदा।
पत्नी (पति से)- एक अपने लिए भी तो ले लो।
पति (पत्नी से)- मैं बिना पान खाए भी खामोश रह सकता हूं।

.
.
.
.
.
.
.
.
नवविवाहिता पत्नी (पति से)- यदि ससुराल पहुंचने के बाद घरवालो ने मुझे
गाना गाने के लिए कहा तो मैं क्या करूंगी?
पति (पत्नी से) - तब तुम गाना सुना देना, ताकि फरमाइश करने वालो
को अपनी गलती का एहसास हो जाए।

.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- आज तो इस वॉल क्लॉक ने मेरी मां को मार ही दिया
था। मेरी मां के उठने के कुछ सेकंड बाद यह गिर पड़ी।
पति (पत्नी से)- मैं तो पहले ही कह रहा था कि यह घड़ी आजकल धीरे
चल रही है।
.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- स्कूल के जमाने में मैं जिधर से गुजरता था, लड़कियो की
नजरे मुझ पर ही टिकी रहती थी।
पत्नी (पति से)- मैं तो आज भी यही कहती हूं कि तुम्हें किसी अजायबघर
में होना चाहिए था।


.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- यह लीजिए बालों को मजबूत करने वाले तेल की
शीशी....।
पति (पत्नी से)- पर मेरे बाल तो झड़ते ही नहीं।
पत्नी (पति से)- अजी, आपके तो नहीं, आपकी खूबसूरत सेक्रेट्री के तो
झड़ते हैं।

.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- सुनो जी, आपकी वह नीली शर्ट मुझसे जल गई है।
पति (पत्नी से)- कोई बात नहीं डार्लिंग, मेरे पास वैसी एक और शर्ट है।
पत्नी (पति से)- पता है, तभी तो मैंने उस शर्ट में से कपड़ा काटकर जली
हुई शर्ट पर पैबंद लगा दिया है।

.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- तुम जब दफ्तर चले जाते हो, तो मुझे बहुत घबराहट
होती है।
पति (पत्नी से)- तुम चिंता न करो। मैं इतनी जल्दी लौट आऊंगा कि तुम्हें
पता भी नहीं चल पाएगा।
पत्नी (पति से)- यही सोचकर तो और घबराहट होने लगती है।

.
.
.
.
.
.
.
पति (अपनी खुशी व्यक्त करते हुए)- कल रात मुझे सपने में भारत की
ओर से अंतरिक्ष में भेजा गया।
पत्नी (पति से)- हां-हां, तुम्हें तो भेजना ही चाहिए था क्योंकि अंतरिक्ष में
परीक्षण के लिए जानवरो को ही भेजा जाता है।

.
.
.
.
.
..
पत्नी (पति से)- जो आदमी चोरी करता है, वह अपनी जिंदगी में कभी न
कभी जरूर पछताता है।
पति (पत्नी से)- हां ठीक कहती हो, शादी से पहले मैंने तुम्हारा दिल
चुराया था। आज तक पछता रहा हूं।
.
.
.
.
.
.

पति (पत्नी से)- आज संडे है, तो मैंने सोचा कुछ ऐश की जाए।
पत्नी (पति से)- वह कैसे?
पति (पत्नी से)- यह लो पिक्चर की तीन टिकट।
पत्नी (पति से)- तीन किसके लिए?
पति (पत्नी से)- एक तुम्हारे लिए और दो तुम्हारे मम्मी-पापा के लिए।

.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- कल रात तुम नींद में मुझे गालियां क्यों दे रहे थे?
पति (पत्नी से)- तुमको गलतफहमी हुई है।
पत्नी (पति से)- कैसी गलतफहमी?
पति (पत्नी से)- यही कि मैं सोया हुआ था।

.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- डियर, क्या कभी तुम्हारे दिल में यह ख्याल आया है कि
मेरी शादी किसी और से हो जाती तो अच्छा होता।
पति (पत्नी से)- बिल्कुल नहीं।
पत्नी (पति से)- सच।
पति (पत्नी से)- मैं किसी और का बुरा क्यों चाहूंगा ?

