Popads

Thursday, 9 May 2013

Hindi hasya poem..............मूर्ख! नेता को बिल्ली बता रहा है ...................51213

मैं नहीं बोल पाऊंगा
एक दिन मेरे बायोलोजी के शिक्षक ने
भरी कक्षा में एक प्रश्न उठाया
बच्चों बिल्ली के गुणों को समझाओ 
इसके गुणों की किसी अन्य जीव से
उदाहरण सहित समानता बताओ
छात्रों ने कई गुण बताये
समानता में शेर और चीते के नाम भी सुझाए
अवसर पाकर मैंने भी मुह खोला
बिल्ली के गुण बताये
लेकिन जैसे ही बिल्ली को नेता के समरूप बतलाया
मेरा शिक्षक चिल्लाया
मूर्ख! नेता को बिल्ली बता रहा है
मैंने कहा नाराजगी मत दिखाइए
उदाहरण  पर गौर फरमाइए
चोरों के तरह दूध पीती बिल्ली पर
जब नजर पड़ जाती है
 बिल्ली छुप जाती है
जब चारों तरफ से घिर जाती है
आक्रामक हो जाती है
बिल्ली की जूठन किसी के काम नहीं आती है
बिल्ली माल खाए तो खाए नहीं तो धुलकाये
ऐसे  ही नेता जब घोटाले  करता पकड़ा जाता है
छुप जाता है
जब सीबीआई की जांच में घिर जाता है
आक्रामक हो जाता है
माल जब नहीं पचा पाता है तो स्विस बैंक पहुँचाता है
ये मामला 
यान को अन्तरिक्ष पहुचाते राकेट सा नजर आता है
यान अंतरिक्ष में और माल स्विस बैंक में जाता है
रॉकेट की तरह नेता भी बापस लौट आता है
यान तो यदा कदा बापस भी आ जाता है
माल कभी नहीं आता है
बिल्ली की तरह नेता
माल पचा पाए तो पचाता 
नहीं तो लुढकाता है  
और इसका भी जूठा
किसी के काम नहीं आता है
मैंने कहा यदि सहमत हों तो
सहमती में सर हिलाइए
मेरी पीठ थपथपाइए
गुरूजी बोले निजात कैसे मिलेगी
ये भी तो बताईये
मैंने कहा निजात तब मिल पायेगी
जब......
जब...कब....?
पहेली मत बुझाओ
जबाब बताओ
मैं बोला मैं नहीं बोल पाऊंगा
मुह का ताला नहीं खोल पाऊँगा
क्योंकि बीरता के प्रतीक स्वरुप किसी को
शेर बता दो तो सीना फुलाता है
बफादारी के प्रतीक स्वरुप
कुत्ता कह दो तो गुर्राता है
मगर हकीकत में कुत्ते सी बफादारी  का जज्वा ही
बिल्ली सी शैतानियत को कब्जे में लाएगा
इन बिल्ली नेताओं से देश
तब तक नहीं बच पायेगा
जब तक पूरा हिन्दुस्तान 
 ----- नहीं हो जाएगा

डॉ आशुतोष मिश्र
आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी
बभनान, गोंडा, उत्तरप्रदेश
मोबाइल न० ९८३९१६७८९०१
-->

No comments:

Post a Comment