Saturday, 25 May 2013

Narad Jayanti--Birthday of Narad ji......................& Curse of Naradji to vishnuji...............58113



तीनों लोकों में राधा की स्तुति से देवर्षि नारद खीझ गए थे। उनकी शिकायत थी कि वह तो कृष्ण से अथाह प्रेम करते हैं फिर उनका नाम कोई क्यों नहीं लेता, हर भक्त ‘राधे-राधे’ क्यों करता रहता है। वह अपनी यह व्यथा लेकर श्रीकृष्ण के पास पहुंचे।
नारदजी ने देखा कि श्रीकृष्ण भयंकर सिर दर्द से कराह रहे हैं। देवर्षि के हृदय में भी टीस उठी। उन्होंने पूछा, ‘भगवन! क्या इस सिर दर्द का कोई उपचार है। मेरे हृदय के रक्त से यह दर्द शांत हो जाए तो मैं अपना रक्त दान कर सकता हूं।’ श्रीकृष्ण ने उत्तर दिया, ‘नारदजी, मुझे किसी के रक्त की आवश्यकता नहीं है। मेरा कोई भक्त अपना चरणामृत यानी अपने पांव धोकर पिला दे, तो मेरा दर्द शांत हो सकता है।’
नारद ने मन में सोचा, ‘भक्त का चरणामृत, वह भी भगवान के श्रीमुख में। ऐसा करने वाला तो घोर नरक का भागी बनेगा। भला यह सब जानते हुए नरक का भागी बनने को कौन तैयार हो?’ श्रीकृष्ण ने नारद से कहा कि वह रुक्मिणी के पास जाकर सारा हाल सुनाएं तो संभवत: रुक्मिणी इसके लिए तैयार हो जाएं। नारदजी रुक्मिणी के पास गए। उन्होंने रुक्मिणी को सारा वृत्तांत सुनाया तो रुक्मिणी बोलीं, ‘नहीं, नहीं! देवर्षि, मैं यह पाप नहीं कर सकती।’
नारद ने लौटकर रुक्मिणी की बात श्रीकृष्ण के पास रख दी। अब श्रीकृष्ण ने उन्हें राधा के पास भेजा। राधा ने जैसे ही सुना, तत्काल एक पात्र में जल लाकर उसमें अपने दोनों पैर डुबोए। फिर वह नारद से बोली, ‘देवर्षि, इसे तत्काल श्रीकृष्ण के पास ले जाइए। मैं जानती हूं कि भगवान को अपने पांव धोकर पिलाने से मुझे रौरव नामक नरक में भी ठौर नहीं मिलेगा। पर अपने प्रियतम के सुख के लिए मैं अनंत युगों तक नरक की यातना भोगने को तैयार हूं।’ अब देवर्षि समझ गए कि तीनों लोकों में राधा के प्रेम के स्तुतिगान क्यों हो रहे हैं। उन्होंने भी अपनी वीणा उठाई और राधा की स्तुति गाने लगे।

.
.
.
.
.
.
..
..

Narad Jayanti


Communication plays very important role in the lives of every living being. It is possible to share the thoughts, ideas and information with each other only through some means of communication. Communication process has been prevailing since pre-historic times. Not only humans but also plants and animals communicate in their own language. Narad muni is believed as pioneer of communication.

Some Puranas suggests that Sage Narad appeared from the forehead of Lord Brahma whereas some like Vishnu Purana advocated he is the son of Sage Kashyapa. Narad rishi is one of the prajapatis and also among the seven honourable rishis. Narad Jayanti is observed as the birth anniversary of Devrishi Narad. It is said that he used to continuously travel all through the world singing and communicating information. Rig Veda has some hymns accredited to Narada Muni. Naradji is imagined as a sanyasi with a Veena in hand who often create trouble of course with a positive intention or for the betterment of the universe.

Narad Jayanti is commemorated on the day after full moon day in Vaishakh month i.e. April or May. 

Sage Narad is a precursor of modern day journalist and mass communicator. So the day is also called ‘Patrakar Diwas’ and is celebrated in this form across the country. He is believed to be the inventor of Veena. He has been held the chief of the Gandharvas who were the divine musicians. 
.
.
.
.
.
.
..
..
 

