Popads

Tuesday, 14 May 2013

Huge collection of hindi jokes...........तुम्हारे रूप की चाशनी में न कोम डुबोया है................Enjoy......54113

रात के खाने के समय पति ने पाया कि पत्नी कुछ चुपचाप और उदास सी है। आखिरकार उसने पूछ ही लिया कि बात क्या है।
"कुछ नहीं"‚ पत्नी ने कहा।
सहमत न होते हुए पति ने फिर पूछा‚ "सच में बताओ न क्या बात है।"
"तुम सचमुच जानना चाहते हो? ठीक है मैं बताती हूँ। मैं 15 सालों से खाना बना रही हूँ‚ सफाई करती हूँ और इन बच्चों को पाल रही हूँ; और तुमने ‘मदर्स डे' के दिन मुझे एक ‘धन्यवाद' तक नहीं दिया।"
"मैं क्यों दूँ?"‚ उसने कहा। "15 सालों में मैंने एक बार भी ‘फादर्स डे' के दिन कुछ नहीं पाया।"
"ठीक है"‚ वो बोली‚ "मगर मैं उनकी असली माँ हूँ।"

...
.
.
.
.
.
.
.
.
.

श्रीमती कोहेन‚ एक सुन्दर और उत्तेजक गृहिणी‚ इतने सुन्दर बदन की स्वामिनी थीं कि टी वी ठीक करने आये मेकेनिक उन पर से अपनी नज़रें हटा नहीं पा रहा था। जब भी वो कमरे में आतीं वो टूटने की हद तक अपनी गर्दन मोड़कर उन्हें देखता था।
काम खत्म होने के बाद श्रीमती कोहेन ने उसे पैसे दिये और बोलीं‚ "मैं तुमसे एक अलग तरह का काम करवाना चाहती हूँ। लेकिन तुम्हें वादा करना होगा कि तुम उसे राज ही रखोगे।"
मेकेनिक तुरंत राज़ी हो गया और वो कहती गयीं। "वैसे ये अजीब सा है ये कहना; मगर मेरे पति एक अच्छे और शरीफ इन्सान हैं - आह - मगर उनमें शारीरिक कमज़ोरी है। एक बीमारी। अब‚ मैं एक औरत हूँ और तुम एक पुरुष . . . . . "
मेकेनिक थूक निगलते हुए बोला ‚ "हाँ हाँ"।
"और जब से मैंने तुम्हें दरवाज़े पर देखा था तब से ही मैं कहने का सोच रही थी . . . . . "
"हाँ हाँ!"
"क्या तुम वो बड़ी आलमारी खिसकाने में मेरी मदद करोगे?"

.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक सर्वेक्षण में पाया गया कि एक गाँव की जनसंख्या वृद्धि की दर बहुत ज़्यादा है। एक व्यक्ति को इसके मुआयने के लिए भेजा गया।
"एक रेलगाड़ी सुबह 4:30 बजे यहाँ से गुज़रती है।" एक स्थानीय व्यक्ति ने समझाया।
"इस बात का जनसंख्या से भला क्या सम्बन्ध है?"‚ उस व्यक्ति ने पूछा।
"असल में वह समय उठने के लिए बहुत जल्दी होता है और उस समय दुबारा सोना भी मुश्किल होता है।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक पुलिस ऑफिसर ने एक सुन्दर महिला को तेज़ रफ्तार की वजह से रोका और शालीनता से पूछा‚ कि क्या वो उसका लाइसेंस देख सकता है। वो थोड़ा ग़ुस्से में आकर बोली‚ "मेरे ख्याल से आप लोगों को अपना काम ढंग से करना चाहिए। ये कल की ही बात है कि आपने मेरा लाइसेंस मुझसे ले लिया था और आज आप ये चाहते हों कि मैं उसे दिखााऊँ!"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक महिला अपने एक डॉक्टर मित्र के घर गयी और डॉक्टर की पत्नी ने उसके 5 साल के बच्चे को रोकने का कोई प्रयत्न नहीं किया जो बगल वाले कमरे की चीज़ों को अस्त व्यस्त करने में जुटा था। लेकिन आखिरकार बोतलों के टकराने की बेहद तेज़ आवाज़ सुनकर उसे कहना ही पड़ा‚ "मेरे ख्याल से‚ डॉक्टर‚ आप मेरे छोटू के यहाँ होने पर नाराज़ नहीं होंगे।"
"नहीं"‚ डॉक्टर ने शांति से जवाब दिया‚ "वो चुप हो जायेगा जब उसे ज़हर की बोतल मिल जायेगी।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
एक जापानीज़ पर्यटक भारत की सैर पर आया हुआ था। आखिरी दिन उसने एयरपोर्ट जाने के लिए एक टैक्सी ली और ड्राइवर बन्ता सिंह को चलने को कहा।
यात्रा के दौरान एक ‘होण्डा' बगल से गुज़र गयी। जापानीज़ ने उत्तेजित होकर खिड़की से सिर निकाला और चिल्लाया‚ "होण्डा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!"
कुछ देर बाद एक ‘टोयोटा' तेज़ी से टैक्सी के पास से गुज़र गयी‚ और फिर जापानीज़ बाहर झुका और चिल्लाया‚ "टोयोटा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!"
और फिर एक ‘मित्सुबिशी' टैक्सी की बगल से गुज़री। तीसरी बार जापाानीज़ खिड़की की ओर झुकते हुए चिल्लाया ‚ "मित्सुबिशी‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!"
बन्ता थोड़ा ग़ुस्से में आ गया मगर वो चुप रहा। और कई सारी कारें गुज़रती रहीं। आखिरकार टैक्सी एयरपोर्ट तक पहुँच गयी।
किराया 800 रु . बना। जापानीज़ चीखा‚ "क्या? . . . इतना ज़्यादा!"
अब बन्ता के चिल्लाने की बारी थी ‚ "मीटर‚ वेरी फास्ट! मेड इन इंडिया।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
जब मैं और मेरी दोस्त अपनी कार लेने के लिए गैरेज में पहुँचे तो हमें बताया गया कि ग़लती से चाबियाँ कार के अन्दर ही बन्द हो गयी हैं। हम अन्दर पहुँचे तो पाया कि एक नौजवान मेकेनिक पूरे जोशो खरोश से ड्राइवर की तरफ वाला दरवाज़ा खोलने की कोशिश में लगा हुआ है। मैं दूसरी तरफ था और यूँ ही मैंने हैंडल को खोलने की कोशिश की और पाया कि वो खुला हुआ है। "ऐ"‚ मैंने मेकेनिक को बताया‚ "ये खुला है!"

"मुझे पता है। नौजवान ने जवाब दिया। "मैं पहले ही उस तरफ का दरवाज़ा खोल चुका हूँ।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.


सन्ता सिंह एक बस में सफर कर रहा था जो काफी भरी हुई थी। वो अपने बेटे की फोटो साथ में लिए हुए था (स्कूल में दाखिले के लिए )। किसी तरह वो फोटो उसकी जेब से नीचे गिर गयी। उसने फोटो ढूंढ़ना शुरू किया और पाया कि वो फर्श पर गिरी है। उसने सामने खड़ी साड़ी में लिपटी महिला से कहा "क्या आप अपनी साड़ी उठायेंगी। मैं फोटो लेना चाहता हूं।" फिर क्या हुआ आप समझ सकते हैं। वह इस कदर पिटा कि उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा।
वहां उसे यह देखकर बड़ा आश्चर्य हुआ कि उसके पास वाले बिस्तर पर बन्ता सिंह पड़ा हुआ है जिसकी हालत उससे भी बदतर थी। बन्ता सिंह ने अपना किस्सा बताना शुरू किया। किसी काम से उसे एक दूर के गांव जाना पड़ा और अपनी ‘उच्च बुद्धिमता' के कारण उसे समय से पूरा नहीं कर सका और वहां से जाने वाली आखिरी बस भी उससे छूट गयी। वहां कोई होटल तो था नहीं इसलिए वह एक पास के घर में पहुंचा और घर के मालिक से पूछा कि क्या उसे एक रात रूकने की जगह मिलेगी। घर के मालिक ने जवाब दिया "मेरी दो जवान बेटियां हैं। मैं तुम्हें अपने घर नहीं रख सकता।"
वो अगले घर में गया और पूछा कि क्या वो वहां एक रात रूक सकता है। घर के मालिक ने जवाब दिया "मेरी 3 जवान बेटियां हैं इसलिए मुझे खेद है कि मैं तुम्हें अपने घर नहीं रोक सकता।"
उसने अगले घर की ओर रूख किया और इस बार कोई खतरा मोल न लेते हुए उसने पूछा "क्या आपके घर में जवान बेटियां हैं।" मकान मालिक ने पूछा "क्यों "। बन्ता ने जवाब दिया "मैं एक रात यहां रूकना चाहता हूं . . . . . ."

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.


जोन , एक सुन्दर सेक्रेटरी , ने लगभग अपनी पूरी छुट्टियां अपने होटल की छत पर सूर्यस्नान लेते हुए बिताने की सोची। पहले दिन उसने ‘बाथिंग सूट' पहना मगर दूसरे दिन उसने सोचा कि कोई देखने वाला तो है नहीं इसलिए उसने उसे भी उतार दिया।
उसने शुरू किया ही था कि उसे सीढ़ियों पर किसी के दौड़कर आने की आहट सुनी। वो पेट के बल लेटी हुई थी इसलिए उसने केवल एक तौलिये से अपने पिछले हिस्से को ढंक लिया।
"माफ कीजिएगा मैडम" परेशान लग रहे होटल के सहायक प्रबन्धक ने भाग कर आने से हुई तेज़ सांसों पर काबू पाते हुए कहा। "होटल को इस बात से कोई आपत्ति नहीं है कि आप छत पर सूर्य स्नान कर रही हैं। मगर हम चाहेंगे कि आप कल की ही तरह अपना ‘बाथिंग सूट' पहने रखें।"
‘इससे क्या फर्क पड़ता है।" जोन ने शांति से पूछा। "यहां मुझे कोई नहीं देख रहा है और इसके अलावा मैंने अपने को तौलिये से ढंक रखा है।"
"ऐसा नहीं है" परेशान व्यक्ति ने कहा "आप भोजन कक्ष की पारदर्शी छत पर लेटी हुई हैं . . . . . . . . ."

.
.
.
.
.
.
.
.

