Tuesday, 21 May 2013

Chtkule once more..........................50............चुटकुले......................56913

रमेश (अपनी सास से)- आपने तो कहा था कि आपकी लड़की शाकाहारी
है।
सास (रमेश से)- पक्की शाकाहारी है बेटा।
रमेश (सास से) - घर पर तो दो-दो घंटे तक मेरा दिमाग खाती रहती है,
फिर शाकाहारी कैसे हुई?
.
.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- पता नहीं, क्यों आजकल रात में मुझे बड़े मीठे-मीठे सपने
आ रहे है?
पत्नी (पति से)- खबरदार जो अब तुमने कभी मीठे सपने देखे। तभी मैं
कहूं कि तुम्हारी डॉयबिटीज बार-बार क्यों बढ़ जाती है।


.
.
.
.
.
.

पति (पत्नी से)- ‘आज तुम्हें मेरा बांसुरी बजाना बुरा लगता है लेकिन एक
दिन मेरे बांसुरी बजाने पर रीझ कर तुमने मुझसे शादी की थी।'
पत्नी गुस्से से, ‘हां की थी लेकिन बांसुरी बजाने पर रीझकर नहीं बल्कि
यह सोचकर की थी कि जिस तरह तुम बांसुरी में फूंक मारते हो उसी तरह
चूल्हा भी अच्छी तरह फूंकोगे।'


.
.
.
.
.
.

मुकेश (राजेश से)- ‘तुम्हें बंदूक अधिक सावधानी से चलानी चाहिए।
तुम्हारी गोली मेरी पत्नी को लगते-लगते बची।'
राजेश (मुकेश से)- ‘मुझे माफ कर दो भाई।' ये लो मेरी बंदूक आप मेरी
पत्नी पर एक नहीं, दो-दो गोलियां चला दो।

.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- डॉक्टर ने कहा है कि तुम्हें कोई बीमारी नहीं है। फिर तुम
इतनी दुखी क्यों लग रही हो?
पत्नी (पति से)- इसलिए कि फीस के 150 रुपये यूं ही बेकार चले गए।


.
.
.
.
.
.

अपने कमरे में पहुंचकर पत्नी ने देखा कि उसका पति बड़ी तेजी से कुछ
ढूंढ रहा है। उसने कमरे की हर चीज को उलट-पुलट कर रख दिया है।
पत्नी (पति से) ‘क्या ढूंढ रहे है, आप?'
पति (पत्नी से)- ‘यहां कही न कही कैमरा छुपा हुआ है!'
पत्नी (पति से)- ‘आपको कैसे पता चला कि यहां कोई कैमरा छुपा हुआ
है!'
पति (पत्नी से)- टीवी पर आने वाला यह लड़का जानता है कि मैं क्या देख
रहा हूं। हर पंद्रह मिनट में वह कहता है कि आप देख रहे है स्टार टीवी
अब तुम्हीं बताओ बिना कैमरे के वह कैसे जान सकता है कि मैं क्या देख
रहा हूं?


.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से) - सुनो जी मैं मर जाऊंगी तो क्या तुम दूसरी शादी
करोगे?
‘विकट प्रश्न है।' पति विचलित स्वर में बोला, ‘इसका जवाब देना ठीक
नहीं होगा।'
पत्नी (पति से)- क्यों भला?
पति (पत्नी से)- क्योंकि मेरे ‘हां' करने पर तुम नाराज हो जाओगी और
‘न' करने पर ‘वह' नाराज हो जाएगी।'

.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- ‘यदि किसी दिन मैं भीड़ में गुम हो जाऊं तो आप क्या
करेगे?'
पति (पत्नी से) - ‘अखबार में विज्ञापन दूंगा।'
पत्नी (उत्सुकता से)- ‘अच्छा! क्या विज्ञापन देगे?'
पति (पत्नी से)- ‘यही कि जहां भी रहो, खुश रहो।'


.
.
.
.
.