Narada Muni went to meditate in a special grove which Shiva had blessed. And Shiva said, “This Tapovan, is this forest for tapasya, I am giving a special blessing, no one will be able to disturb a meditating Muni who sits in this Tapovan. Well, Narada sat in the Tapovan unknowingly and started to meditate. Indra became concerned, “Why is Narada meditating so strongly? I’m sending Agni, Varuna and Vayu down to disturb him.”
Agni, Vayu and Varuna went down and Varuna made it rain, and Narada didn’t respond. Vayu made the wind blow, and Narada did not respond. Agni lit the place on fire, Narada sat still in perfect stillness in meditation. All three of them went back to heaven and they said, “Indra, we can’t disturb his meditation, he’s meditating so strongly we don’t know how to stop him from meditating.”
Then Indra called Kamadeva, the God of Love, and said, “Kamadeva, you go down and break his meditation. Take Rathi, take the Apsaras with you, the celestial nymphs, the dancing girls, do whatever you have to do, make him stop meditating.”
Kamadeva went down and tried everything within his power. And he had all his girls, they were dancing and they were making spring sprung and the bees were buzzing and the birds were humming, and it was the atmosphere of Love and Narada didn’t stir one bit. Kamadeva admitted defeat. The God of Love went back to Indra and said, “I can’t break his meditation.”
At that, Narada woke up and said, “I have defeated all the Gods, I have even defeated the God of Love, I am beyond lust.” And he was so happy, and he went to Shiva in Kailash and Shiva said, “Narada, your shining radiantly why are you so happy today?” And Narada said, “Shiva, I defeated Kamadeva, he couldn’t break my meditation, I have conquered the God of Love.”
And Shiva said, “Narada, that’s very interesting, but if you have an experience like that don’t ever tell Vishnu.” Narada said, “Why wouldn’t I want to tell Vishnu, I mean I’m always saying Narayana, Narayana, he’ll be so happy to hear the news.” And Shiva said, “Well, you do as you like, but I suggest don’t tell Vishnu.”
And Narada took his leave from Shiva and he went right to Vaikuntha and he said, “Vishnu, I’ve just come from the greatest meditation.” And Vishnu smiled and said, “Really, you look radiant like you’ve achieved a tremendous victory. What kind of meditation did you have?” And Narada said, “I defeated the God of Love. I am free from Love, I am free from lust and desire.” And Vishnu said, “Oh, that’s fine, that’s very nice, wonderful, I applaud your attainment.”
Narada went off, and he was so full of happiness and joy and self-conceit that it was his power that allowed him to sit there and meditate without any disturbance. And it wasn’t because Shiva had blessed that grove, it was because of Narada’s attainment. And as Narada was traveling, he looked out and he saw this beautiful young princess dancing near the garden. And he looked down and he said, “Wow, there’s a beautiful young princess, I’m going to go see who she is.”
So he went down to the garden and he saw that it was the daughter of the King Shilanidhi. And he went in to see the king and the king said, “Oh, Narada Muni has come, please, my daughter is just about to choose her husband, please look at her palm and tell us what kind of husband she should choose. What will be her fate?”