प्र . : आप एक पाकिस्तानी टैंक को बढ़ने से कैसे रोकेंगे।
उ . : उस आदमी को गोली मारकर जो उसे धकेल रहा है।

प्र . : क्या आपने करांची में हुई दुर्घटना के बारे में सुना है।
उ . : वहां के एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में बिजली के चले जाने की वजह से 4 घण्टे तक लोग ‘एस्केलेटर' में अटके रहे।

प्र . : क्या आपने पाकिस्तानी हैलीकॉप्टर की दुर्घटना के बारे में सुना।
उ . : पायलट को ठण्ड लग रही थी सो उसने पंखा बन्द कर दिया।

प्र . : आपने करांची के मुख्य राष्ट्रीय पुस्तकालय के बन्द होने की खबर सुनी।
उ . : किसी ने वहां की ‘किताब' चुरा ली।

प्र . : आपने पाकिस्तानियों से भरे हवाई जहाज़ के अपहरण की घटना के बारे में मालूम है।

उ . : आतंकवादियों ने धमकी दी है कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं हुईं तो हर घण्टे एक पाकिस्तानी को छोड़ते जायेंगे।

प्र . : आप एक पाकिस्तानी को डूबने से कैसे बचाएंगे।
उ . : उस के सिर से अपने पैर हटा कर।

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक व्यक्ति जब अपने घर ज़रा जल्दी पहुंचा तो उसने अपने घर से औरत की तेज़ सांसों की आवाज़ें सुनाई पड़ी। वह अन्दर घुसा तो उसने पाया कि उसकी बीवी अपने बिस्तर पर अस्त व्यस्त हालत में पड़ी हुई है। उसे देखकर उसकी बीवी चीखी "बचाओ मुझे दिल का दौरा पड़ रहा है।"
पति तुरन्त दूसरे कमरे की ओर दौड़ा डॉक्टर को फोन करने के लिए।
तभी उसका एक बच्चा दौड़ते हुए आया और बोला "पापा पापा आलमारी में कोई छुपा है और उसने कपड़े भी नहीं पहने हैं।"
पति ने आलमारी खोली और पाया कि वहां उसका दोस्त रमेश है।
वो चीखा "रमेश।।। तुम भी यार अजीब आदमी हो। वहां मेरी बीवी को दिल का दौरा पड़ रहा है और तुम यहां बच्चों को डराने में लगे हुए हो।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक पाकिस्तानी लन्दन के हीथ्रो हवाई अड्‌डे पर अपने घर रावलपिण्डी जाने के लिए टिकट खरीदने गया। टिकट खिड़की पर उसने पाया कि किराये के ल्िए उसके पास एक पौण्ड कम पड़ रहा है। कोई और चारा न पा कर उसने बाकी यात्रियों से विनती की "क्या आपमें से कोई मुझे एक पौण्ड देने की कृपा करेगा।" "ये लो" एक सरदारजी ने अपने पर्स से 10 पौण्ड का नोट निकालते हुए कहा। " . . . बाकी रख लो और अपने साथ 9 और पाकिस्तानियों को ले जाओ।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
एक कीड़ा बीयर के एक मग में गिर जाये तो . . . . .
अंग्रेज़ : मग दूर फेंक कर वहां से चला जाता है।
अमेरिकन : कीड़ा बाहर फेंक कर बीयर पी जाता है।
चीनी : कीड़ा खाकर फिर बीयर पी लेता है।
हिंदुस्तानी : कीड़े को चीनी को बेचता है और बीयर अमेरिकन को और फिर अपने लिए दूसरी बीयर खरीदता है।
पाकिस्तानी : उसके बीयर में कीडा डालने के लिए हिन्दुस्तानी को ज़िम्मेदार ठहराता है। उस मुद्दे को काश्मीर से जोड़ता है। चीनी से सैनिक मदद मांगता है और अमेरिकन से दूसरी बीयर के लिए उधार मांगता है।

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

बेनज़ीर भुट्टो खरीदारी करने के बाद अपनी कार की ओर जा रहीं थीं कि उन्हें याद आया कि दवाइयों की दुकान पर रूककर गर्भनिरोधक गोलियां तो खरीदना वो भूल ही गयीं। सो वो जल्दी जल्दी पास की मेडिकल स्टोर्स पहुंची और पर्ची उसे देते हुए बोलीं "इसे जल्दी से दे दो। कार में लोग मेरा इंतज़ार कर रहे हैं।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक हिन्दुस्तानी और एक पाकिस्तानी एक कपड़े की दुकान पर थे। हिन्दुस्तानी ने दुकानदार से 7 अंडरवियर देने को कहा। दुकानदार ने उत्सुकतावश पूछा "आपको 7 क्यों चाहिए।"
हिन्दुस्तानी : एक सोमवार के लिए एक मंगल के ल्िए और इस तरह बाकी . . . .
पाकिस्तानी ने अपना रोब जमाने के लिए कहा : "मुझे 12 दो।"
दुकानदार : आपको 12 चाहिए। वाह। मगर क्यों ।
पाकिस्तानी : एक जनवरी के लिए एक फरवरी के लिए और इस तरह बाकी . . . . . .

.

.
.
.
.
.
.
.
.

एक व्यक्ति मरने के बाद स्वर्ग पहुंचा। यम ने उससे कहा "हमारे यहां की परम्परा के अनुसार ये देखकर कि लोग अपने जीवनसाथी के प्रति कितने वफादार रहे हैं उन्हें वाहन उपलब्ध कराया जाता है। चूंकि तुम ज़िन्दगी भर अपनी पत्नी के प्रति निष्ठावान रहे हो मैं तुम्हें यह विमान देता हूं।"
कुछ दिनों बाद यम ने उस आदमी को रोते हुए देखा।
उन्होंने पूछा "मैंने तुम्हे एक विमान दिया है। फिर क्या बात है जो तुम रो रहे हो।"
उसने जवाब दिया "मैंने अभी अपनी बीवी को रिक्शा चलाते देखा है।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक अच्छे होटल में रूके एक व्यक्ति ने एक सुबह मुख्य बैरेे को अपने कमरे में बुलाया।
'गुड मॉर्निंग सर।'
'गुड मॉर्निंग। कितनी अच्छी सुबह है ना।मैं नाश्ते में दो उबले अण्डे लूंगा। एक इतना कम पका हो कि एकदम पिलपिला सा हो और दूसरा इतना उबला हो कि कठोर हो जाने की वजह से खाते न बने। साथ ही जले हुए टोस्ट भी जो छुरी कांटे से छूते ही चूर हो जायें।और मक्खन सीधे फ्रीजर से निकला हुआ हो कि उसे टोस्ट पर फैलाना लगभग असम्भव हो। और एक बिल्कुल हल्की कॉफी जो गर्म न हो।'
'यह एक अजीब सा आर्डर है सर।' भौंचक्के से बैरे ने कहा। 'ये बहुत मुश्किल होगा।'
व्यक्ति ने जवाब दिया 'ओह। लेकिन ये तो वही है जो मुझे कल मिला था।'

.
.
.
.
.
.
.
.
.

प्र . : एक पुरूष और एक स्त्री में क्या फर्क है।
उ . : एक स्त्री एक पुरूष चाहती है अपनी हर ज़रूरत के लिए।
एक पुरूष हर औरत चाहता है अपनी एक ज़रूरत के लिए।

.
.
.
.
.
.
.
.
.

रविवार की प्रार्थना के बाद मेरी पादरी के पास पहुंची। वो आंसुओं में डूबी हुयी थी।
पादरी ने पूछा "कौन सी बात तुम्हें इतना परेशान कर रही है।"
उसने कहा "ओह फादर। मेरे पास एक बहुत भयानक खबर है। कल रात मेरे पति चल बसे।"
पादरी ने कहा "ओह। ये तो बहुत बुरा हुआ। ये बताओ मेरी कि क्या जाने से पहले उसने कोई आखिरी ख्वाहिश की थी।"
उसने कहा "हां। उसने की थी . . . फादर।"
पादरी ने पूछा "उसने क्या कहा था मेरी।"
मेरी बोली "उसने कहा था 'प्लीज़ मेरी वो पिस्तौल नीचे रख दो . . . . ।'"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक झूठ पकड़ने की मशीन खरीदी गयी। वो इस तरह से काम करती थी . . . . . अगर सच कहा जाये तो मशीन कोई आवाज़ नहीं करती थी। अगर झूठ बोला जाये तो मशीन से आवाज़ आती थी 'टनाााा . . . . '।
अब एक बंगाली एक मद्रासी और एक सरदारजी को मशीन के सामने लाया गया। अब देखिए . . . .
बंगाली : आमि सोचता हूं कि हम एक बार में 30 रोसोगुल्ला खा सकता हूं।
मशीन : टनााा. . . . . .
बंगाली : नोहीं नोहीं। हमारे ख्याल से हम एक बार में 10 रसगुल्ला खा सकता हूं।
मशीन : कोई आवाज़ नहीं। मतलब सच बोला गया।
मद्रासी : हम सोचता जी हम एक बार 25 दोसा खा सकता जी।
मशीन : टनााा . . . . . . .
मद्रासी : नहीं नहीं। हम सोचता कि हम एक बार में 10 दोसा खाने सकता ।
मशीन से कोई आवाज़ नहीं।
सरदारजी : मैं सोचता हूं . . . .
मशीन : टनााा . . . . . . .
सरदारजी : मैं सोचता ं . . . .
मशीन : टनााा . . . . . . .

.
.
.
.
.
.
.
.

एक पुलिस ऑफिसर तीन 'सयानों' से बात कर रहा था जो कि 'जासूसी' का प्रशिक्षण ले रहे थे। व्यक्ति विशेष को पहचानने के उनके कौशल कै परीक्षा लेने के लिए उसने पहले 'सयाने' को एक तस्वीर 5 सेकण्ड तक दिखायी और फिर उसे हटा लिया। "ये संदेहास्पद व्यक्ति है। आप इसे कैसे पहचानेंगे।"
पहले ने जवाब दिया "ये तो आसान है। हम उसे पकड़ लेंगे क्योंकि उसकी केवल एक आंख है।"
पुलिस ऑफिसर ने कहा "अरे वो तो ऐसा इसलिए दिख रहा है क्योंकि तस्वीर इस ढंग से ली गयी है।"
इस ऊटपटांग जवाब से थोड़ा निराश और गु.स्से में आकर उसने वो तस्वीर 5 सेकण्ड दूसरे 'सयाने' को दिखायी और फिर पूछा "ये आपका सन्देहास्पद व्यक्ति है। आप इसे कैसे पहचानोगे।"
दूसरे सयाने ने हंसते हुए कहा "इसे पकड़ना तो बहुत ही आसान है क्योंकि इसका केवल एक ही कान है।"
पुलिस ऑफिसर ने ग़ुस्से में आकर कहा "तुम दोनों के साथ दिक्कत क्या है। ठीक है इस इस तस्वीर में केवल एक कान और एक आंख दिख रही है मगर ऐसा इसलिए है क्योंकि ये तस्वीर बगल से खींची गयी है। क्या यही तुम्हारी सोच है।"
बेहद हताश से पुलिस ऑफिसर ने तीसरे 'सयाने' को तस्वीर दिखायी और अपने को शांत बनाये रखते हुए पूछा "यह तुम्हारा अपराधी है। तुम इसे कैसे पहचानोगे।"
और उसने तुरंत जोड़ा "बेवकूफाना जवाब देने से पहले अच्छी तरह सोचो।"
तीसरे सयाने ने एक क्षण के लिए तस्वीर को देखा और कहा "हूं . . . . . अपराधी कॉन्टेक्ट लेन्स पहनता है।"
पुलिस ऑफिसर स्तब्ध और विस्मित सा हो गया क्योंकि उसे खुद पता नहीं था कि वो कॉन्टेक्ट लेन्स पहने है या नहीं। "ये एक अच्छा जवाब है . . . . । कुछ देर यहीं रूकना तब तक मैं इसकी फाइल की जांच करके मालूम करता हूं। वह अपने ऑफिस गया और कम्प्यूटर पर उस व्यक्ति की फाइल देखी और एक बड़ी सी मुस्कान लिए वापस आया। "वाह। मैं तो विश्वास न्हीं कर पा रहा हूं। यह सही है। अपराधी वास्तव में कॉन्टेक्ट लेन्स पहनता है। बहुत अच्छे। इतना अच्छे निष्कर्ष का तुमने कैसे अनुमान लगाया।"
'ये तो बहुत आसान है।' सयाने ने जवाब दिया। 'वो सामान्य लोगों की तरह चश्मा तो पहन नहीं सकता क्योंकि उसकी केवल एक आंख है और एक कान।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.