.
.
.
.
.
.
लंबी बीमारी के बाद रमेश की जब आंख खुली तो उसने पास खड़ी अपनी
बीवी से पूछा - मैं कहां हूं? क्या स्वर्ग में।
पत्नी ने जवाब दिया- नहीं अभी तुम नरक में ही हो।
रमेश ने पूछा- इसका क्या सबूत है?
पत्नी ने कहा- क्या मैं सबूत के तौर पर काफी नहीं हूं।
.
.
.
.
.
.

पति (पत्नी से)- मैं तुमसे एक बात कहना चाहता हूं।
पत्नी (पति से)- क्या?
पति (पत्नी से)-शादी से पहले मेरे दस अफेयर थे।
पत्नी (पति से)- अब जब कुंडली मिली है तो गुण तो मिलेंगे ही।
.
.
.
.
.
.

एक महाशय अपने पड़ोसी के बेटे को मिट्टी के खिलौने बनाना सिखा रहे
थे।
बच्चे ने उत्सुकता से पूछा - अंकल आप हाथ से इतना अच्छा गीली
मिट्टी का गोला कैसे बना लेते है?
अंकल (बच्चे से)- बेटा नियमित प्रैक्टिस से।
बच्चा (अंकल से)- वह कैसे अंकल?
अंकल (बच्चे से)-क्या बताऊं बेटा अगर गोल रोटी नहीं बना पाता तो
तुम्हारी आंटी नहीं खाती।

.
.
.
.
.
संजीव (धावक मित्र हरीश से)- तुम हर बार दौड़ने की प्रतियोगिता में
प्रथम आते हो, इसका क्या राज है?
हरीश (संजीव से)- यार, मैं जब भी दौड़ना शुरू करता हूं तो यह मान
लेता हूं कि मेरी बीवी मेरे पीछे आ रही है।

.
.
.
.
.
अजी सुनते हो, बबलू तो आजकल झूठ पर झूठ बोलना सीख रहा है। जैसे
सच बोलना तो उसे आता ही नहीं है। पत्नी ने पति से कहा।
‘मां के गुण तो बच्चा पहले सीखता है, पिता के गुण तो उसमें धीरे-धीरे
ही आएंगे।‘ पति ने मुस्कराते हुए जवाब दिया।

.
.
.
.
.
.
नए मकान मालिक के पास एक शख्स गया और कहने लगा, ‘साहब,
आपकी इमारत की तीसरी मंजिल पर जो औरत रहती है, वह अपने शौहर
से लड़ती रहती है, जिसकी वजह से सारे पड़ोसियों को तकलीफ होती है।
आप मकान मालिक की हैसियत से उस औरत को समझाएं कि वह अपने
शौहर से लड़ाई-झगड़ा न किया करे।‘
मकान मालिक ने पूछा, ‘क्या आप उस औरत के पड़ोसी है?‘
जी नहीं मैं उसका शौहर हूं, उस शख्स ने जवाब दिया।

.
.
.
.
.
.
मिस्टर एंड मिसेज शर्मा की कार को ट्रैफिक हवलदार ने रोक लिया और
कहा- जुर्माना निकालो, बगैर हैडलाइट के गाड़ी चलाते हो?
शर्मा जी बोले - दरअसल गाड़ी के ब्रेक कमजोर है इसलिए कल एक्सीडेंट
में हैडलाइट खराब हो गई थी।
कांस्टेबल बोला- यह तो दो जुर्म हुए। लाइसेंस दिखाओ।
‘वह तो अभी बनवाना है। ' शर्मा जी बोले।
कांस्टेबल बोला- तीन जुर्म किए हुए ऐसे ही घूम रहे हो? चलो सीधे पुलिस
स्टेशन।
तभी मिसेज शर्म्रा बीच में बोली - अरे साहब, इनकी बातों पर यकीन न
कीजिएगा। शराब पीकर ये ऐसी ही बहकी-बहकी बातें करते है।
.
.
.
.
.
.
रेखा (मीना से)- मैंने सुना है कि तुम्हारे पति को नींद में चलने की
बीमारी है।
मीना (रेखा से)- हां...... है तो, मगर घबराने की बात नहीं है।
रेखा (मीना से)- क्यों?
मीना (रेखा से)- क्योंकि वे इतने आलसी है कि दो-चार कदम चलकर फिर
लेट जाते है।
-->

No comments:

Post a Comment