He called the daughter, he said, “Please, sit here next to Narada Muni.” And Narad Muni looked at the palm of this princess and her name was Vishwamohini. And he took the hand of Vishwamohini and he looked in that palm and he saw that whoever marries this lady is going to be the king of the three worlds, he’s going to live as the Gods live. And suddenly Narada thought, “Well, I should marry this girl”. And he said, “Well, everything looks wonderful in her hand and she’s going to find the most beautiful, the most handsome prince, and they’re going to marry and be very happy.”
And Narada went straight to Vaikuntha and he said, “Vishnu, you got to do something for me, I have a favor for you, I want you to turn me into the most handsome prince and deck me out with many ornaments, and gold, and finery and silks and satins and make me as beautiful and as desirable as possible.” And Vishnu said, “Narada, why, I thought you had just conquered the God of Love.” And Narada said, “Oh, yes, I did conquer the God of Love but now I’m thinking that I should marry this princess.” And this is going to be her swayamvar, she is going to choose her husband, I want to have the most distinctive appearance.”
And Vishnu promised, “I’m going to give you the most distinctive appearance.” And he dressed him in the finest, and gave him a golden crown. And gave him all these ornaments, and made jewels and necklaces and garlands and he made him the most beautiful looking prince with the face of a monkey.
Narada went to the assembly of all the kings and princes and he walked in knowing that he was the most beautiful of all the princes, “Gee, the princess will certainly choose him”. And the princess took the garland of victory and she walked around the assembly of princes, and she looked at the face of everyone assembled there and passed by many people, and she came to Narada Muni and she started to laugh! There was this beautiful monkey dressed like a prince coming to win her hand, and she walked right past him and then she came to the last of the Kings assembled and she gave the garland to Vishnu.
Narada said, “Wait! You made a mistake, I’m the most beautiful man here, I’m the most handsome prince and I am deserving of this garland.” And everyone started to laugh. And Jaya and Vijaya (two servants of Vishnu ) came to Narada and they said, “Why are you so possessed with yourself, you are so filled with self-conceit, you don’t know what you look like? Come and look in this looking glass, and see what kind of distinctive appearance you have.”
And Narada went and looked in the looking glass and he saw he had the face of a monkey. And he got mad, he took some Ganga Jal in his hand and he said, “Vishnu, I asked you to make me beautiful so that I could get the heart of my beloved and win my beloved, and instead you turned me into a monkey. And now I’ve lost my beloved, I curse you Vishnu! You will lose your beloved, and endure the pains of separation from her. And in order to get her back you’re going to make friends with monkeys, and monkeys are going to be your helpers, and your saviors, and your devotees. And you think that it’s funny that I look like a monkey and I lost my beloved, here, is my curse!”
And Vishnu smiled when he received the curse. And said, “I accept your curse Narad, and I will incarnate as a human being and my Goddess Lakshmi will be my wife, and I will endure seperation from her. But all of this is to fulfill the curses against Jaya and Vijaya, who became in the first incarnation Madhu and Kaitabha. In their second incarnation they became Hiranyaksha and Hiranyakashyapu. That was the story of Prahalad. And then in their third incarnation they became Kumbhakarna and Ravana). And now I have to go down and save the earth from the atrocities of Ravana, so I accept your curse.”
-->