क्लिनिक से लौटते हुए पत्नी ने पति से शिकायती लहजे में पूछा- डॉक्टर
के पूछने के बावजूद तुमने अपने सिरदर्द का कारण नहीं बताया क्यों?
पति (पत्नी से)- क्योंकि मैं डॉक्टर के सामने तुम्हें शर्र्मिंदा नहीं करना
चाहता था।


.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- आज हमारे क्लब में एक कंपटीशन है, जिसमें हर औरत
को अपने साथ एक-एक फालतू चीज लानी है।
पति (पत्नी से)- अच्छा, तो तुम क्या ले जा रही हो?
पत्नी (पति से)- अब तक तो मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा है। मैं सोच
रही थी कि अगर तुम ही मेरे साथ चलते तो अच्छा रहता।


.
.
.
.
.
.
.
एक नवविवाहित जोड़ा एक बार बस से मेरठ जा रहा था। बस में भीड़
बहुत थी। मियां बार-बार एक खूबसूरत लड़की से सटे जा रहे थे। बीवी को
उनकी हरकत बुरी लगी। थोड़ी देर बार लड़की तेजी से घूमी और मियां को
एक जोरदार चांटा मारते हुए बोली, ‘लो लड़कियो को चुटकी काटने का
मजा चखो।' मियां हक्के-बक्के रह गए। जब वे बस से उतरे तो बीवी से
बोले, ‘सुनो, उसे चुटकी मैंने नहीं काटी थी।'
‘हां, मैं जानती हूं क्योंकि वो चुटकी मैंने काटी थी।' बीवी मुस्कराते हुए
बोली।
.
.
.
.
.
.
.
नवविवाहित जोड़े ने शादी के बाद यह तय किया कि जब कभी उनके बीच
एक दूसरे को धोखा देने की नौबत आएगी तो वे बक्से में अपनी गोल्फ
की एक बॉल रख दिया करेगे। तीस साल बाद जब बक्सा खोला गया तो
उसमें तीन गोल्फ की बॉल और दस हजार रूपये मिले। पति ने पत्नी को वे
तीनों गोल्फ बॉल देते हुए कहा, ‘सॉरी, तीस साल में मुझे तीन बार तुम्हें
धोखा देना पड़ा।'
‘कोई बात नहीं, उम्मीद है तुम भी मुझे माफ कर दोगे।' पत्नी ने कहा।
‘लेकिन क्यों? तुम्हारी तो कोई भी बॉल यहां नहीं है।' पति ने पूछा।
‘नहीं बॉल तो मेरी भी थी लेकिन वे सब इस बक्से में नहीं आ रही थी
इसलिए मैंने उन्हें बेचकर ये रुपये रख दिये थे।' पत्नी बोली।


.
.
.
.
.
.

शर्मा जी के बचने की अब कोई संभावना नहीं थी। डॉक्टरो ने भी जवाब दे
दिया था। एक दिन शर्मा जी अपनी बीवी से बोले, ‘सुनो, तुम्हारे पास इस
वक्त जो सबसे अच्छी साड़ी और गहने हों, सब पहनकर आ जाओ।'
शर्मा जी की बात पर बीवी को गुस्सा आया बोली, ‘सजने संवरने का ये
कौन सा मौका है?'
शर्मा जी बोले, ‘तुम नहीं समझोगी भाग्यवान, मैं चाहता हूं कि मुझे लेने
जब यमराज आएं तो तुम इतनी खूबसूरत लगो कि यमराज मेरी जगह
तुम्हें ही ले जाएं।'


.
.
.
.
.
.

एक अभिनेता रोज शराब पीकर घर आता था। एक दिन जब वह शराब
पीकर घर आया तो उसकी पत्नी बिगड़ कर बोली- तुम फिर शराब पीकर
आ गए हो। मैंने कितनी बार कहा है कि शराब पीकर आए तो मैं खुदकुशी
कर लूंगी।
अभिनेता (पत्नी से)- तुम मुझे रोज-रोज यही धमकी देती हो लेकिन न तो
तुम अपना वादा पूरा करती हो और न मैं शराब छोड़ता हूं।


.
.
.
.
.
.

चिंता में डूबे पति को पत्नी ने सीख दी- स्वस्थ रहना चाहते हो तो
सोच-विचार और चिंता छोड़ो।
तुम क्या जानो, सोच-विचार के लिए बुद्धि की जरूरत होती है। पति ने
सफाई दी।
वही तो कह रही हूं! जो बुद्धिमान होगा, वह तुम्हारी तरह अपन स्वास्थ्य
चौपट क्यों करेगा? पत्नी झल्लाकर बोली।


.
.
.
.
.
.

पति (पत्नी से)- अगर मैं मर जाऊं तो तुम क्या करोगी?
पत्नी (पति से)- वही अगर मैं मर जाऊं तो जो आप करते।
इस पर पति आगबबूला होते हुए बोला- मुझे मालूम था कि तुम दोबारा
शादी किये बिना नहीं रहोगी।


.
.
.
.
.
.