जब मैं पैदा हुआ था तब 21 तोपें चलायी गयीं थीं।
अफसोस! सभी चूक गयीं।


क्या 35 के बाद महिलाओं को बच्चे पैदा करने चाहिये ?
नहीं‚ 35 बच्चे काफी हैं।


क्या तुम मेरी 18 वीं सालगिरह पर आ रहे हो ?
नहीं‚ मैं 5 साल पहले ही जा चुका हूं।


आपका भविष्य आपके सपनों पर निर्भर करता है।
इसलिए सोने जाओ।


शराब धीरे धीरे मार डालती है।
तो क्या हुआ। जल्दी किसे है ?


भगवान ने रिश्तेदार बनये हैं।
शुक्र है‚ हम दोस्त चुन सकते हैं।


पिछली सीट पर बच्चे दुर्घटना पैदा करती है।
पिछली सीट पर ‘दुर्घटना' बच्चे पैदा करती है।


एक लड़की सड़क की तरह होती है।

जितने अधिक मोड़‚उतनी ही खतरनाक।


क्या तुम ऐसा कोई काम कर सकते हो जो दूसरे लोग नहीं कर सकते ?
बिलकुल। मैं अपना लिखा हुआ पढ़ सकता हूं।


मैंने सुना है कि तुम्हारे पास ऐसी बिल्ली है जो अपना नाम लेती है!
हां। "म्याऊं"।


तलाक इतने सामान्य हो चुके हैं कि मैं और मेरी बीवी दूसरों से अलग होने के लिए ही साथ रह रहे हैं।




.
.
.
.
.
.
.
.

पादरी सुलीवान एक व्यक्ति जिसका अंत समय करीब था के पास बैठे थे। "शैतान को धिक्कारो" पादरी ने कहा। "नहीं" उस आदमी ने कहा। "मैं कहता हूं शैतान और उसके कामों की निन्दा करो।" पादरी चीखा। "नहीं" आदमी ने दोहराया।
"आखिर क्यों भगवान के लिए ऐसा क्यों।" पादरी सुलिवान ने पूछा।
"क्योंकि" उसने कहा "जब तक मुझे मालूम न पड़ जाये कि मैं किसके पास जाने वाला हूं मैं किसी को नाराज़ नहीं करूंगा।"

.
.
.
.
.
.
.
.

एक बार लालू यादव अमेरिका गये। वहां वो एक सरकारी मंत्री के घर रूके। उसका घर बहुत ही अच्छा था। वो मंत्री उन्हें खिड़की के पास ले गया और पूछा "आपको वो नदी दिख रही है।"
लालू ने जवाब दिया "हां।"
"और आप को वो पुल दिखायी दे रहा है।"
लालू ने कहा "हां।"
तब मंत्री बोला "50% (मतलब इतना कमीशन खाया)।
लालू ये सुनकर खुश हुए और उस मंत्री को अपने घर आने का निमंत्रण दिया। जब वो मंत्री कुछ समय पश्चात उनके यहां आया तो लालू के मकान को देखकर चकित रह गया। वो उसके घर से भी बड़ा और शानदार था। उसने लालू से पूछा कि उनके पास इतना पैसा कहां से आया।
लालू उसे खिड़की के पास ले गये और पूछा "क्या अपको वो नदी दिख रही है।"
जवाब मिला "हां।"
फिर लालू ने पूछा "और आपको वहां पुल दिख रहा है।"
"नहीं" उसने जवाब दिया।
लालू ने कहा "100%"।

.
.
.
.
.
.
.
.

तीन कैदी जेल से भाग निकले। एक मद्रासी एक बंगाली और एक बिहारी। कई मील भागने के बाद उन्हें एक फार्महाउस के गोदाम नज़र आया। उन्होंने वहां के भूसे के कमरे में छिपने की सोची। वहां पहुंचने पर उन्होंने तीन बड़े बोरे देखे तााे उन्होंने उसमें घुसकर छिपने का फैसला किया।
करीब एक घण्टे बाद जेल का वार्डन अपने आदमियों के साथ वहां आ पहुंचा। उसने अपने एक आदमी को भूसे के कमरे में खोजने के लिए कहा। वहां पहुंचने पर जेलर ने उससे पूछा कि क्या दिख रहा है। उस आदमी ने चिल्लाकर कहा "केवल तीन बोरे।"
जेलर ने उससे कहा कि वो पता करे कि उनमे क्या है। उस आदमी ने पहले बोरे में एक लात मारी जिसमें कि मद्रासी था। वो बोला "भौं भौं।" उस आदमी ने जेलर को बताया कि उसमें एक कुत्ता है। फिर उसने दूसरे बोरे में लात मारी। उसके अन्दर बंगाली बोला "म्याऊं"। उस आदमी ने जेलर को बताया कि उसमें बिल्ली है। फिर उसने तीसरे बोरे को एक लात मारी जिसमें बिहारी बन्द था। उसने कोई आवाज़ नहीं की। तब जेलर के आदमी ने फिर से लात मारी मगर फिर कोई आवाज़ नहीं आयी। तब उसने बार बार मारना शुरू किया। आखिरकार बिहारी बोला "आलू।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.


पैज़ले के दूसरे विभाग में भेजे जाने के दो हफ्ते बाद विभाग प्रमुख का फोन पुराने विभाग के प्रमुख के पास आया। वो ग़ुस्से में चीखा "आपने कहा था कि पैज़ले एक ज़िम्मेदार कर्मचारी है।"
"हां वो है।" पुराने विभाग के प्रमुख ने जवाब दिया। "जिस साल वो मेरे विभाग में था पांच बार हमारा कंप्यूटर खराब हुआ और हमें फिर से शुरू से प्रोग्रामिंग करनी पड़ी। छ: बार खाते के हिसाब में गड़बड़ हुई। और इन सब की वजह से मुझे अल्सर हो गया। और हर बार पैज़ले ही ज़िम्मेदार था।"

.
.
.
.
.
.
.
.

मेरी शादी हुए 29 साल हो चुके हैं। 29 सालों से मैं एक ही औरत से प्रेम करता हूं। अगर मेरी बीवी को ये पता चल जाये तो वो मुझे मार ही डालेगी।

मैंने अपनी बीवी से पूछा "इस बार शादी की सालगिरह पर तुम कहां जाना चाहोगी।" उसने कहा "कहीं भी जहां मैं नहीं गयी हूं।" मैंने कहा "तो फिर रसोईघर के बारे में क्या ख्याल है।"

मेरी बीवी नयी तरह की 'डायट' पर है। केवल केले और नारियल। उसका वज़न तो कम नहीं हुआ अलबत्ता अब वो पेड़ पर चढ़ सकती है।

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक कार दुर्घटनाग्रस्त हो गयी। और जैसा कि होता है एक भारी भीड़ इकट्‌ठा हो गयी। एक अखबार का पत्रकार कार के पास नहीं पहुंच पा रहा था जो इससे अपनी कहानी बनाना चाहता।
अपनी होशियारी दिखाते हुए उसने ज़ोर से चिल्लाना शुरू किया "मुझे जाने दो दो। मुझे जाने दो। जिसका एक्सीडेण्ट हुआ है मैं उसका बेटा हूं।
भीड़ ने उसके लिए जगह बना दी। कार के सामने एक गधा पड़ा हुआ था।

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
एक मैक्सिकन डाकू ने सीमा पार करने में कुशलता हासिल कर ली थी और वो बार बार टेक्सास जाकर बैंक में डकैती डालता था। आखिरकार उसके ऊपर एक बड़ा सा इनाम रखा गया और टेक्सास के एक उत्साही इंस्पेक्टर ने उसे पकड़ने का निश्चय कर लिया।
एक लंबी खोजबीन के बाद उसने डाकू को एक शराबघर में पा ही लिया। उसके पीछे पहुंचकर उसने अपनी पिस्तौल डाकू के सिर पर रख दी और बोला "तुम गिरफ्तार किये जाते हो। बताओ कि तुमने लूट का माल कहां छिपाया है वरना मैं तुम्हारा भेजा उड़ा दूंगा।"
लेकिन डाकू अंग्रेज़ी नहीं बोल सकता था और इंस्पेक्टर को स्पेनिश नहीं आती थी। संयोग से एक वहां एक वकील था जो दोनों भाषाएं जानता था। उसने इंस्पेक्टर की बात का अनुवाद कर के डाकू को बताया। डर के मारे डाकू तुरन्त बोल पड़ा कि शराबघर के पीछे एक ओक के पेड़ के नीचे सारा माल गड़ा हुआ है।
"इसने क्या कहा।" इंस्पेक्टर ने पूछा।
वकील ने जवाब दिया "वह कह रहा है 'भाग जा बेवकूफ। तेरी इतनी औकात नहीं कि तू मुझ पर गोली चलाये।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
..

एल एल बी' की एक कक्षा में एक प्रोफेसर ने अपने एक योग्य छात्र से पूछा "अगर तुम्हें किसी को एक सन्तरा देना हो तो तुम क्या करोगे।"
छात्र ने जवाब दिया "यह सन्तरा लो।"
प्रोफेसर थोड़ा नाराज़ सा हुआ। "नहीं नहीं एक वकील की तरह सोचो।"
तब छात्र ने जवाब दिया "ठीक है मैं कहूंगा 'मैं एतद्‌ द्वारा अपनी पूरी रूचि और बिना किसी के दबाव में यह फल जो सन्तरा कहलाता है उसके छिलके रस गूदे ओर बीज समेत देता हूं और साथ ही इस बात का सम्पूर्ण अधिकार भी कि इसे लेने वाला इसे काटने छीलने फ्रिज में रखने या खाने के लिए पूरी तरह अधिकृत होगा और यह भी अधिकार रखेगा कि इसे वो दूसरे व्यक्ति को छिलके रस गूदे और बीज के बिना या उनके साथ दे सकता है। और इसके बाद मेरा किसी भी प्रकार से इस सन्तरे से कोई सम्बन्ध नहीं रह जायेगा . . . . . . . . . . . ."

