Friday, 4 January 2013

Sir , I am not happy with my wife ........1713

देवी-

तीन ‍महिलाएं मरणोपरांत स्वर्ग पहुंचीं। उनमें एक संपन्न परिवार की समाजसेविका थी। लोग उन्हें देवी की तरह पूजते थे। एक मध्यमवर्गीय नौकरीपेशा महिला थी व एक निम्न श्रेणी की महिला थी, जो जिंदगीभर अपने शराबी पति के हाथों पिटती रही थी।

भगवान ने उन तीनों से एक सवाल किया, 'सुना है, पृथ्वी पर लोग स्त्री को देवी के समान मानते हैं व उसकी पूजा करते हैं। क्या यह सच है?'

इस पर संपन्न परिवार की महिला, जिसने अपना जीवन समाजसेवा में ही बिता दिया था, बोली, 'हां प्रभु! मेरे लिए तो लोग कहते थे कि ये तो देवी है, देवी।'

मध्यमवर्गीय महिला बोली, 'मेरे साथ तो ऐसा कुछ नहीं होता था।' फिर कुछ सोचकर बोली, 'अंऽऽऽऽ... शायद देवी तो वे भी मुझे समझते थे, क्योंकि जब मैं दफ्तर से घर आती थी तो पड़ोसिनों के साथ बैठी मेरी सास कहती थी- 'चलती हूं, देवीजी आ गई।'

निम्न वर्ग की महिला बोली, 'भगवान! मैं तो कुछ किताब-अक्षर बांची हुई नहीं हूं और ये बातें समझती नहीं लेकिन जब मेरा मरद मुझे लात-घूंसों से मारता था तो अड़ोसी-पड़ोसी कहते थे- आज फिर बेचारी की पूजा हो रही है और जब एक दिन मैंने गुस्से में आकर सिल से उसका सिर फोड़ दिया तो लोग कहने लगे- आज तो यह साक्षात चंडी देवी लग रही है।'
.
.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
एक बार ek ladke को एक करोडपति बाप की इकलौती बेटी से प्यार हो जाता है तो वह शादी का प्रस्ताव लेकर लड़की के घर जाता है!

जैसे ही वह लड़की के घर पहुँचता लड़की का बाप उस से पूछता है;

लड़की का बाप: अगर मेरी लड़की गरीब बाप की बेटी होती तो क्या फिर भी तुम उसे प्यार करते?

लड़की के बाप की बात सुन कर us ने उसे पटाने के लिए बड़े ही फ़िल्मी स्टाइल में जवाब दिया!

' जी हाँ बेशक!'

लड़की का बाप: तुम जा सकते हो, मैं अपनी बेटी का विवाह तुमसे नहीं करूंगा, क्योंकि मुझे अपने परिवार में मूर्खों की संख्या नहीं बढ़ानी है!
.
.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
एक बार एक आदमी डॉक्टर के पास गया और बोला;

आदमी: डॉक्टर साहब, मैं बहुत परेशान हूँ, जब भी मैं बिस्तर पर लेटता हूँ तो मुझे लगता है की बिस्तर के नीचे कोई है। जब मैं बिस्तर के नीचे देखने जाता हूँ तो लगता है ऊपर कोई है। नीचे, ऊपर, नीचे, ऊपर यही करता रहता हूँ, सो नहीं पता। मेरा अच्छा सा इलाज़ कीजिये नहीं तो मैं पागल हो जाऊंगा।

डॉक्टर: तुम्हारा इलाज़ लगभग दो साल तक चलेगा, तुम्हे हफ्ते में तीन बार आना पड़ेगा, और अगर तुमने मेरे बताये अनुसार इलाज़ किया तो तुम बिलकुल ठीक हो जाओगे।

आदमी: डॉक्टर साहब, पर आपकी फीस कितनी होगी?

डॉक्टर: 100 रुपये एक बार आने के और 200 रुपये एक महीने की दवाई के।

आदमी गरीब था, इसीलिए फिर आने का कह कर चला गया।

6 महीने बाद वही आदमी डॉक्टर को सड़क पर घूमते हुए मिला तो डॉक्टर ने उस से पूछा," क्यों भाई, तुम अपना इलाज़ करवाने क्यों नहीं आये?"

आदमी: "डॉक्टर साहब जिस इलाज के आप 300 रुपये मांग रहे थे, वह मेरे पडोसी ने सिर्फ 20 रूपए में कर दिया"।

डॉक्टर ने हैरानी से पूछा: अच्छा वो कैसे?

आदमी: "जी वो एक बढई है, और उसने मेरे पलंग के चारो पाँव सिर्फ 5 रुपये प्रति पाँव के हिसाब से काट दिए"।
.
.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
एक बार एक आदिवासी बाप-बेटा शिकार पे गए।

एक पतली सी औरत को देख कर बेटे ने पूछा, "पापा इसे खा ले?"

पिता: नहीं इस से हम दोनों का पेट नहीं भरेगा।

आगे गए तो एक मोटी औरत नज़र आई।

बेटा: पापा इसे खा ले?"

पिता: नहीं, इस में मोटापा बहुत है, कोलेस्ट्रॉल बढ़ जायेगा।

भूख से निढाल बच्चे को एक बहुत सुन्दर लड़की नज़र आई।

बेटा: पापा, ये बिलकुल ठीक है इसे खा लेते है।

पिता: "नहीं बेटा, इसे घर ले जाते है और तेरी मम्मी को खा लेते है"
.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
Court me Golu talaak ke liye gaya .............
Golu judge se bola :- Sir , I am not happy with my wife .....
To Patni Boli :- Kamine , sara mohalla khush hai bus
tere hi nakhre hai ......... :) :)
.
.
.
.
.
.
.
..
..
 
Dipu-Tum mere paise kab tak lauta doge?
.

P@ppu-Mujse kyo punChhte ho?
Me kya jyotishi hun...
-->

No comments:

Post a Comment