अपनी शादी की पच्चीसवीं सालगिरह की पार्टी में एक गायक को बात-बात
पर हंसते देख उसके दोस्त ने उससे कहा, ‘यार, तुम जितने अच्छे गायक
हो, उतने ही अच्छे अभिनेता भी।'
गायक (दोस्त से)- ‘यह आपने कैसे जाना?'
दोस्त (गायक से)- ‘जो आदमी शादी की पच्चीसवीं सालगिरह पर भी हंस
सकता है उससे बढ़िया अभिनेता भला और कौन होगा।'


.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- आप कितना बदल गए है। कुछ साल पहले तो आप कहा
करते थे कि आप स्वर्ग में मेरे बिना रहने के बजाय नरक में मेरे साथ
रहना पसंद करेगे।
पति (पत्नी से)- हां दुर्भाग्य से मेरी वही इच्छा पूरी हो गई।


.
.
.
.
.
.
.

एक व्यक्ति घबराया हुआ पुलिस स्टेशन आया और थानेदार से बोला- मुझे
गिरफ्तार कर लीजिए, मैंने अपनी पत्नी के सिर पर लाठी मारी है।
थानेदार - तो क्या तुम्हारी पत्नी मर गई?
पति - जी नहीं मेरी पत्नी मरी नहीं बल्कि वही लाठी लिए मेरे पीछे आ
रही है।


.
.
.
.
.
.
.
सिपाही की पत्नी ने अपने पति के पर्स में से कुछ रुपये निकाले ही थे कि
सिपाही की नजर उस पर पड़ गयी। उसने आगे बढ़कर पत्नी की कलाई
पकड़ी और गुस्से से बोला- ‘मैं तुम्हें अरेस्ट कर सकता हूं।'
पत्नी ने उन रुपयो में एक पांच रुपये का नोट सिपाही के हाथ पर रखते
हुए कहा- ‘चलो भी, बात यही खत्म कर दो।'


.
.
.
.
.

चुनाव के टिकट के लिए एक सप्ताह से डेरा डाले नेता से उसकी पत्नी ने
कहा- ‘रेल में तो आप बिना टिकट ही सफर तय कर लेते है, क्या चुनाव
के लिए टिकट वाकई जरूरी है।.
.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से)- मैंने ऑफिस से कई बार फोन मिलाया, पर हर बार इंगेज
जा रहा था। फोन खराब है क्या?
पत्नी (पति से)- आश्चर्य की बात है, मैंने दिन भर में 30 फोन मिलाए और
कोई भी लाइन व्यस्त नहीं थी।


.
.
.
.
.
.
.
.

एक कंजूस ने अपनी पत्नी से कहा, ‘तुम कुछ पढ़ने जा रही हो?' पत्नी ने
जवाब दिया, ‘नहीं।'
कंजूस ने फिर पूछा, ‘कुछ सिलने-बुनने जा रही हो?' कंजूस की पत्नी ने
कहा, ‘अरे नहीं।'
कंजूस ने झुंझलाकर पूछा, ‘तो फिर बेवजह चश्मा पहन कर फिजूलखर्ची
क्यों कर रही हो।'


.
.
.
.
.
.
.
पति शराब पीकर रात को घर लौटा तो पत्नी भड़ककर बोली, ‘देखो, मैं कहे
देती हूं, अगर फिर तुम कभी शराब पीकर आए तो मैं फांसी लगाकर जान
दे दूंगी, समझे!'
पति लड़खड़ाते हुए स्वर में बोला, ‘बस, यही सब तो मेरी किस्मत में है-
वादे, वादे और सिर्फ वादे।'


.
.
.
.
.
.
.
.

पति (पत्नी से)- अरी भागवान, देखो कभी-कभार गुस्सा भी लाभदायक
होता है।
पत्नी (पति से)- अरे नहीं, ये कैसे हो सकता है?
पति (पत्नी से)- कल तुम गुस्से में थी और तुमने सारा गुस्सा मेरे कपड़ो
पर उतार दिया। देखो मेरे सारे कपड़े कितने साफ और उजले हो गये है।


.
.
.
.
.
.
.
.
किसी बात पर अनबन होने पर पति ने गुस्से में आकर अनपढ़ पत्नी को
एक तमाचा जड़ दिया।
पत्नी की आंखो में आंसू देखकर पति को उस पर दया आ गई। वह पत्नी
को प्यार से समझाते हुए बोला, ‘प्रिये! हाथ उसी पर उठता है जिसे हम
प्यार करते है।'
इतना सुनते ही दोगुने उत्साह के साथ पति को तमाचा मारते हुए पत्नी ने
कहा, ‘आप क्या समझते है, मेरा प्यार आपसे कम है।'
.