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक 80 वर्ष के वृद्व ने एक युवती से विवाह कर लिया। कुछ समय बाद वो डॉक्टर के पास गया और उससे कहा कि उसे लगता है कि वो बाप बनने वाला है।
डॉक्टर ने कहा "मैं आपको एक कहानी सुनाना चाहता हूं एक भुलक्कड़ सा शिकारी शिकार के लिए जंगल में गया। वहां एकाएक उसके सामने एक शेर आ गया। उसने अपनी बन्दूक निकाली और पाया कि वो बन्दूक के बदले छाता ले कर आ गया है। लेकिन कुछ और न कर पाने की वजह से उसने छाते को ही शेर की तरफ तानते हुए बटन दबा दी। 'धांय' सी आवाज़ हुई और शेर मर गया।"
"असम्भव"। वृद्व व्यक्ति ने कहा "ज़रूर किसी ने बगल से गोली चलायी होगी।"
डॉक्टर ने कहा "बिलकुल सही।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

चिकित्सा पद्धति का लघु इतिहास : "डॉक्टर मेरे कान में दर्द है।"
2000 ई . पूर्व "यह लो यह जड़ी खा लो।"
1000 ई . पू . "यह जड़ी धर्म के अनुसार नहीं है। यह प्रार्थना करो।"
1850 ईस्वी "प्रार्थना करना अंधविश्वास है। यह घोल पियो।"
1940 ईस्वी "यह घोल तो सांप के तेल से बना है। यह गोली खाओ।"
1985 ईस्वी "यह गोली बेअसर है । ये एंटीबायोटिक लो।"
2000 ईस्वी "यह एंटीबायोटिक अप्राकृतिक है। लो यह जड़ी खा लो।"


.
.
.
.
.
.
.
.


हवाई उड़ान के अनुभव
लुफ्थांसा : लुफ्थांसा के यात्रियों ने उड़ान के दौरान कप्तान की यह घोषणा सुनी : 'देवियों और सज्जनों मुझे बहुत खेद के साथ यह कहना पड़ रहा है कि हमारे सारे इंजिनों ने काम करना बन्द कर दिया है और जल्दी ही हम समुद्र में गिरने वाले हैं।"
ज़ाहिर था कि यात्री स्थिति जानकर चिंतित हो गये मगर फिर कप्तान की अगली घोषणा किये जाने पर कुछ आश्वस्त से हुए।
"देवियों और सज्जनों लुफ्थांसा की तरफ से हम ऐसी परिस्थितियों के लिए तैयार हैं और हम चाहेंगे कि आप लोग बैठने की जगहों में इस तरह परिवर्तन कर लें कि जो तैरना जानते हैं वो दायीं तरफ आ जायें और तैरना न जानने वाले बायीं तरफ।"
इस घोषणा के बाद यात्रियों ने कप्तान के कहने के अनुसार अपनी जगहें बदल लीं।
दो मिनट बाद कप्तान ने फिर से घोषणा की। "हमारा विमान अब समुद्र पर तैर रहा है। सभी तैराक जो दायीं तरफ है कृपया आपातकालीन द्वार खोलें और तैरकर जहाज़ से तुरंत दूर चले जायें। बायीं ओर के न तैरना जानने वालों के लिए . . . . अलविदा। लुफ्थांसा उड़ाने के लिए धन्यवाद।

ब्रिटिश एयरवेज़ : मैं आपका कैप्टन सिंक्लेयर बोल रहा हूं। अपने साथियों की ओर से मैं आपका ब्रिटिश एयरवेज़ की न्यू यार्क से लन्दन की उड़ान क्रमांक 602 में आपका स्वागत करता हूं। अभी हम अटलांटिक महासागर में 35000 फीट की ऊंचाई पर हैं। अगर आप खिड़की से 'स्टारबोर्ड' की तरफ देखेंगे तो आप पाायेंगे कि दोनों 'स्टारबोर्ड' इंजिनों में आग लग चुकी है। अगर आप खिड़की से 'पोर्ट' की तरफ देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि 'पोर्ट विंग' गिर चुका है। अगर आप नीचे अटलांटिक महासागर की ओर देखेंगे तो आपको एक छोटी सी पीली जीवन नौका दिखायी देगी जिसमें कि तीन व्यक्ति आपकी ओर हाथ हिला रहे हैं। यह मैं आपका कैप्टन मेरा सहचालक और एक परिचारिका है। यह एक रिकार्ड किया हुआ संदेश है। धन्यवाद।"

नमस्कार देवियों और सज्जनों। मैं बन्ता सिंह पंजाब एयरवेज़ में आपका स्वागत करता हूं।
मैम् उड़ान में चार दिन की देरी के लिए क्षमा चाहता हूं।
यह नई दिल्ली के ल्िए उड़ान क्रमांक 126 है। दिल्ली में उतरने की मैं कोई गारंटी नहीं दे सकता मगर हम कोशिश करेंगे कि पूर्व की ओर ही कहीं अपनी यात्रा खत्म करें। और अगर आपका भाग्य आपके साथ है तो हो सकता है कि हम आपके गांव में ही उतरें।
पंजाब एयरवेज का सुरक्षा के मामले में एक शानदार कीर्तिमान रहा है। वास्तव में हमारे सुरक्षा के मापदण्ड इतने उच्च हैं कि आतंकवादी भी हमारे साथ उड़ने में डरते हैं।
बड़ी खुशी के साथ मैं यह बताना चाहता हूं कि इस साल हमने 50 प्रतिशत से अधिक यात्रियों को सकुशल उनकी मंज़िल तक पहुंचाया है। जिनके साथ ऐसा नहीं हो सका उनके निकट रिश्तेदारों को सांत्वना देने में हमारे कर्मचारियों पर्याप्त अनुभवी हैं।
हमारी परिचारिका बबली को ' न्यायालय के बाहर मामले को सुलझाने के हमारे नियमों ' की जानकारी देने में खुशी होगी।
अगर आपको हमारे इंजिन बहुत शोर मचाने वाले लगें तो यात्रियों के अनुरोध पर हम उन्हें बन्द कर सकते हैं।
हमारे धार्मिक किस्म के यात्रियों के लिए हम एकमात्र एयरलाइन हैं जो आपको यह विश्वास दिलाने में मदद करते हैं कि 'भगवान सचमुच है।'
हमें यह सूचित करते हुए खेद हो रहा है कि हम आज उड़ान के दौरान फिल्म नहीं दिखा पायेंगे क्योंकि हम उसे टी वी से रिकार्ड करना भूल गये।लेकिन फिल्मों के शौकीनों को ध्यान में रखते हुए हम अपना जहाज़ एयर इंडिया के साथ साथ उड़ायेंगे जिससे कि कि उसमें दिखाायी जा रही फिल्म केबिन की खिड़की से देखी जा सके।
सुरक्षा जैकेट आपकी सीट के नीचे है और किसी एमर्जेंसी में कूदने की आवश्यकता होने पर तैराकी की पोशाक मुफ्त दी जायेगी।
कृपया सीत पर बैठे रहें और बेल्ट बांध लें। जो लोग सीट बेल्ट न ढूंढ़ पाायें वो अपनी बेल्ट से ही अपने हाथ को सीट से बांध लें।
मुझे खेद है कि इस उड़ान में मैं आपके साथ नहीं रहूंगा क्योंकि मुझे अपने भतीजे की शादी में जाना है। लेकिन इसे अपने घर की ही तरह समझिए और विमान उड़ाने में सहचालक की मदद कीजिए।
पंजाब एयरवेज़ को चुनने के लिए धन्यवाद और शुभ यात्रा।


.
.
.
.
.
.
.
.
.


सन्ता सिंह अपनी पुरानी मारूति बेचना चाहता था जो 100000 कि . मी . से भी अधिक चल चुकी थी। चूंकि कोई उसे खरीदने को तैयार नहीं था वो अपने दोस्त के पास पहुंचा और उसे बेचने के लिए मदद मांगी।
दोस्त उसे सलाह दी कि वो कार के 'स्पीडोमीटर' की संख्या को 30000 के करीब कर दे ताकि वह अपने किसी ग्राहक को कह सके कि गाड़ी का इस्तेमाल बहुत कम हुआ है।
सन्ता सिंह को सुझाव पसन्द आया। कुछ हफ्ते बाद वही दोस्त उससे मिला और उसने जानना चाहा कि वो कार निकाल पाया या नहीं। सन्ता सिंह ने जवाब दिया "तुम पागल हो क्या। कौन अपनी कार बेचेगा जो केवल 30000 कि . मी . चली हो।"


.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक उम्मीदवार ने एक कम्पनी को अपना आवेदनपत्र इस तरह से भेजा :
आपके द्वारा दिये गये विज्ञापन के अनुसार "एक टाइपिस्ट और एकाउन्टेंट . . पुरूष या महिला" की ज़रूरत है। चूंकि मैं कई सालों से दोनों हूं और दोनों को संभाल सकता हूं मैं इस पद के लिए आवेदन कर रहा हूं।

एक कर्मचारी ने छुट्टी के लिए इस तरह आवेदन किया :
"चूंकि मुझे अपनी बीवी के साथ अपनी जमीन बेचने गांव जाना है कृपया मुझे एक सप्ताह की छुट्टी की अनुमति देने की कृपा करें।"

एक और कर्मचारी ने आधे दिन की छुट्टी इस तरह से मांगी :
"चूंकि मुझे श्मशान घाट जाना है और मैं वापस नहीं आ पाऊंगा मुझे आधे दिन का आकस्मिक अवकाश देने का कष्ट करें।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