2 comments:

  1. दिव्य गुणसम्पन्न देवर्षि नारदजी

    एक समय महीसागर संगम तीर्थ में भगवान श्रीकृष्ण ने देवर्षि नारदजी की पूजा-अर्चना की । वहाँ महाराज उग्रसेन ने पूछा : ‘‘जगदीश्वर श्रीकृष्ण ! आपके प्रति देवर्षि नारदजी का अत्यंत प्रेम कैसे है ?
    भगवान श्रीकृष्ण ने कहा : ‘‘राजन् ! मैं देवराज इंद्र द्वारा किये गये स्तोत्रपाठ से दिव्यदृष्टि-सम्पन्न श्री नारदजी की सदा स्तुति करता हूँ । आप भी वह स्तुति सुनिये :
    ‘जो ब्रह्माजी की गोद से प्रकट हुए हैं, जिनके मन में अहंकार नहीं है, जिनका विश्वविख्यात चरित्र किसीसे छिपा नहीं है, जिनमें अरति (उद्वेग), क्रोध, चपलता व भय का सर्वथा अभाव है, जो धीर होते हुए भी दीर्घसूत्री (किसी कार्य में अधिक विलम्ब करनेवाले) नहीं हैं, जो कामना या लोभवश झूठी बात मुँह से नहीं निकालते, जो अध्यात्म गति के तत्त्व को जाननेवाले, ज्ञानशक्ति-सम्पन्न तथा जितेन्द्रिय हैं, जिनमें सरलता भरी है और जो यथार्थ बात कहनेवाले हैं उन नारदजी को मैं प्रणाम करता हूँ ।
    जो तेज, यश, बुद्धि, विनय, जन्म तथा तपस्या - इन सभी दृष्टियों से बडे हैं, जिनका स्वभाव सुखमय, वेश सुंदर तथा भोजन उत्तम है, जो प्रकाशमान, शुभदृष्टि-सम्पन्न तथा सुंदर वचन बोलनेवाले हैं, जो उत्साहपूर्वक सबका कल्याण करते हैं, जिनमें पाप का लेशमात्र भी नहीं है, जो परोपकार करने से कभी अघाते नहीं, जो सदा वेद, स्मृति व पुराणों में बताये हुए धर्म का आश्रय लेते हैं तथा प्रिय-अप्रिय से रहित हैं, जो खान-पान आदि भोगों में कभी लिप्त नहीं होते, जो आलस्यरहित तथा बहुश्रुत ब्राह्मण हैं, जिनके मुख से अद्भुत बातें-विचित्र कथाएँ सुनने को मिलती हैं, जिन्हें धन के लोभ, काम या क्रोध के कारण भी पहले कभी भ्रम नहीं हुआ है, जिन्होंने इन तीनों दोषों का नाश कर दिया है, जिनके अंतःकरण से सम्मोहनरूप दोष दूर हो गया है, जो कल्याणमय भगवान व भागवत धर्म में दृढ भक्ति रखते हैं, जिनकी नीति बहुत उत्तम है तथा जो संकोची स्वभाव के हैं, जो समस्त संगों से अनासक्त हैं, जिनके मन में किसी संशय के लिए स्थान नहीं है, जो बडे अच्छे वक्ता हैं, जो किसी भी शास्त्र में दोषदृष्टि नहीं करते तथा तपस्या का अनुष्ठान ही जिनका जीवन है, जिनका समय भगवत्-चिंतन के बिना कभी व्यर्थ नहीं जाता और जो अपने मन को सदा वश में रखते हैं उन श्री नारदजी को मैं प्रणाम करता हूँ ।
    जिन्होंने तप के लिए श्रम किया, जिनकी बुद्धि पवित्र एवं वश में है, जो समाधि से कभी तृप्त नहीं होते, अपने प्रयत्न में सदा सावधान रहते हैं, जो अर्थलाभ होने से हर्ष नहीं मानते व हानि से क्लेश का अनुभव नहीं करते, जो सर्वगुणसम्पन्न, दक्ष, पवित्र, कातरतारहित, कालज्ञ व नीतिज्ञ हैं उन देवर्षि नारदजी को मैं भजता हूँ ।
    इस स्तुति के कारण वे मुनिश्रेष्ठ मुझ पर अधिक प्रेम रखते हैं । दूसरा कोई भी व्यक्ति यदि पवित्र होकर प्रतिदिन इस स्तुति का पाठ करता है तो देवर्षि नारदजी बहुत शीघ्र उस पर अतिशय कृपा करते हैं ।
    देवर्षि नारदजी की इस स्तुति के द्वारा भगवान भक्तों के आदर्श गुणों को प्रकट करते हैं । भक्त की इतनी महिमा है कि स्वयं भगवान भी उनकी स्तुति करते हैं ।
    भगवद्भक्तों के गुणों का स्मरण करनेवाला उनका प्रीतिभाजन होता है और उसमें भी वे गुण आते हैं । भक्त की स्मृति तथा उनके गुणों का स्मरण, चर्चा करने से अंतःकरण पवित्र होता है और जगत का मंगल होता है ।
    प्राणिमात्र के कल्याण की भावना रखनेवाले नारदजी ईश्वरीय मार्ग पर अग्रसर होने की इच्छा रखनेवाले प्राणियों को सहयोग देते रहते हैं । उन्होंने कितने प्राणियों को किस प्रकार भगवान के पावन चरणों में पहुँचा दिया, इसकी गणना संभव नहीं है । वे सदा भक्तों, जिज्ञासुओं के मार्गदर्शन में लगे रहते हैं । जीवन्मुक्ति की इच्छा रखनेवाले साधु पुरुषों के हित के लिए वे सतत प्रयत्नशील रहते हैं । उनके चरणों में हमारे कोटि-कोटि प्रणाम हैं !

