Popads

Tuesday, 5 February 2013

Hindi jokes & jokes.........15413

रंगलाल के बेटे नंगलाल को लू लग गई

और लू के चलते दस्तें लग गईं........

डाक्टर - बोलो........क्या तकलीफ है ?

रंगलाल - जी मेरे बेटे को दस्तें लग रही हैं पतली पतली.......

डाक्टर - पतली ...कितनी पतली ?

रंगलाल - पतली पतली जी.............

डाक्टर - हाँ हाँ लेकिन कितनी पतली ?

इतनी पतली डाक्टर साहेब कि आप चाहें तो उन से

कुल्ले कर सकते हैं

अब की बार नंगलाल ने जवाब दिया

.
.
.
.
.
.
.
.
..
..
 



नब्बे वर्ष की एक बुज़ुर्ग महिला
अस्पताल में स्वास्थ्य लाभ ले रही थी ।जब वह कुछ ठीक हुई तो उसने अपनी मुख्या चिकित्सिका से पूछा- आपको कितने बच्चे हैं डॉ० साहिबा ?डॉक्टर - बच्चे नहीं हैं माताजी..............बुज़ुर्ग - क्यों ? शादी नहीं हुई आपकी ?डॉक्टर - शादी तो हुए 6 साल होगये ....लेकिन बच्चे पैदा करने कासमय ही नहीं मिला। क्योंकि मेरे पति बहुत बड़े वकील हैं । बहुत व्यस्त रहते हैं , यहाँ मैं रात-दिन व्यस्त रहती हूँ । इस कारण न तो टाइम मिलता है न ही मूड बनता है बच्चे पैदा करने का ।बुज़ुर्ग - बुरा नहीं मानना dauktor sahiba, mere 8 bete hain,4 betiyan hain, beton aur betiyon ke kul mila ke79 bete -betiyan hain aur unme bhikayiyon ke kai -kai bacche hain ......total 113 logon kahamaara kunba hai ....aur jaante ho ye poora parivarkhadaa karne me mujhe aur mere pati kokitna samay laga hoga ?
_____zyada se zyada 60 minut .... HA HA HA HA HA HA

.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
डाक्टर साहेब

पिछले 10 साल से

लगातार

मुझे चूना लगा रहे हैं

लेकिन अभी भी

कैल्शियम की कमी बता रहे हैं.... हा हा हा हा

.
.
.
.
.
.
..
..
 मरीज़ : डाक्टर साहेब,

चेहरे
की प्लास्टिक सर्जरी का कितना खर्च आएगा ?


डाक्टर : पाँच लाखमरीज़ : प्लास्टिक मैं ला के दूँ तो ?

डाक्टर : दस रूपये कम दे देना.........हा हा हा हा हा

.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
नंगलाल ने नया नया भोजनालय खोला तो मुहूर्त के दिन रंगलाल भी

वहां गया और उसने खाना भी खाया । खाना खा कर रंगलाल ने सोचा

कि आज बेटे की दूकान का पहला दिन है, उसकी बोहनी खराब न हो

इसलिए थाली के पैसे दे देना चाहिए लेकिन नंगलाल चूँकि उसका बेटा है,

इसलिए पैसे वह लेगा नहीं, सो रंगलाल ने थाली के नीचे पचास का नोट

रख दिया जिसे नंगलाल ने देख लिया।


नंगलाल - नहीं पापा नहीं, ऐसा मत करो, ये नहीं चलेगा ..........

रंगलाल - रख ले बेटा रख ले...आज पहला दिन है....

नंगलाल - इसीलिए कह रहा हूँ कि ये नहीं चलेगा, आपने रखे हैं पचास

रूपये और माल खाया है एक सौ तीस का..........

.
.
.
.
.
.
.
.
..
..

एक केले वाले से पूछा - केले क्या भाव दिए ?


वो बोला- बीस रूपये दर्जन............

मैंने कहा - कुछ कम करो भाई........

कमबख्त ने दो केले ही कम कर दिए..........हा हा हा हा हा हा

.
.
.
.
.
.
..
..

कुत्ते वाला - ले जाओ बहिनजी, ले जाओ.....
बहुत अच्छा कुत्ता है ..खानदानी और समझदार
कुत्ता है ....ले जाओ सिर्फ़ दो सौ रुपयों में .........
महिला - नहीं भाई, ले तो जाऊं लेकिन,
मेरे पति को कुत्ते पसन्द नहीं हैं
कुत्ते वाला - ले जाओ बहिनजी लेजाओ,
पति तो हज़ारों मिल जायेंगे,
ये कुत्ता आपके हाथ से निकल गया
तो दोबारा नहीं मिलेगा ................हा हा हा हा हा हा हा 

.
.
.
.
.
.
..
..
 कहते हैं जोड़ियाँ स्वर्ग में बनती हैं,

बनती होंगी भाई...हमें क्या ?

लेकिन स्वर्ग में बनी जोड़ियाँ भी

तब तब फेल हो जाती हैं

जब जोड़ी बेमेल हो जाती है



अभी कल की ही बात है

मैं आपको बताता हूँ

एक दृश्य दिखाता हूँ


मेरे घर के एक मच्छर चिरंजीव चना ने

पडौस की एक मक्खी आयुष्मती रचना से

प्यार प्यार में कर ली शादी बाकायदा

लेकिन मच्छर को इसमें क्या फायदा ?

सुहागरात को ही सारी खुशियाँ खो गई

दूल्हा चना अमूल दूध पी कर आया तब तक

दुल्हन रचना ओडोमॉस लगा कर सो गई...........
-->

No comments:

Post a Comment