सन्ता सिंह जो कि एक अच्छा खासा अमीर था को उसके डॉक्टर ने कुछ दिनों के लिए आराम करने की सलाह दी। उसने बहामा में करीब दो हफ्ते छुट्टी बितााने का निश्चय किया।
उसने अपने सभी जानने वालों और परिवार वालों को सख्त निर्देश दिये कि उसे घर से कोई भी खबर न दी जाये जिससे कि वो परेशान हो।
दो हफ्ते बाद हवाई अड्‌डे पर उसका दोस्त बन्ता सिंह उसे लेने आया। और उन दोनों में ये बातें हुईं।
"और भई बन्ता। घर से कोई खबर है क्या। अब तुम मुझे छोटी से छोटी बात भी बता सकते हो।"
"केवल एक खबर है। बड़ी खबर। जब तुम बाहर थे उस दौरान तुम्हारा कुत्ता मर गया। उसके अलावा कोई और खबर नहीं है।"
"मेरा कुत्ता मर गया। ये तो बहुत बुरा हुआ। वो कैसे मर गया।"
"कुत्ते ने थोड़ा घोड़े का जला हुआ मांस खा लिया था। और इसी वजह से वो मर गया।"
"घोड़े का जला हुआ मांस। उसे घोड़े का जला हुआ मांस खाने को कहां मिला।"
"असल में सन्ता तुम्हारे घोड़ों का अस्तबल जलकर राख हो गया। सभी घोड़े और गायें भी जलकर मर गये। आग बुझने के बाद कुत्ता वहां गया और उसने घोड़ों का मांस खा लिया और इसी कारण वह मर गया।"
"मेरा अस्तबल जल गया। उसमें आग कैसे लगी।"
"तुम्हारे घर से कुछ चिन्गारियां अस्तबल पर गिरीं और उसने भी आग पकड़ ली। जब आग बुझी कुत्ता वहां गया और उसने घोड़ों का मांस खा लिया और इसी कारण वह मर गया।"
"मेरा घर भी जल गया। मेरे घर को आग कैसे लगी।"
घर में कुछ 'दिये' जल रहे थे। पर्दे के काफी पास होने के कारण उन दियों से पर्दों में आग लग गयी। आग छत तक पहुंची जहां से चिन्गारियां अस्तबल पर गिरीं जिससे अस्तबल जल गया। आग बुझने के बाद कुत्ता वहां गया और घोड़े का जला हुआ मांस खा लिया। और इसी ने उसकी जान ले ली।
"सबसे पहली बात तो ये कि वहां दिये क्यों जल रहे थे।"
"दिये मृत शरीर के पास जलाये गये थे।"
"मृत शरीर। कौन मर गया।"
"तुम्हारा कुत्ता मर गया। लेकिन वो लाश तुम्हारी मां की थी। और उनकी लाश के पास रखे दियों से शुरू हुयी आग से अस्तबल जल गया।जब आग बुझी कुत्ता वहां गया और उसने घोड़ों का मांस खा लिया और इसी कारण वह मर गया।"
"मेरी मां मर गयीं। ऐसा क्या हुआ कि मेरी मां की जान चली गयी"
"मुझे तो पता नहीं कि किस वजह से उनकी जान चली गयी। लेकिन आस पड़ोस में अफवाह है कि इसका कारण वह सदमा है जो तुम्हारी बीवी के ड्राइवर के भाग जाने से उन्हें हुआ। लेकिन इसके अलावा कोई और खबर नहीं है।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

डाकघर पहुंचने पर एक व्यक्ति ने अच्छे कपड़े पहने हुए एक प्रौढ़ से गंजे आदमी को काऊन्टर पर खड़ा पाया। वो बड़े ढंग से गुलाबी बधाई पत्रों पर टिकट लगा रहा था। हरेक लिफाफे पर दिल का निशान बना हुआ था। फिर उसने परफ्यूम की एक बोतल निकाली और उन पर स्प्रे करना शुरू कर दिया।
उतसुकतावश वो उस आदमी के पास पहुंचा और उससे पूछा कि वो क्या कर रहा है।
उस आदमी ने कहा "मैं 1000 वैलेण्टाइन कार्ड भेज रहा हूं 'सोचो कौन' लिखकर।"
"लेकिन क्यों" व्यक्ति ने पूछा।
"मैं तलाक का वकील हूं।" आदमी ने जवाब दिया।

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.


"मिस्टर क्लार्क। मुझे खेद है मेरे पास एक बुरी खबर है।" डॉक्टर ने बेचैन से मरीज़ से कहा। "आप केवल 6 माह और जिन्दा रह पाएंगे।"
वह आदमी कुछ देर स्तब्ध सा बैठा रहा। फिर अपने को सामान्य करता हुआ वो माफी मांगने के अन्दाज में बोला कि उसके पास मेडिकल बीमा नहीं है। "मैं तब तक आपको आपके पैसे नहीं दे पाऊंगा।"
"ठीक है" डॉक्टर ने कहा "चलो तब इसे 9 महीने कर लेते हैं।"

.
.
.
.
.
.
.
.


विश्वविद्‌यालय में नये विद्‌यार्थियों को चयन के लिए मुख्य परीक्षा का 'सामान्य अंग्रेज़ी' का परचा चल रहा था। परीक्षा हाल में करीब 800 लड़के थे। परीक्षा दो घण्टे की थी और प्रश्नपत्र बांट दिये गये थे। निरीक्षण कए रहे प्रोफेसर काफी सख्त थे और उन्होंने लड़कों से कह दिया था कि कोई कॉपी जो उनकी मेज़ पर ठीक दो घण्टे के अन्दर नहीं पहुंचेगी को स्वीकार नहीं की जायेगी और उस लड़के को अनुत्तीर्ण माना जायेगा।
लघभग आधे घण्टे बाद एक लड़का दौड़ते हुए आया और प्रोफेसर से प्रश्नपत्र और कॉपी की मांग की। "तुम इसे समय पर खत्म नहीं कर पाओगे।" प्रोफेसर ने उसे देते हुए कहा।
"नहीं मैं कर लूंगा।" लड़के ने जवाब दिया। फिर वह बैठकर लिखने में जुट गया।
दो घण्टे के बाद प्रोफेसर ने कॉपियों की मांग की और सभी छात्रों ने उन्हें अपनी अपनी कॉपियां उन्हें दे दीं सिवाय उस लड़के के जो देरी से आया था और अभी भी लिखने में लगा था।"
आधे घण्टे बाद वो आखिरी छात्र प्रोफेसर के पास आया जो अपनी जगह पर बैठ कर अगली परीक्षा की तैयारी कर रहे थे। उसने अपनी कॉपी पहले की जमा की हुई कॉपियों के ढेर पर रखने की कोशिश की।
"नहीं तुम नहीं रख सकते। मैं इसे लेने वाला नहीं हूं। समय खत्म हो चुका है।"
लापरवाह दिखते हुए छात्र ने गुस्से से कहा "आप को पता है मैं कौन हूं।"
"नहीं। वास्तव में मैं नहीं जानता।" प्रोफेसर ने मानों उसका मज़ाक उड़ाते हुए जवाब दिया।
"क्या आपको पता है मैं कौन हूं।" छात्र ने फिर से थोड़ी ज़ोर देकर पूछा।
"नहीं और तुम चाहे कोई भी हो मुझे इसकी कोई परवाह नहीं है।" प्रोफेसर ने बिना प्रभावित हुए जवाब दिया।
"बहुत अच्छे" छात्र ने कहा। उसने जल्दी से कॉपियों का एक बण्डल उठाया और अपनी कॉपी उनके बीच में रख कर उन्हें मिला दिया और कमरे से बाहर निकल गया।

.
.
.
.
.
.
.
.


द्वि गाय तंत्र

समाजवाद
आपके पास दो गाय हैं। एक आप रखिए एक अपने पड़ोसी को दीजिए।

साम्यवाद
आपके पास दो गाय हैं। सरकार दोनों गायों को ले लेगी और उसके दूध को आपमें और आपके पड़ोसी में बांटेगी।

फासीवाद
आपके पास दो गाय हैं। आप दूध सरकार को दीजिए और सरकार आपको वापस बेचेगी।

नाज़ीवाद
आपके पास दो गाय हैं। सरकार आपको गोली मारकर गाय अपने कब्ज़े में कर लेगी।

पूंजीवाद
आपके पास दो गाय हैं। आप उन्हें दुहिए और ढेर सारा दूध नाली में बहा दीजिए ताकि कीमतें अधिक बनी रहें।

उदारवाद
आपके पास दो गाय हैं। आप उन्हें दुहिए और दूध गायों को ही पिला दीजिए।

अराजकतावाद
आपके पास दो गाय हैं। गाय आपको मार कर एक दूसरे को दुहेंगी।

प्रशासनवाद लालफीताशाही
आपके पास दो गाय हैं। आप 17 फार्म तीन प्रतिलिपियों में भरते रहते हैं और आपको उन्हें दुहने का समय ही नहीं मिलता।

आदर्शवाद
आपके पास दो गाय हैं। आप विवाह कर लेते हैं और आपकी पत्नी उन्हें दुहती है।

यथार्थवाद
आपके पास दो गाय हैं। आप विवाह कर लेते हैं और फिर भी आप ही उनका दूध निकालते हैं।

.
.
.
.
.
.
.
.


सांख्यिकी के एक छात्र ने अपने आखिरी साल के प्रोजेक्ट के लिए एक सर्वेक्षण करने का निश्चय किया। यह सोचकर कि कहीं यह एक उबाऊ प्रोजेक्ट न हो उसने लोगों के पसन्दीदा मनोरंजन के बारे में पता करने का फैसला किया।
शिक्षक के अनुसार कम से कम 100 नमूने होने चाहिए थे सो उसने अपना काम कॉलेज के पास की एक बड़ी रिहायशी इमारत से शुरू किया।
उसने पहले दरवाज़ा खटखटाया और एक आदमी बाहर निकला।
"सर आप का आपका नाम क्या है।" छात्र ने पूछा।
"जॉन"।
"सर मैं कॉलेज की तरफ से एक सर्वेक्षण पर हूं और मैं आपके पसंदीदा मनोरंजन के बारे में जानना चाहूंगा।"
"नहाते समय बुलबुल को देखना" जवाब आया।
उसने यह अनोखा जवाब पसन्द आया और वह आगे बढ़ा और अगले दरवाजे पर पहुंचा।
"सर आप का आपका नाम क्या है।" छात्र ने पूछा।
"जेफ"।
"सर क्या आप बताएंगे कि आपका प्रिय मनोरंजन क्या है।"
"नहाते समय बुलबुल को देखना" जवाब था।
वो थोड़ा चकित सा हुआ और वो इमारत के बाकी लोगों से यह सवाल पूछता रहा और उन सभी ने यही उत्तर दिया "नहाते समय बुलबुल को देखना"।
उसने इस इमारत को छोड़ा और सामने के ढेर सारे छोटे मकानों की तरफ बढ़ा अपना सर्वेक्षण ज़ारी रखने के लिए।
पहले मकान पर उसने दस्तक दी और एक सुन्दर लड़की ने दरवाजा खोला।
हमारे सर्वेक्षक ने शुरू किया "आपका नाम क्या है।"
"बुलबुल"।

.
.
.
.
.
.
.
.


टेक्सास का एक किसान छुट्टियां बिताने आस्ट्रेलिया गया। वहां वो एक आस्ट्रेलियाई किसान से मिला। आस्ट्रेलियन किसान ने उसे अपने बड़े बड़े गेहूं के फार्म दिखाये जिस पर टेक्सास का किसान बोला "अरे हमारे यहां तो गेहूं के खेत कम से कम इसके दोगुने बड़े होते हैं।" फिर वो चारागाह के चारों ओर थोड़ा घूमे और आस्ट्रेलियन किसान ने उसे गायों का झुण्ड दिखाया। टेक्सास के किसान ने तुरन्त कहा "हमारे यहां की गायें कम से कम इन गायों से दो गुनी बड़ी होती हैं।" इसके बाद दोनों के बीच बातचीत लगभग खत्म सी हो गयी। तभी टेक्सास के किसान ने कंगारूओं के एक झुण्ड को कूदते देखा। उसने पूछा "ये कौन सी चीज़ है।" आस्ट्रेलियन ने लगभग अविश्वासपूर्ण लहजे में कहा "क्यों तुम्हारे यहां टिड्‌डे नहीं होते।"

.
.
.
.
.
.
.