.
.
.
.
.
.
.
.

पति अपनी बीमार पत्नी के बिस्तर के पास बैठा उसे दिलासा दे रहा था।
एकाएक पत्नी ने पति का हाथ अपने हाथ में लेते हुए कहा, ‘प्रिय, मैं तुमसे
एक वादा चाहती हूं।'
‘कैसा वादा?' पति ने घबराकर पूछा!
पत्नी ने कहा, ‘यदि मैं मर जाऊं और तुम दूसरी शादी करो तो मेरे कपड़े
अपनी दूसरी पत्नी को मत पहनने देना।'
‘मैं वादा करता हूं कि ऐसा ही होगा। वैसे भी रेखा तुमसे दुबली है, उसे
तुम्हारे कपड़े आएंगे ही नहीं।'
पति ने विश्वास दिलाते हुए कहा।


.
.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- देखो जी, मेरी जीभ पर छाले निकल आए है।
पति (पत्नी से)- तुम कभी इसे आराम तो करने नहीं देती। आखिर यही
होना था।


.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- ‘मेरी तो किस्मत ही खराब थी जो मैंने तुमसे शादी की।
मुझे तो तुमसे अच्छे और ज्यादा अक्लमंद लड़के मिल रहे थे।'
पति (पत्नी से) ‘तुम ठीक कह रही हो वो सब मुझसे ज्यादा अक्लमंद होगे
तभी तो तुम्हारे चंगुल में नहीं फंसे।'


.
.
.
.
.
.
.

बच्चे से परेशान पत्नी (पति से)- जब देखो मुन्ना इधर-उधर भागता रहता
है। एक पल भी चैन से नहीं बैठता।
पति (पत्नी)- और खिलाओ फास्ट फूड....! मैं हमेशा मना करता हूं मगर
तुम मेरी बात मानो तब न।


.
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से)- सुनो! ऑफिस जाने से पहले पांच सौ रूपये देते जाना,
मुझे साड़ी खरीदनी है।
पति (पत्नी से)- तुम्हें रकम की नहीं अक्ल की जरूरत है।
पत्नी (पति से)- लेकिन तुमसे वह चीज मांगने से क्या फायदा जो तुम्हारे
पास है ही नहीं।
.
.
.
.
.
.
.
.
.
पति-पत्नी स्टेशन पहुंचे तो ट्रेन छूट चुकी थी और दूसरी ट्रेन देर से आने
वाली थी। पति ने अपनी पत्नी को गुस्से से कहा, ‘अगर तुमने
सजने-संवरने में इतनी देर न लगाई होती तो यह ट्रेन हमें मिल जाती।'
पत्नी ने तुनककर कहा, ‘ये क्यों नहीं कहते कि अगर तुमने जल्दी-जल्दी
की रट न लगाई होती, तो अगली ट्रेन के लिए हमें इतना इंतजार न
करना पड़ता।'


.
.
.
.
.
.
.

पीसीओ पर एक आदमी काफी देर से फोन पकड़े खड़ा था। उसे देखकर
दूसरे लोग खिसिया रहे थे। अचानक उनमें से एक व्यक्ति गुस्से से बोला,
‘क्यों भाई साहब आप इतनी देर से रिसीवर पकड़े खड़े है और एक भी
शब्द आपके मुंह से नहीं निकल रहा। अच्छा हो कि आप फोन छोड़ दे तो
मैं बात कर लूं।'
इस पर पहला आदमी बोला, ‘भाई साहब, आप समझते क्यों नहीं, मैं फोन
पर अपनी बीवी से बात कर रहा हूं।'


.
.
.
.
.
.

अफसर (उम्मीदवार से)- देखो, हमें ऐसा चौकीदार चाहिए जो सेहतमंद हो,
चुस्त, चालाक और चौकन्ना हो, जरूरत पड़ने पर धमकी भी दे सके ।
यदि तुम्हारे अंदर ये गुण है तभी तुम्हें ये नौकरी मिल सकती है।
उम्मीदवार (अफसर से)- साहब ये गुण मुझमें तो नहीं है, पर मेरी बीवी में
ये सभी गुण है। मैं अभी उसे बुलाता हूं।


.
.
.
.
.
.
.
एक आदमी की आदत थी कि जब भी कोई कार उसके पास से गुजरती तो
वह बिदक जाता। उसके दोस्त ने इसकी वजह पूछी तो उसने कहा, ‘दो
महीने पहले मैं अपनी बीवी के साथ सड़क पार कर रहा था, तभी कार से
आए दो-तीन आदमी मेरी बीवी को उठाकर ले गए। मैं इस ख्याल से
बिदक जाता हूं कि कही वे मेरी बीवी को वापस न ले आएं हो।'


.
.
.
.
.
.