    ReplyDelete
  2. देवर्षि नारद पहले गन्धर्व थे। एक बार ब्रह्मा जी की सभा में सभी देवता और गन्धर्व भगवन्नाम का संकीर्तन करने के लिए आए। नारद जी भी अपनी स्त्रियों के साथ उस सभा में गए। भगवान के संकीर्तन में विनोद करते हुए देखकर ब्रह्मा जी ने इन्हें शाप दे दिया। जन्म लेने के बाद ही इनके पिता की मृत्यु हो गई। इनकी माता दासी का कार्य करके इनका भरण-पोषण करने लगीं।

    एक दिन गांव में कुछ महात्मा आए और चातुर्मास्य बिताने के लिए वहीं ठहर गए। नारद जी बचपन से ही अत्यंत सुशील थे। वह खेलकूद छोड़ कर उन साधुओं के पास ही बैठे रहते थे और उनकी छोटी-से-छोटी सेवा भी बड़े मन से करते थे। संत-सभा में जब भगवत्कथा होती थी तो यह तन्मय होकर सुना करते थे। संत लोग इन्हें अपना बचा हुआ भोजन खाने के लिए दे देते थे।

    नारदकुंड: स्नान करने से मरने के पश्चात मिलता है मोक्ष

    साधुसेवा और सत्संग अमोघ फल प्रदान करने वाला होता है। उसके प्रभाव से नारद जी का हृदय पवित्र हो गया और इनके समस्त पाप धुल गए। जाते समय महात्माओं ने प्रसन्न होकर इन्हें भगवन्नाम का जप एवं भगवान के स्वरूप के ध्यान का उपदेश दिया।

    एक दिन सांप के काटने से उनकी माता जी भी इस संसार से चल बसीं। अब नारद जी इस संसार में अकेले रह गए। उस समय इनकी अवस्था मात्र पांच वर्ष की थी। माता के वियोग को भी भगवान का परम अनुग्रह मानकर ये अनाथों के नाथ दीनानाथ का भजन करने के लिए चल पड़े। एक दिन जब नारद जी वन में बैठकर भगवान के स्वरूप का ध्यान कर रहे थे, अचानक इनके हृदय में भगवान प्रकट हो गए और थोड़ी देर तक अपने दिव्य स्वरूप की झलक दिखाकर अन्तर्धान हो गए।

    भगवान का दोबारा दर्शन करने के लिए नारद जी के मन में परम व्याकुलता पैदा हो गई। वह बार-बार अपने मन को समेट कर भगवान के ध्यान का प्रयास करने लगे, किंतु सफल नहीं हुए। उसी समय आकाशावाणी हुई, ‘‘अब इस जन्म में फिर तुम्हें मेरा दर्शन नहीं होगा। अगले जन्म में तुम मेरे पार्षद रूप में मुझे पुन: प्राप्त करोगे।’’

    समय आने पर नारद जी का पांच भौतिक शरीर छूट गया और कल्प के अंत में वह ब्रह्मा जी के मानस पुत्र के रूप में अवतीर्ण हुए। देवर्षि नारद भगवान के भक्तों में सर्वश्रेष्ठ हैं। यह भगवान की भक्ति और महात्म्य के विस्तार के लिए अपनी वीणा की मधुर तान पर भगवद् गुणों का गान करते हुए निरंतर विचरण किया करते हैं। इन्हें भगवान का मन कहा गया है। इनके द्वारा प्रणीत भक्ति सूत्र में भक्ति की बड़ी ही सुंदर व्याख्या है। अब भी यह अप्रत्यक्ष रूप से भक्तों की सहायता करते रहते हैं। भक्त प्रह्लाद, भक्त अम्बरीष, ध्रुव आदि भक्तों को उपदेश देकर इन्होंने ही उन्हें भक्ति मार्ग में प्रवृत्त किया। इनकी समस्त लोकों में अबाधित गति है। इनका मंगलमय जीवन संसार के मंगल के लिए ही है। यह ज्ञान के स्वरूप, विद्या के भंडार, आनंद के सागर तथा सब भूतों के अकारण प्रेमी और विश्व के सहज हितकारी हैं।

    अविरल भक्ति के प्रतीक और ब्रह्मा के मानस पुत्र माने जाने वाले देवर्षि नारद का मुख्य उद्देश्य प्रत्येक भक्त की पुकार भगवान तक पहुंचाना है। वह विष्णु के महानतम भक्तों में माने जाते हैं और इन्हें अमर होने का वरदान प्राप्त है। भगवान विष्णु की कृपा से यह सभी युगों और तीनों लोगों में कहीं भी प्रकट हो सकते हैं।

    ReplyDelete