एक दार्शनिक ने दस साल तक अपने आप को एक कमरे में बन्द सा कर लिया इस सवाल पर चिन्तन करने के ल्िए कि 'ज़िन्दगी क्या है'। जब वह बाहर आया तो वह अपने एक पुराने साथी से मिला। उसने पूछा कि वो इतने समय तक कहां था।
"एक कमरे में" उसने जवाब दिया। "मैं जानना चाहता था कि वास्तव में ज़िन्दगी क्या है।"
"और तुमने जवाब पा लिया।"
"हां" उसने जवाब दिया। "मेरे ख्याल से यह कहना सबसे ज़्यादा सही है कि ज़िन्दगी एक पुल के समान है।"
"ये बहुत अच्छी बात कही है तुमने।" उसके साथी ने कहा। "मगर क्या तुम थोड़ा और खुल कर बताओगे। क्या तुम मुझे बताओगे कि ज़िन्दगी एक पुल के समान क्यों है।"
"ओह" दार्शनिक ने कुछ देर सोचने के बाद जवाब दिया "शायद तुम सही हो। शायद ज़िन्दगी पुल के समान नहीं है।"

.
.
.
.
.
.
.


अपनी शादी के दिन के एक रात पहले एक जोड़ा कार दुर्घटना में मारा गया। स्वर्ग में पहुंचने पर उन्होंने चित्रगुप्त से पूछा कि क्या वे अभी भी शादी कर सकते हैं। तब खुद भगवान ने उन्हें मिलने को बुलाया।
भगवान ने कहा "मैं तुम्हारी इच्छा पूरी होने का वर देता हूं। मगर अभी नहीं। हो सकता है इसमें कुछ दिन या कुछ साल भी लग जायें लेकिन तुम लोग शादी कर सकोगे।"
पांच साल आये और चले गये और फिर उन्हें आखिरकार उन्हें शादी के लिए बुला लिया गया। कुछ ही दिनों बाद वे फिर भगवान के पास पहुंचे यह जानने के लिए कि क्या वे तलाक ले सकते हैं। वे पूरी तरह से निश्चित थे कि उनकी शादी ज़्यादा दिन तक नहीं चल सकेगी।
भगवान ने कहा "मुझे पांच साल लग गये एक पुजारी को स्वर्ग में लाने के लिए। क्या तुम्हें अनुमान भी है कि एक वकील को यहां लाने में कितने साल लग जाएंगे।"

.
.
.
.
.
.
.


सिग्नल पर खड़ी रॉल्स रॉयस के पास एक एंबेसेडर आकर रूकी। एंबेसेडर का ड्राइवर खिड़की से झांक कर रॉल्स के ड्राइवर की ओर चिल्लाया। "हाय। अरे यार तुम्हारी कार तो बड़ी शानदार है। क्या तुम्हारी रॉल्स में फोन है। मेरी एंबेसेडर में तो है।"
रॉल्स रॉयस के ड़ाइवर ने उसकी तरफ देखा और कहा "हां इसमें फोन लगा है।"
एंबेसेडर के ड्राइवर ने फिर कहा "बहुत बढ़िया। क्या इसमें फ्रिज भी है। मेरी एंबेसेडर की पिछली सीट में एक फ्रिज भी है।"
रॉल्स के ड्राइवर ने थोड़ा झ्ल्लाकर कहा "हां मेरे पास फ्रिज भी है।"
एक बार फिर एंबेसेडर के ड्राइवर ने पूछा "शानदार। अच्छा क्या इसमें टी वी भी लगा है। तुम्हें पता है मेरी कार में टी वी भी लगा है।"
अब रॉल्स के ड्राइवर ने थोड़े गुस्से में आते हुए कहा "बेशक इसमें टी वी भी है। रॉल्स रॉयस दुनिया की सबसे बेहतरीन और आरामदेह कार है।"
एंबेसेडर के ड्राइवर ने कहा "बहुत ही बढ़िया यार। अच्छा तुम्हारी कार में बिस्तर है या नहीं। मेरी एंबेसेडर के पिछले हिस्से में एक बिस्तर भी लगा है।"
इस बात पर झल्लाकर कि उसकी कार में बिस्तर नहीं है रॉल्स रॉयस का ड्राइवर तेजी से वहां से चला गया। और सीधा डीलर के पास पहुंचा। वहां उसने बाकायदा हुक्म दिया कि उसकी कार में एक बिस्तर होना चाहिए। अगली सुबह ड्राइवर ने अपनी कार ली। नया बिस्तर बड़ा ही शानदार था।
अब ड्राइवर ने उस एंबेसेडर की खोज शुरू की। वो पूरे दिन घूमता रहा। आखिरकार देर रात उसने उस एंबेसेडर कार को एक जगह खड़ा पा ही लिया जिसके अन्दर मानों भाप सी जमी थी। रॉल्स रॉयस का ड्राइवर बाहर निकला और एंबेसेडर पर दस्तक दी। कोई जवाब न आने पर उसने बार बार खटखटाया और अंतत: एंबेसेडर के मालिक ने अपना सिर बाहर निकाला जो पूरी तरह भीगा हुआ था।
"मेरी कार में अब बिस्तर भी है।" रॉल्स रॉयस के ड्राइवर ने गुस्से से कहा।
एंबेसेडर के ड्राइवर ने उसकी ओर देखा और बोला "ये बताने के लिए तुमने मुझे 'शॉवर' से बाहर बुला लिया।"

.
.
.
.
.
.


एक कंपनी के बॉस को अचानक किसी ज़रूरी काम से अपने एक अधीनस्थ कर्मचारी की आवश्यकता पड़ी। उसने कर्मचारी के घर फोन लगाया तो उसे एक बच्चे की फुसफुसाती आवाज़ में जवाब मिला "हैलो"।
बॉस ने पूछा "क्या तुम्हारे पापा घर पर हैं।"
"हां" महीन आवाज़ ने फुसफुसाकर कहा।
"क्या मैं उनसे बात कर सकता हूं।" बॉस ने पूछा।
बॉस को बड़ा आश्चर्य हुआ जब बच्चे ने कहा "नहीं।"
किसी वयस्क व्यक्ति से बात करने की सोचकर उसने फिर पूछा "क्या तुम्हारी मम्मी घर पर हैं।"
"हां" जवाब मिला।
"क्या मैं उनसे बात कर सकता हूं।"
फिर से जवाब मिला "नहीं"।
यह सोचकर कि इतने छोटे बच्चे को अकेले घर पर नहीं छोड़ा गया होगा उस व्यक्ति को जो उसकी देखभाल कर रहा होगा को संदेश देने की सोचकर बॉस ने फिर से पूछा "क्या तुम्हारे घर में कोई और भी है।"
"हां" बच्चा फुसफुसाया "एक पुलिस"।
इस बात पर चकित होते हुए कि पुलिस वाला वहां क्या कर रहा है बॉस ने पूछा "क्या मैं उस पुलिस से बात कर सकता हूं।"
"नहीं वह व्यस्त है।" बच्चा फिर फुसफुसाकर बोला।
"किस काम में व्यस्त है।" बॉस ने पूछा।
"मम्मी पापा और फायरमैन से बात करने में।" धीमी सी आवाज़ आयी।
चिंतित बॉस की चिन्ता और बढ़ गयी जब उसने फोन पर हैलीकॉप्टर जैसी आवाज़ सुनी और उसने पूछा "ये आवाज़ कैसी है।"
"हैली कापर" फिर से धीमा जवाब मिला।
"वहां हो क्या रहा है।" अब बॉस काफी चिंतित सा हो गया।
बच्चे ने जवाब दिया " हैली कापर से कुछ खोजने वाले लोग उतरे हैं।"
बॉस ने पूछा "वो वहां क्यों आये हैं।"
अभी भी फुसफुसाते हुए बच्चे ने किलकते हुए कहा "वो मुझे ढूंढ़ रहे हैं।"





.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक महिला दुकान में टी वी खरीदने गयी। सेल्समैन ने एक खास टी वी सेट की तारीफ की और उसके साथ के रिमोट कंट्रोल से मिलने वाले आराम के बारे में बताया। ये साधारण सेट के मुकाबले थोड़ा अधिक महंगा ज़रूर था मगर आराम कुर्सी पर बैठकर ढेर सारे चैनलों को आराम से बदलकर देखा जा सकता था।
'सुनो बेटा', महिला ने कहा ,'मुझे रिमोट कंट्रोल की ज़रूरत नहीं है। अपने छ: बच्चों के होते टी वी कंट्रोल करने की मेरी संभावनाएं बहुत दूर की बात है। इसलिए मैं साधारण टी वी ही लूंगी।'

.
.
.
.
.
.
.

"विश्व के प्रमुख सिद्धांत "

सामन्तवाद : आपके पास दो गायें हैं। आपका मालिक कुछ दूध ले लेता है।
शुद्ध समाजवाद : आपके पास दो गायें हैं। सरकार उन्हें आप से ले कर दूसरी गायों के साथ गौशाले में बन्द कर देती है। आपको सभी गायों का ध्यान रखना पड़ता है। सरकार आपको एक गिलास दूध देती है।
नौकरशाही समाजवाद : आपकी गायें पूर्व मुर्ग़ीपाालक के द्वारा संभाली जाती हैं। आपको उन मुर्गियों की देखभाल करनी पड़ती है जो सरकार ने मुर्गीपालक से लीं थीं। सरकार आपको उतने अण्डे और दूध देती है जो नियमों के हिसाब से आपको चाहिए।
फासीवाद : आपके पास दो गायें हैं। सरकार दोनों ले लेती है और आपको उनकी देखभाल के लिए नियुक्त करती है और आपको दूध बेचती है।
शुद्ध साम्यवाद ( कम्युनिज़्म ) : आप अपनी गायें अपने पड़ोसी के साथ साझे में रखते हैं। आप और आपका पड़ोसी इस बात पर बहस करते हैं कि कौन सबसे अधिक 'योग्य' है और कौन सबसे अधिक 'जरूरतमन्द'। इस दौरान कोई काम नहीं करता और न ही दूध पाता है और गायें भूख से मर जाती हैं।
रूसी साम्यवाद : आपके पास दो गायें हैं। आप दोनों की देखभाल करते हैं मगर सरकार पूरा दूध ले लेती है। आप वापस जितना हो सके उतना दूध चुरा लेते हैं और उसे 'ब्लैक मार्केट' में बेच देते हैं।
तानाशाही : आपके पास दो गायें हैं। सरकार उन दोनों को लेकर आप पर टैक्स लगाती है।
शुद्ध प्रजातंत्र : आपके पास दो गायें हैं। आपका पड़ोसी यह तय करता है कि दूध किसे मिलेगा।
प्रतिनिधिवादी प्रजातंत्र : आपके पास दो गायें हैं। आपका पड़ोसी किसी को चुनता है यह बताने के लिए कि दूध कौन लेगा।
नौकरशाही : आपके पास दो गायें हैं। पहले तो सरकार यह नियंत्रित करती है कि आपको कब गाय को चारा देना है और कब उसे दुहना है। फिर उसे न दुहने के लिए आपको पैसे देती है। फिर दोनों आपसे लेकर एक को मार देती है और दूसरे का दूध निकालकर दूध नाली में बहा देती है। फिर आपको खोयी गाय के लिए फार्म भरने को कहा जाता है।
पूंजीवाद : आपके पास गाय नहीं है। बैंक आपको उधार नहीं देता क्योंकि बंधक रखने के लिए आपके पास कोई गाय नहीं है।
पूर्ण अराजकता : आपके पास दो गायें हैं। या तो आप दूध सही कीमत पर बेचते हैं या आपके पड़ोसी आपको मारकर गाय लेने की कोशिश करते हैं।

.
.
.
.
.
.
.
.
.