मीना ने अपनी मां से पति की शिकायत की, ‘मैं तो इनकी आवारगी से
तंग आ गई हूं।'
‘क्यों, क्या हुआ? मां ने पूछा।'
‘क्या बताऊं, अभी कल ही मैंने इन्हे सिनेमाहॉल में एक लड़की के साथ
बैठे देखा था।' मीना ने कहा।
‘तो तुमने उसे रंगे हाथो क्यों नहीं पकड़ा।' मां ने फिर पूछा। मीना ने इस
पर एक गहरी सांस ली और अफसोस जताते हुए कहा, ‘कैसे पकड़ती मां,
मैं भी तो उस समय अपने दोस्त के साथ फिल्म देख रही थी।'


.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- क्यों जी, शादी से पहले तो तुम कहा करते थे कि मेरी
छोटी से छोटी इच्छा भी पूरी करोगे। अब क्या हुआ?
पति (पत्नी)- हां, जरूर कहा करता था। अब तक मैं यही जानने की
कोशिश कर रहा हूं कि तुम्हारी कौन सी इच्छा इतनी छोटी है कि मैं उसे
पूरा कर सकूं।


.
.
.
.
.
.
पति (पत्नी से) : आजकल रात में मुझे अजीब-अजीब से सपने दिखने लगे
है। कभी मैं तुम्हारे लिए हीरे जड़े जेवरो का सेट खरीदता हूं तो कभी
बेशकीमती साड़ियां।
पत्नी (पति से): इसका मतलब तुम केवल सपनो में ही ठीकठाक सोच पाते
हो।


.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- तुम्हें तो नरक में भी जगह नहीं मिलेगी।
पति (पत्नी से)- अच्छा है, वरना सब जगह तुम्हारे साथ रहते-रहते तो मैं
पागल ही हो जाता।
.
.
.
.
.
.
पत्नी (पति से) : जो आदमी चोरी करता है, वह कभी न कभी जरूर
पछताता है।
पति (पत्नी से): हां, ठीक कहती हो। शादी से पहले मैंने तुम्हारा दिल
चुराया था, इसलिए अब तक पछता रहा हूं।


.
.
.
.
.
.
.
नई-नवेली दुल्हन (अपने पति से)- यदि मैं रसोइए को हटाकर पूरे एक
महीने आपको अपने हाथो से खाना बनाकर खिलाऊं तो मुझे क्या मिलेगा?
पति - मेरे जीवन बीमा की पूरी रकम।
.
.
.
.
.
.
टी.वी.मेकैनिक (ट्रैफिक पुलिसमैंन से)- साहब आपका टी.वी. ठीक हो गया।
ट्रैफिक पुलिसमैंन (टी.वी.मेकैनिक से)-क्या ठीक किया है तुमने, टी.वी.पर
फोटो आती है तो आवाज नहीं आती, और आवाज आती है तो फोटो नहीं
आती।
मैंकेनिक (ट्रैफिक पुलिसमैंन से)- साहब, आपको देखकर वन-वे ट्रैफिक ही
चलेगा न।

.
.
.
.
.
.
मालिक (नौकर से)-तुम शराब पीते हो?
नौकर (मालिक से)-जी नहीं।
मालिक (नौकर से)-तुम सट्टा खेेलते हो?
नौकर (मालिक से)-जी नहीं।
मालिक (नौकर से)- और कोई खराब आदत।
नौकर (मालिक से)-जी बस झूठ बोलने की आदत है।


.
.
.
.
.
.

पहला दोस्त (दूसरे दोस्त से)- क्या तुम कोई ऐसा शब्द बता सकते हो,
जिसमें 1000 से भी ज्यादा लेटर हो?
दूसरे दोस्त (पहले दोस्त से)- अरे इसका जवाब तो बिल्कुल आसान है
‘पोस्ट ऑफिस‘।.
.
.
.
.
.
.

