Saturday, 11 May 2013

हनुमान और उनकी ?? पत्नी सुवर्चला का मंदिर ........................52113

हनुमान और उनकी ?? पत्नी का मंदिर
 


संकट मोचन हनुमान जी के ब्रह्मचारी रूप से तो सभी वाकिफ हैं.. तभी तो उन्हें बाल ब्रम्हचारी भी कहा जाता है लेकिन क्या अपने कभी सुना है की हनुमान जी की बाकायदा शादी भी हुवी थी और उनका उनकी पत्नी के साथ एक मंदिर भी है जिसके दर्शन के लिए दूर दूर से लोग आते हैं.. कहा जाता है की हनुमान जी के उनकी पत्नी के साथ दर्शन करने के बाद घर मैं चल रहे पति पत्नी के बीच के सारे तनाव खत्म हो जाते हैं.. पेश हैं ग्रहस्थ हनुमान जी और उनके मंदिर पर  ख़ास पेशकश

यूँ तो देश विदेश में हनुमान जी के कई मंदिर हैं जहा तरह तरह के रूप में संकट मोचन अपने भक्तो को दर्शन देते हैं.. लेकिन खम्मम जिले में बना हनुमान जी का यह मंदिर काफी मायनों में ख़ास है.. ख़ास इसलिए की यहाँ हनुमान जी अपने ब्रम्हचारी रूप में नहीं बल्कि बल्कि गृहस्थ रूप में विराजमान है .. अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ... हनुमान जी के सभी भक्त यही मानते आये हैं की वे बाल ब्रह्मचारी थे. और बाल्मीकि, कम्भ, सहित किसी भी रामायण और रामचरित मानस में बालाजी के इसी रूप का वर्णन मिलता है.. लेकिन पंडितो की माने तो उत्तर रामायण के लव कुश की कथा के बाद हनुमान जी की शादी का जिक्र आता है याहू कारन है की किसी भी रामायण में इसका उल्लेख नहीं है.. पराशर संहिता में भी इसी बात का उल्लेख है.. जिसके अधर पर पंडितो का दावा है की भले ही सभी सदा से ये मानते आए हैं कि मां अंजऩी के लाल, केसरी नंदन और भगवान श्रीराम के अनन्य भक्त महावीर हनुमान बाल ब्रह्मचारी थे। किंतु ये पूर्ण रुप से सत्य नहीं है। हनुमान जी ने बाकायदा विधि विधान से विवाह किया था और उनकी पत्नी भी थी। इसका सबूत है आंध्र प्रदेश के खम्मम ज़िले में बना एक खास मंदिर जो प्रमाण है हनुमान जी की शादी का। इस मंदिर में भगवान बजरंगबली अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ विराजते हैं। ये मंदिर याद दिलाता है रामदूत के उस चरित्र का जब उन्हें विवाह के बंधन में बंधना पड़ा था। लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि भगवान हनुमान बाल ब्रह्मचारी नहीं थे। पवनपुत्र का विवाह भी हुआ था और वो बाल ब्रह्मचारी भी थे। किंतु कुछ विशेष परिस्थियों के बन जाने पर बजरंगबली को सुवर्चला के साथ विवाह के बंधन में बंधना पड़ा। खम्मम ज़िले में बना ये मंदिर याद दिलाता है त्रेता युग की उस घटना की जब हनुमान जी ने भगवान सूर्य को अपना गुरु बनाया था। हनुमान, तेज़ी से सूर्य से अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे थे... सूर्य कहीं रुक नहीं सकते थे इसलिए हनुमान जी को सारा दिन भगवान सूर्य के रथ के साथ साथ उड़ना पड़ता और भगवान सूर्य उन्हें तरह-तरह की विद्याओं का ज्ञान देते। लेकिन हनुमान को ज्ञान देते समय सूर्य के सामने एक दिन धर्मसंकट खड़ा हो गया। कुल ९ तरह की नेविकरानी विद्या में से हनुमान को उनके गुरु ने पंचवीर्यकरण यजअणि पांच तरह की विद्या तो सिखा दी लेकिन बाकि बची चार तरह की विद्या विद्याएं और ज्ञान ऐसे भी थे जो केवल किसी विवाहित को ही सिखाए जा सकते थे... किंतु हनुमान पूरी शिक्षा लेने का प्रण कर चुके थे और इससे कम पर वो मानने को राजी नहीं थे। इधर भगवान सूर्य के सामने संकट ये भी था कि वो धर्म के अनुशासन के कारण किसी अविवाहित को कुछ विशेष विद्याएं नहीं सिखला सकते थे। ऐसी स्थिति में सूर्य देव ने हनुमान को विवाह की सलाह दी.. और अपने प्राण को पूरा करने के लिए हनुमान भी विवाह सूत्र में बंधकर शिक्षा ग्रहण करने को तैयार हो गए। लेकिन हनुमान के लिए दुल्हन कौन हो और कहा से वह मिलेगी इसे लेकर सभी चिंतित थे.. ऐसे में सूर्य ने ही अपने शिष्य हनुमान को राह दिखलाई। भगवान सूर्य ने अपनी परम तपस्वी और तेजस्वी पुत्री सुवर्चला को हनुमान के साथ शादी के लिए तैयार कर लिया। इसके बाद हनुमान ने अपनी शिक्षा पूर्ण की और सुवर्चला सदा के लिए अपनी तपस्या में रत हो गई। इस तरह हनुमान भले ही शादी के बंधन में बांध गए हो लेकिन शाररिक रूप से वे आज भी एक ब्रह्मचारी ही हैं पराशर संहिता में तो लिखा गया है की खुद सूर्य ने इस शादी पर यह कहा की यह शादी ब्रह्मांड के कल्याण के लिए ही हुवी है और इससे हनुमान का ब्रह्मचर्य भी प्रभावित नहीं हुवा.. यानी की हनुमान का बाल ब्रह्मचारी होने का व्रत भी बच गया। आंध्र प्रदेश में खम्मम के प्राचीन मंदिर में हनुमान जी अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ विराजमान हैं। उस मंदिर में दोनों की साथ-साथ पूजा होती है। सुवर्चला और बजरंगबली ऐसे दंपत्ति के उदाहरण हैं जिन्होंने एक दूसरे की खुशियों और कार्यसिद्धि के लिए अविस्मरणीय त्याग दिया साथ ही एक दूसरे के सच्चे पूरक होने का सच्चा प्रमाण भी दिया। इसीलिए खम्मम के मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां आने वाले विवाहित जोड़ों पर हनुमान जी और मां सुवर्चला का परम आशीर्वाद बरसता है और उनके दांपत्य जीवन में कभी विघ्न नहीं आते।यही करण है की दूर दूर से लोग यहाँ हनुमान के इस स्वरूप के दर्शन के लिए आते हैं.. यह पाराशर संहिता में कहा गया है कि सूर्य ने ज्येष्ठा सूद दशमी पर अपनी बेटी सुवर्चला की शादी की पेशकश की. यह नक्षत्र उत्तरा में बुधवार की थी. ज्येष्ठा सूद दसमी दिन हनुमान विवाह के बारे में "हनुमत कल्याणं " में भी लिखा है! ,,
सुप्रभात जय श्री बालाजी
-->

No comments:

Post a Comment