नये क्लर्क के कामों में जज के लिए दिन की शुरूआत में गर्म काफी का एक कप लाना भी शामिल था।
हर सुबह जज नाराज़ हो जाता था कि उसका कप केवल दो तिहाई भरा होता था। क्लर्क ने समझाया कि कॉफी ठण्डी न हो जाये इसलिए उसे जल्दी जल्दी आना पड़ता है और इस दौरान कुछ कॉफी बाहर छलक जाती है।
जज की किसी चीख पुकार और डांट ने इतना असर नहीं दिखाया कि उसे काफी का कप भरा हुआ मिल जाये। आखिरकार उसने क्लर्क को धमकाया कि अगर ये सिलसिला ज़ारी रहा तो वो उसकी तनख्वाह भी एक तिहाई काट लेगा।
अगली सुबह उसका अभिवादन कॉफी के लबालब भरे हुए कप से हुआ। उसकी अगली सुबह भी और उसकी भी अगली सुबह।
जज अपनी सफलता को छुपा नहीं पाया और मुस्कुराते हुए क्लर्क की नयी 'टेक्निक' की तारीफ की।
"ओह उसमें ऐसी कोई खास बात नहीं है।" क्लर्क ने खुश हो कर कहा ,"मैं कॉफी रूम के बाहर आते ही मुंह में कॉफी भर लेता हूं और आपके ऑफिस के 
.
.
.
.
.
.
.

जैसा कि कभी कभी टैक्सी ड्राइवर करते हैं अपना टैक्सी ड्राइवर भारी ट्रैफिक में लापरवाही से गाड़ी इधर उधर निकाल रहा था। कुछ खतरनाक हादसों से बाल बाल बचने पर उसकी सवारी आगे झुकी और बोली "कृपा करके क्या तुम थोड़ी सावधानी से चलोगे। घर पर मेरे छ: बच्चे हैं।"
"मैडम" ड्राइवर बड़बड़ाया "आपके छ: बच्चे हैं और फिर भी आप इतना हौसला रखती हैं कि मुझे सावधान रहने को कहें ! "

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

शिकागो के प्रागैतिहासिक संग्रहालय में कुछ पर्यटक डायनासौर के हड्‌िडयों के ढांचे पर आश्चर्य कर रहे थे। उनमें से एक ने गार्ड से पूछा "क्या आप बता सकते हैं कि ये डायनासौर की हड्‌िडयां कितनी पुरानी होंगी ?"
गार्ड ने जवाब दिया " ये 30 लाख चार साल और छ: माह पुरानी हैं।"
"यह तो कमाल है। आप को इतनी सही उम्र कैसे मालूम है ?" पर्यटक ने पूछा।
गार्ड ने जवाब दिया " ऐसा है कि जब मैं यहां काम करना शुरू किया था तब ये 30 लाख साल पुरानी थीं और यह चार साल छ: माह पहले की बात है।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
एक दस वर्षीय लड़का गणित में कमज़ोर होते जा रहा था। उसके माता पिता ने हरसंभव कोशिश की , निजी ट्‌यूटरों से लेकर सम्मोहन तक। मगर कोई फायदानहीं हुआ। आखिरकार अपने एक मित्र की सलाह पर उन्होंने उसे एक निजी कैथोलिक विद्‌यालय में भर्ती करने का निर्णय कर लिया।
पहले दिन के स्कूल के बाद उसके मां बाप उसके चेहरे के निश्चित लगन और लक्ष्य को पा लेने वाल्ो भाव देखकर दंग से रह गये। वो सीधा अपने कमरे में गया और दरवाज़ा बंद करके करीब दो घण्टे तक अपनी गणित की किताबें से जूझता रहा। खाने के लिए वह कमरे से बाहर निकला और खाने के तुरन्त बाद वापस अपने कमरे में जाकर पढ़ाई में जुट गया। यह सिलसिला ज़ारी रहा जब तक कि तिमाही परीक्षा का परीक्षाफल का कार्ड नहीं आ गया।
लड़के ने अपने बिना खुले रिपोर्ट कार्ड मेज़ पर रखा और सीधा अपने कमरे में चला गया। उसकी मां ने सावधानी से उसे खोला और चौंका देने के लिए गणित के सामने लाल रंग में 'अ' लिखा था। बेहद खुश होकर उसके मां बाप उसके कमरे की ओर तेज़ी से बढ़े।
"क्या यह शिक्षिका है जिसके कारण ऐसा हुआ ?" पिता ने पूछा।
लड़के ने केवल सिर हिलाया "नहीं"।
"क्या यह एक एक लड़के के ऊपर खास ध्यान देने के कारण हुआ ?"
"नहीं"।
"किताबें ? माहौल ?"
"ना" लड़के ने जवाब दिया। "पहले दिन जब मैं सामने के दरवाज़े से घुसा तो मैंने देखा कि उस आदमी को धन चिह्‌न (+) पर कीलों से ठोंक दिया गया है। मैं समझ गया कि वो कितने कड़े हैं उस मामले में।"


.
.
.
.
.
.
.
.
.
"प्रिये" पति ने अपनी पत्नी से कहा "मैंने अपने एक दोस्त को खाने पर बुलाया है।"
"क्या। तुम पागल हो क्या। पूरा घर गन्दा पड़ा है। मैं बाज़ार नहीं गयी हूं। बर्तन धुले नहीं हैं और मेरा कोई खास पकाने का बिलकुल मूड नहीं है।
"मुझे ये सब पता है।"
"फिर तुम ने अपने दोस्त को खाने पर क्यों बुलाया ?"
"क्योंकि वो बेवकूफ शादी करने की सोच रहा है।"

.
.
.
.
.
.
.
.

स्थानीय शराबखाने में ये संवाद सुने गये :
"अरे सैम। काश कि तुम मेरे पास यहां होते ! "
"लेकिन टॉम मैं यहीं हूं। देखो मैं तुम्हारे सामने बैठा हूं।"
"नहीं तुम नहीं हो।"
"हां मैं यहीं हूं।"
"मैं सिद्ध कर सकता हूं कि तुम नहीं हो। 50 रू . की शर्त रही।"
"ठीक है करो।"
"तुम न्यु यार्क में नहीं हो। क्या तुम वहां हो ?"
"ये सही है।"
"और तुम मॉन्ट्रियल में भी नहीं हो।"
"ठीक है।"
"और तुम पक्की तौर पर पेरिस में नहीं हो।"
"नहीं"।
"अगर तुम न्यु यार्क में नहीं हो मॉन्ट्रियल में नहीं हो और न ही पेरिस में हो तो तुम्हें कहीं और होना चाहिए ?"
"ये समझदारी की बात लगती है।"
"अच्छा अगर तुम कहीं और हो तो तुम यहां नहीं हो सकते। तो पैसे निकाले। मुझे 50 रू . दो।"
"नहीं दे सकता "
"क्यों ?"
"मैं यहां हूं ही नहीं।"

 .
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक औरत जो अपना वज़न कम करना चाहती थी ने अपने फ्रिज में एक दुबली पतली सुन्दर मॉडल का चित्र लगा दिया जो उसे उसके लक्ष्य की याद दिलाता था। तरकीब काम कर गयी और उसने पाया कि एक माह में उसका वज़न 5 किलो कम हो गया है।
इसके विपरीत यह हुआ कि उसका पति वो तस्वीर देखने के लिए बार बार फ्रिज तक जाया करता था और उसका वजन 8 किलो बढ़ गया।

.
.
.
.
.
.
.

बन्ता सिंह एक फैशन की दुकान में गया और वहां उसने एक एक्सरे चश्मा पाया। उसने उसे लगा कर देखा मगर वो पूरी तरह संतुष्ट नहीं हुआ मगर फिर सेल्समैन ने मोलभाव करके उसे बेच दिया।
वापस घर जाते समय रास्ते में बन्ता ने वो चश्मा पहन लिया और कमाल हो गया। उसे सड़क पर सारे लोग बिलकुल नंगे दिखने लगे। उसने एक पल के लिए चश्मा उतारा और सभी लोग कपड़े पहने हुए थे। वापस पहना और सारे लोग बिना कपड़ों में। "वाह" बन्ता ने सोचा।
जब वह घर पहुंचा तो वह अपनी बीवी को यह नयी चीज़ दिखाने के लिए उतावला हो उठा मगर वो कहीं दिखी नहीं। वो बेडरूम में गया और पाया कि उसकी बीवी और सन्ता सिंह बिस्तर पर हैं बिना कपड़ों में।
उसने अपना चश्मा उतारा और फिर भी वो दोनों बिना कपड़ों में थे। फिर से चश्मा पहना लेकिन अब भी वो बिना कपड़ों में थे।
बन्ता बहुत गुस्से में आ गया और चिल्लाया ,"साला। मैंने इस चश्मे के लिए 3000 रू . खर्च किए और ये पहले से ही खराब हैं।"

.
.
.
.
.
.
.
.

मरीज़ : इस दांत को निकालने के कितने पैसे लगेंगे ?
डॉक्टर : 200 रू .।
मरीज़ : ज़रा सी देर के काम के लिए 200 रू .!
डॉक्टर : अगर आप चाहें तो मैं धीरे धीरे निकाल सकता हूं।

.
.
.
.
.
.
.
.