तीन व्यक्ति गप्पें मार रहे थे कि वह मरने के बाद किस तरह दफनाया
जाना पसंद करेगे।
पहला बोला- अगर मुझे अरस्तु के पड़ोस में दफनाया जाएगा, तो मुझे
ज्यादा अच्छा लगेगा।
दूसरा बोला- आइंस्टीन के पड़ोस में दफनाया जाना पसंद करूंगा।
तीसरा बोला - काश, मैं रेखा कीपड़ोस की कब्र में दफनाया जाऊं।
इस पर पहले ने सवाल किया- लेकिन रेखा तो अभी जिंदा है?
तीसरा बोला- तो मैं ही कौन सा मर गया हूं।


.
.
.
.
.
.
.
एक आदमी रेल के डिब्बे में एक बड़े से संदूक को ऊपर वाले बर्थ पर रखने
लगा तो नीचे बैठी महिला बोली- इसको किसी और जगह रखिए कही यह
मेरे सिर पर न आ गिरे।
आदमी ने जवाब दिया- चिंता न कीजिए, इसमें टूटने वाली कोई चीज नहीं
है।


.
.
.
.
.
.

मालकिन (रामू से)- रामू मैंने कहा था, पूजा के लिए धूप ले आना।
रामू (मालकिन से)- लाता कहां से मालकिन,आज तो दिनभर बादल छाए
रहे।


.
.
.
.
.
.
.
यात्री (ड्राइवर से)- क्यों भाई ड्राइवर साहब आप बस में कितने घंटे रहते
है?
ड्राइवर (यात्री से)- चौबीस घंटे।
यात्री (ड्राइवर से)- यह कैसे संभव है।
ड्राइवर (यात्री से)- आठ घंटे सरकारी बस में और सोलह घंटे अपनी बीवी
के बस में।


.
.
.
.
.
.
.
दुकान का मालिक (सेल्समैंन से)- कोई भी चीज बेचते हुए उसके गुणो का
बार-बार बखान करो। एक बार से काम न चले, तो दूसरी बार करो। फिर
तीसरी... चौथी बार बताओ। यहां तक दोहराओ कि ग्राहक के दिमाग में
तुम्हारी बात बैठ जाए। अच्छा बताओ, तुम क्या कहना चाहते हो।
सेल्समैंन (मालिक से)- मैं चाहता हूं कि आप मेरा वेतन बढ़ा दीजिए...
बढ़ा दीजिए।


.
.
.
.
.

ग्राहक (दुकानदार से)- तुम्हारी ब्रेड बहुत खराब होती है।
दुकानदार (ग्राहक से)- जनाब, मैं तब से ब्रेड तैयार कर रहा हूं, जब आप
पैदा भी नहीं हुए होगे।
ग्राहक (दुकानदार से)- यह तो ठीक बताया आपने, पर तब की ब्रेड अब
क्यों बेच रहे है?


.
.
.
.
.
.
होटल में खाना खाते ही एक साहब का मूड बिगड़ गया। उन्होने मैंनेजर
को बुलवाया। मैंनेजर ने आते ही पूछा- सर! क्या बात है?
साहब गुस्से से बोले- आपके यहां ऐसा खाना बनता है, जिसे गधे भी नहीं
खा सकते।
मैंनेजर ने बैरे को बुलाकर कहा- फौरन ऐसा खाना लाओ, जिसे गधे भी
खा सकें।

.
.
.
.
.
.

पत्नी (पति से)- जानते हो संगीत में कितनी शक्ति होती है?
पति (पत्नी से)- कितनी?
पत्नी (पति से)- संगीत में इतनी शक्ति है कि पानी गरम हो सकता है।
पति (पत्नी से)- अरे भई, जब तुम्हारा गाना सुन कर मेरा खून खौल
सकता है,तो पानी क्या चीज है।


.
.
.
.
.
.
पहली महिला (दूसरी महिला से)- हमारा कुत्ता बहुत समझदार है। वह
रोज सवेरे हमारा अखबार उठाकर हमारे घर लाता है।
दूसरी महिला (पहली महिला से)- लेकिन हमारा कुत्ता उससे भी ज्यादा
समझदार है। वह अपना नहीं,बल्कि दूसरो का अखबार उठाकर लाता है।


.
.
.
.

शेर (बूढ़े व्यक्ति से)- आज मैं तुम्हारा खून पी जाऊंगा।
बूढ़ा व्यक्ति (शेर से)- मेरा खून तो ठंडा हो गया है। देखो एक नौजवान आ
रहा है, उसका गर्म खून पिओ।
शेर (बूढ़े व्यक्ति से)- आज गर्मी बहुत है। मैं कोल्ड ड्रिंक पीना चाहता हूं।
-->

No comments:

Post a Comment