Thursday, 21 March 2013

डार्लिंग चाय तो पी लो................32413

डूबते हुए आदमी ने
पुल पर चलते हुए आदमी को
आवाज़ लगायी "बचाओ बचाओ"
पुल पर चलते आदमी ने नीचे
रस्सी फेंकी और कहा आओ...

नदी में डूबता हुआ आदमी
रस्सी नही पकड़ पा रहा था
रह रह कर चिल्ला रहा था
मैं मरना नही चाहता
जिन्दगी बड़ी महंगी है
कल ही तो मेरी एक MNC में नौकरी लगी है....
इतना सुनते ही पुल पर चलते
आदमी ने अपनी रस्सी खींच ली
और भागते भागते वो MNC गया
उसने वहाँ के HR को बताया की
अभी अभी एक आदमी डूबकर मर गया है
और इस तरह आपकी कंपनी में
एक जगह खाली कर गया है...
में बेरोजगार हूँ मुझे ले लो...
HR बोली दोस्त तुमने देर कर दी,
अब से कुछ देर पहले
हमने उस आदमी को लगाया है
जो उसे धक्का दे कर
तुमसे पहले यहाँ आया है !!! 
.
.
.
.
.
.
..
..
..
शादी के बाद...

अभी शादी का पहला ही साल था,
ख़ुशी के मारे मेरा बुरा हाल था,
खुशियाँ कुछ यूं उमड़ रहीं थी,
की संभाले नही संभल रही थी..

सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना
थोडा शरमाते हुये हमें नींद से जगाना,
वो प्यार भरा हाथ हमारे बालों में फिरना,
मुस्कुराते हुये कहना की...

डार्लिंग चाय तो पी लो,
जल्दी से रेडी हो जाओ,
आप को ऑफिस भी है जाना...

घरवाली भगवान का रुप ले कर आयी थी,
दिल और दिमाग पर पूरी तरह छाई थी,
सांस भी लेते थे तो नाम उसी का होता था,
इक पल भी दूर जीना दुश्वार होता था...

५ साल बाद........

सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना,
टेबल पर रख कर जोर से चिल्लाना,
आज ऑफिस जाओ तो मुन्ना को
स्कूल छोड़ते हुए जाना...

सुनो एक बार फिर वोही आवाज आयी,
क्या बात है अभी तक छोड़ी नही चारपाई,
अगर मुन्ना लेट हो गया तो देख लेना,
मुन्ना की टीचर्स को फिर खुद ही संभाल लेना...

ना जाने घरवाली कैसा रुप ले कर आयी थी,
दिल और दिमाग पर काली घटा छाई थी,
सांस भी लेते हैं तो उन्ही का ख़याल होता है,
अब हर समय जेहन में एक ही सवाल होता है...

क्या कभी वो दिन लौट के आएंगे,
हम एक बार फिर कुंवारे हो जायेंगे.... ...!  
.
.
.
.
.
.
..
..

कान्तिभाई (सड़क किनारे खडे एक राहगीर से) :
नीली जीन्स पहने उस छोटे बाल वाले व्यक्ति को देखो तो । लड़का है या लडकी?

राहगीर : वो लडकी है और मेरी बेटी है

कान्तिभाई : माफ़ कीजिये मुझे पता नही था की आप उसके पिता है।

राहगीर : पिता ? में उसकी माँ हूँ ! 
.
.
.
.
.
.
..
..
..

Ladies And Gentlemen,
India हमारी Country है,
और हम है इंडिया के Citizen,
इसलिये हिंदी बोलना हमारी Duty है,
पर बेचारी हिंदी की किस्मत ही फूटी है,
आज कि Young Generation Whenever माउथ खोलती है,
Only And Only English ही बोलती है,
Person कि Ability को English से तौलती है,
तब हमारा सिर Shame से झुक जाता है,
And Heart Deep वेदना से भर जाता है,
ये सब Very Wrong है,
In Reality देशद्रोह है, ढोंग है,
हमे अपनी Daily Life में हिंदी Language को लाना है,
Worldwide फैलाना है,
Then And Only Then,
हमारी भारत माता के,
Dreams होंगे सच,
Thank You All Very Very Much.
.
.
.
.
.
..
..
..
..

संता के घर लडकी ने जनम लिया
बंता: जब लडकी बड़ी होगी तो लड़के इसे छेड़ेंगे
संता: मैंने इसका इन्तजाम कर लिए है
बंता: क्या किया
संता: लडकी का नाम दीदी रख दिया है


संता : यार, मैं अपनी गर्ल फ्रेंड नु गिफ्ट देना है की देवाँ ??
बंता : गोल्ड रिंग दे दे
संता : नै यार, कोई बड़ी चीज़ दस
बंता : MRF दा टायर दे दे



संता स्कूल आता है 1 काला और 1 सफ़ेद जूता पहनकर ।
टीचर - घर जाओ और जूते बदल कर आओ
संता - टीचर कोई फ़ायदा नही वहा भी एक काला और एक सफ़ेद जूता ही रखा है
-->

No comments:

Post a Comment