एक बार तीन बेवकूफ बातें कर रहे थे। एक ने कहा अगर समुद्र सूख जाये तो मछलियों का क्या होगा। दूसरे बेवकूफ ने कहा कि वो पेड़ों पर चढ़ जाएंगी। इस पर तीसरा गुस्से से बोला चुप रहो , वो गाय नहीं हैं कि पेड़ों पर चढ़ जाएंगी।

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक पति उन लोगों से बहुत चिढ़ता था जो उसके हिसाब से बहुत बोलते थे। हाल ही में उसने गर्व से अपनी पत्नी से कहा कि उसने सुना है कि पुरूष एक दिन में 2200 शब्द इस्तेमाल करते हैं जबकि औरतें 4400।
पत्नी ने एक पल सोचा आर बोली ,"ऐसा इसलिए है क्योंकि औरतों को अपनी हर बात दुहरानी पड़ती है जो वे अपने पति से कहती हैं।"
यह सुनकर भौंचक्के से पति के मुंह से निकला ,"क्या कहा फिर से कहना।"

.
.
.
.
.
.
.
.

एक लॉण्ड्री दुकान पर बोर्ड टंगा था जिस पर लिखा था "हम आपके कपड़े मशीनों से नहीं फाड़ते। हम ये हाथ से करते हैं।"

बॉस ने अपने ऑफिस में काम कर रहे क्लर्क से पूछा "तुमने पिछले साल की पूरी छुट्टियां क्यों नहीं लीं ?"
"वो इसलिए , सर" क्लर्क ने जवाब दिया "क्योंकि मैं आराम करना चाहता था।"

भारत का सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया कौन सा है ?
'दिल्ली'
क्यों ?
क्योंकि मुश्किल से आथा कि . मी . कोई चलता है कि फिर से एक रेड लाइट आ जाती है।






.
.
.
.
.
.
.
.

एक आदमी एक दुकान में गया और उसने पत्तागोभी के आधे हिस्से की मांग की। उस विभाग के लड़के ने कहा कि वो केवल पूरी गोभी बेचते हैं आधी नहीं। लेकिन वो आदमी अपनी बात पर अड़े रहा कि उसे पूरी की ज़रूरत नहीं है और उसे केवल आधा हिस्सा ही चाहिए। लड़के ने कहा कि वो अपने मेनेजर से पूछ कर बताएगा। लड़का पीछे के कमरे में गया और मैनेजर से कहा "वहां एक बेवकूफ आदमी आया है जो गोभी का केवल आधा हिस्सा चाहता है।" जैसे ही उसने यह कहकर खत्म किया कि उसने पाया कि वही आदमी ठीक उसके पीछे खड़ा हुआ है। तब उसने तुरन्त जोड़ा "और ये सज्जन बाकी का आधा हिस्सा खरीदना चाहते हैं।"

.
.
.
.
.
.
.

पति पत्नी शानदार बोट में छुट्टियों का आनन्द उठा रहे थे और पति बोट की स्टेयरिंग संभाले हुआ था। वह यह सोचकर चिंतत था कि किसी दुर्घटना की स्थिति में क्या होगा। इसलिए एक दिन झील के बीच में उसने अपनी पत्नी से कहा "प्रिये ये पहिया संभाले। ये सोच लो कि मुझे दिल का दौरा पड़ा है। अब तुम्हें यह बोट किनारे तक सुरक्षित ले जानी है"। तब पत्नी बोट को किनारे तक ले कर आयी।
बाद में उस रात को पत्नी ड्राइंगरूम में आयीजहां उसका पति टी वी देख रहा था। उसके बगल में बैठकर उसने टी वी का चैनल बदला और पति से बोली "प्रिय ज़रा रसोई में जाओ। सोचो कि मुझे दिल का दौरा पड़ा है। तुम्हें खाना पकाना है . टेबल लगानी है और बर्तन धोने हैं।"

.
.
.
.
.
.
.

एक बार एक आदमी ने महसूस किया कि उसने कई सारे पाप किये हैं और इसलिए उसे चर्च जाकर अपने पाप स्वीकारने चाहिए।
वह चर्च पहुंचा और पादरी से बोला "फादर मैंने पाप किये हैं।"
"ठीक है बेटे। मुझे बताओ और भगवान तुम्हारे पाप माफ कर देगा।"
"फादर मेरा अपनी प्रमिका से 3 साल से सम्बन्ध है और केई गंभीर बात नहीं घटी। कल मैं उसके घर गया और पाया कि घर में उसकी बहन के अलावा और कोई नहीं है। हम अकेले थे और मैं उसके साथ हमबिस्तर हो गया।"
"यह बुरी बात है मेरे बेटे। अच्छा हुआ कि तुम्हें अपनी ग़लती का एहसास हुआ।"
"फादर पिछले हफ्ते मैं उससे मिलने के लिए उसके ऑफिस गय और वहां पर भी कोई नहीं था सिवाय उसकी एक सहेलै के। और मैं उसके साथ भी हमबिस्तर हो गया।"
"ये तुमने अच्छा नहीं किया।"
"फादर पिछले माह मैं उसे देखने उसके अंकल के घर गया । वहां उसकी आंटी के अलावा कोई नहीं था और मैं उसके साथ भी सोया।"
"फादर फादर . . . . . ." अचानक उस आदमी ने महसूस किया कि पादरी की तरफ से कोई जवाब नहीं आया। वो आगे गया और देखा कि पाादरी वहां नहीं है। तब उसने ढूंढ़ना शुरू किया "फादर फादर . . "। उसने इधर उधर ढूंढ़ा और आखिरकार उसने पादरी को पियानो के पीछे वाली मेज़ के पीछे छिपा पाया।
"फादर आप यहां क्यों छिपे बैठे हैं।"
"माफ करना बेटे लेकिन आचानक मुझे याद आया कि यहां पर भी आसपास कोई नहीं है मुझे छोड़कर।"

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

"उह ओह" एक नवयुवक ने एक पत्र पढ़ते समय कहा।
पास बैठे उसके मित्र ने पूछा "कोई बुरी खबर"।
"हां ऐसा ही कुछ है।" नवयुवक ने जवाब दिया। "किसी ने लिखा है कि अगर मैं उसकी बीवी से दूर नहीं रहूंगा तो वो मुझे मार डालेगा।"
"ऐसी स्थिति में अगर तुम्हारी जगह मैं होता तो उसकी बीवी से दूर ही रहता।"
"खुशी से। मगर किससे। इस पत्र में नाम तो लिखा ही नहीं है।"

.
.
.
.
.
.
.
.


एक छोटे शहर में एक पुलिस ऑफिसर ने एक युवक को रोका जो तेज़ी से गाड़ी ले जा रहा था।
"लेकिन ऑफिसर" उसने कहना शुरू किया। "मैं समझाता हूं।"
"चुप रहो।" ऑफिसर ने डांटा। "मैं तुम्हें पुलिस स्टेशन ले जा रहा हूं जब तक कि चीफ वापस न आजायें।"
"लेकिन ऑफिसर मैं कुछ कहना चाहता हूं।"
"और मैंने कहा न कि चुप रहो। तुम जेल जा रहे हो।"
कुछ घण्टों को बाद ऑफिसर ने कैदी को देखा और कहा "तुम भाग्यशाली हो क्योंकि आज चीफ की लड़की की शादी है और जब वो वापस आयेंगे तो अच्छे मूड में होंगे।"
"ये बिलकुल मत सोचो। युवक ने जवाब दिया। "दूल्हा मैं हूं।"


.
.
.
.
.
.
.
.
.

एक दिन दादी ने अपने पोते छोटू से कहा कि वो खाना बनाने के लिए नीचे बावड़ी से पाान्ी भर कर ले आये। जब वह बाल्टी पानी में डुबा रहा था तो उसने दो बड़ी बड़ी आंखों को देखा जो उसे ही घूर रही थीं। उसने बाल्टी वहीं छोड़ी और वापस दादी के पास रसोईघर में पहुंचा।
"पानी कहां है और मेरी बाल्टी कहां है" दादी ने पूछा।
"मैम् उस बावड़ी से कोई पानी नहीं ला सकता" छोटू ने कहा। "वहां एक एक बड़ा मगर मेरा इंतजा.र कर रहा है।"
"तुम उस बूढ़े मगर पर कोई ध्यान मत दो छोटू। वो वहां कई साल से है और आज तक उसने किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया है। और शायद वो भी तुमसे उतना ही डरा हेगा जितना कि तुम उससे।"
"दादी जी" छोटू ने जवाब दिया "अगर वो उतना ही डरा हुआ जितना कि मैं तो वो पानी पीने लायक नहीं है।"

 .
.
.
.
.
.
.

एक आदमी ने अपने दरवाज़े पर एक दस्तक सुनी। उसने खोलकर देखा और वहां कोई नहीं था। उसने इधर उधर देखा और आखिरकार पाया कि एक छोटा सा घोंघा दरवाज़े पर बैठा था।
उसने उसे उठाया और सड़क के पार दूर फेंक दिया।

एक साल बाद उसने अपने दरवाजे. पर एक दस्तक सुनी। उसने खोलकर देखा और वहां कोई नहीं था। उसने इधर उधर देखा और आखिरकार पाया कि एक छोटा सा घोंघा दरवाज़े पर बैठा था।
घोंघे ने कहा "वो क्या बेवकूफी थी हां।"

.
.
.
.
.
.
.
.

एक आदमी रोज़ रात में बिस्तर पर जाने से पहले व्हिस्की पिया करता था। कई साल बाद उसकी बीवी ने उससे ये आदत छुड़ाने की कोशिश की। उसने दो गिलास लिए। एक गिलास में उसने पाानी भरा और एक में व्हिस्की। उसने अपने पति के मेज़ के पास बुलाया।
वो बोली "मैं चाहती हूं कि तुम इसे देखो।" उसने एक कीड़ा पानी में डाला और वो तैरते रहा। फिर उसने एक कीड़ा व्हिस्की में डाला और वो कीड़ा मर गया।
पत्नी ने पूछा "तो इस प्रयोग के बारे में तुम क्या कहना चाहेगे।"
शांति से पति ने जवाब दिया "अगर मैं व्हिस्की पियूंगा मेरे पेट में कीड़े नहीं होंगे।"


.
.
.
.
.
.
.

ये वक्त नहीं है रोने का ये वक्त है बच्चा होने का
उस दिन क्यों नहीं रोयी थी जब चिपक चिपक कर सोयी थी।
चुटकुला #
सीताजी के गहने
एक चोर ने
मन्दिर से
सीताज्ी के गहने चुराये
उसने उन्हें
अपनी पत्नी को पहनाये
सीता जी के गहनों ने
अपना प्रभाव दिखलाया
पड़ोस के रावण ने
उसकी पत्नी को उठाया।
चुटकुला #
कबड्‌डी चैम्पियन
नवविवाहिता नवेली ने
पड़ोसन से
मन की व्यथा बतायी
सखी
मैं एक कबड्‌डी चैम्पियन से
शादी कर के पछतायी
वे हू हू कर के
मेरे पास आते हैं
मुझे छूकर
भाग जाते हैं।
~~~~ ~~~~~~~~
खोया

हलवाई ने कविता लिखी
तुम्हारे रूप की चाशनी में
मन को डुबोया है
माखन सा शरीर मलाई सा रंग है
मन "खोया खोया" है।
-->

No comments:

Post a Comment