Popads

Sunday, 24 March 2013

होली गीत....................33213

होली का पावन पर्व दस्तक दे रहा है / 
आपको इस अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ प्रेषित करते हुए बहुत ही हर्ष की अनुभूति हो रही है /                                                          
 आपका मंगल हो ,शुभ हो / मेरी दिल से कामना है /
इस अवसर पर एक होली गीत प्रस्तुत कर रहा हूँ /
                                         बृज की होली
                              ---------------------
           1 -  बृज में होली का त्यौहार ,
                  मंद २ बह रही  बयार /
                  विदा हुई शिशिर यामिनी ,
                  फूली न समाय रही कामिनी /
                 
            2 -  लहलहा रहीं कनक बालीं ,
                  उमग़ उल्लास भरी आली /
                  पीली सरसों से सजी अवनि ,
                  इठिलाय रही गहना पहिन /
                  
            3 -  रंगों का यह पावन  पर्व ,
                  दर किनार गर करें गर्व/
                 काम ,क्रोध लोभ ,मत्सर ,
                 होली खेलें सब मिलकर /

           4 -  हो रही विविध रंग बौछार ,
                  मधुर गीत गा रहीं नार /
                  नगाड़ों पर पड़ रही थाप ,
                  रुके कदम उठ रहे आप /

            5 -  चहुँ  दिक् छाया, अबीर गुलाल ,
                  पीला, हरा, गुलाबी, लाल /
                  गोरी के हुए लाल  गाल ,
                  भीजा तन चुनरी ,मुन्नी बेहाल /

          6-   मल रहे गुलाल ,ढिंग ठाड़ बैठ ,
                जीजा  साली  की  रेंट  पैठ /
                 उर मैं हुई कुछ ,उठा पटक ,
                 क्यों जीजा रहे ,अधिक मटक /

            7 -  जिज्जी को लगा दाल में काला ,
                  घोंटे भांग ,पिछवाडे साला /
                  चहूँ ओर होली का हुल्लड़ ,
                  पीकर भांग ,फूट रहे कुल्लड /

            8 -  मनचले मल रहे, तन पे खाक़ ,
                  सड़कों पर घूम रहे बेबाक /
                  लड़खड़ाए ,बोल और चाल ,
                  कुछ जाय पड़े ,किनारे ताल /

            9 -   बरसाने में भंज रहे लट्ठ ,
                   बढ चल सखी तू फटाफट /
                   कोई तो मोय बतलादे पथ ,
                   जीया में हो रही धक्धक् /

           10 -   नंद गाँव के प्यारे हुरियारे ,
                    कर में ढाल लिये ठाडे /
                    ज्योंत्यों बचाय रहे निज अंग ,
                    बरस रहे दुई ,दंड  - रंग /

            11-  आ चल लखें ,निज गोकुल धाम ,
                    हो रहा फ़ाग ,छाई घटा श्याम /
                    बरसे   रंग   बिरंगौ  नीर ,
                    उड़ रहा घना ,गुलाल अबीर /

            12 -   तन चीर चिरे ,पड़े कोड़ा ,
                     भाजत फिरत गाँव के छोरा /
                     पाछे 2 गाँव  विधूटी ,
                     भागे सब, घिग्गी छूटी /

            13 -  अब भूख लगी ,कुछ खाले सखी ,
                     गूंजे पपड़ी की प्लेट रखी /
                     ले कर में दोना ,दहीबड़ा ,
                     तक रहा रसगुल्ला रस में पड़ा /

            14 -   पिये जलजीरा ,दुई करुआ ,
                     मस्त घूम रहे ,अलुआ -ठलुआ /
                     उदर भर गयो ,चकाचक्क ,
                     निज गात देख ,भयो रंग फ़क्क /

             15 -  चुचक गाल ,संग पिचक गात ,
                      अंखियन से हूँ कम दिखात /
                      मनमौजी कैसी आदम जात ,
                      होली खेलत नहीं अघात /

              16 -   ढ़रि आई शाम ,चली आली ,
                       घर राह पकड़ी , मतवाली /
                       पट्टोजी कर रहे मनुहार ,
                       जननी न हो कभी शर्मसार /
विनोद पट्टोज़ी 
(Brij Sharda Sharda Nursing Home Agra)
-->

No comments:

Post a Comment